Ranjeet Bhartiya 12/08/2019

अयोध्या (फैजाबाद) भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. उत्तर प्रदेश के मध्य-पूर्व भाग में आने वाला यह जिला अयोध्या (फैजाबाद) प्रमंडल के अंतर्गत आता है. इस प्रमंडल के अंतर्गत कुल 5 जिले आते हैं: अयोध्या, बाराबंकी, अमेठी, सुल्तानपुर और अंबेडकरनगर. अयोध्या शहर (फैजाबाद) अयोध्या प्रमंडल और अयोध्या जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है. यह जिला हिंदू धर्मावलंबियों के लिए एक पवित्र तीर्थस्थल है. महाकाव्य रामायण के अनुसार, भगवान विष्णु के सातवें अवतार मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का यही जन्म हुआ था. भगवान श्री राम की जन्मस्थली होने के कारण अयोध्या को हिंदुओं के लिए 7 सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों (मोक्षदायिनी सप्तपुरीयों) में से एक माना गया है. जिले में कितने तहसील है? कितनी जनसंख्या है? आईये जानते हैं अयोध्या जिले की पूरीजानकारी.

अयोध्या का पुराना नाम

2018 में उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या(भगवान राम की जन्म स्थली होने के सम्मान मे) कर दिया.

अयोध्या जिला कब बना

आधुनिक अयोध्या (फैजाबाद) की स्थापना बंगाल के नवाब अली वर्दी खान ने 1730 में किया था. फैजाबाद शहर की नींव अवध के दूसरे नवाब सआदत खान ने रखा था. उनके उत्तराधिकारी नवाब शुजाउद्दौला ने बाद में इसे अवध की राजधानी बनाया.

अयोध्या जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
यह जिला कुल 6 जिलों से घिरा हुआ है.
उत्तर में-गोंडा जिला और बाराबंकी जिला
दक्षिण में-अमेठी जिला और सुल्तानपुर जिला
पूरब में-बस्ती जिला और अंबेडकर नगर जिला
पश्चिम में-बाराबंकी जिला और अमेठी जिला

समुद्र तल से ऊंचाई
फैजाबाद ,समुद्र तल से लगभग 97 मीटर (318 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 2341 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां:
अयोध्या, घाघरा नदी (जिसे अयोध्या में सरयू के नाम से जाना जाता है) के तट पर स्थित है.
जिले की प्रमुख नदियां हैं: घाघरा, गोमती, मड़हा, तमसा बिसुही और कल्याणी.

अर्थव्यवस्था-कृषि, उद्योग और उत्पाद

जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, मछली पालन, वन, खनिज, उद्योग, व्यवसाय और पर्यटन पर आधारित है.

कृषि

इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, मक्का, गेहूं, दलहन (अरहर, उड़द, मसूर, मूंग, चना और मटर), आलू, तंबाकू, हल्दी और सब्जियां. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फल हैं: आम अमरूद आंवला पपीता और केला.

पशुपालन

ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन जिले के लोगों के लिए अतिरिक्त आय का जरिया है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: गाय, बैल, भैंस, सूअर, भेड़, बकरी और पोल्ट्री.

मछली पालन

जिले के नदियों, नहरों, तालाबों, टैंको और जलाशयों से प्रचुर मात्रा में विभिन्न प्रकार के मछली का उत्पादन किया जाता है.

वन

जिले में पाए जाने वाले प्रमुख वन उत्पाद हैं: टीक, हलादु, साल, शीशम, बबूल, आम, महुआ, नीम और जामुन.

खनिज

यह जिला खनिज से समृद्ध नहीं है. जिले में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं: बालू, कंकर और रेह.

उद्योग

अयोध्या जिला फुटवियर उद्योग के लिए प्रसिद्ध है. जिले में स्थित प्रमुख बड़े उद्योग हैं: फुटवियर उद्योग, चीनी मिल, तेल मिल, पेपर मिल, बॉटलर इंडस्ट्री और कृषि आधारित उद्योग.

व्यवसाय

यह जिला, कृषि उत्पादों और फुटवेयर का व्यापार केंद्र है.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: अयोध्या (फैजाबाद)
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 5 तहसीलों (अनुमंडल) और 11 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.

तहसील (अनुमंडल):
अयोध्या जिले को कुल 5 तहसीलों में बांटा गया है:
रुदौली, मिल्कीपुर, सोहावल, बीकापुर और फैजाबाद.

विकासखंड (प्रखंड):
अयोध्या जिले को 10 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है-मवई, रुदौली, अमानीगंज, सोहावल, मिल्कीपुर, हरिंगटनगंज, बीकापुर, मसौधा, पूरा बाजार, तारुन और
माया बाजार.

पुलिस थानों की संख्या: 18
नगर निगम की संख्या: 1
नगर निकायों की संख्या: 4
न्याय पंचायतों की संख्या: 129
ग्राम पंचायतों की संख्या: 729
गांवों की संख्या: 1272

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र: 2, फैजाबाद और अंबेडकर नगर (पार्ट)

विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र: 5
जिले के अंतर्गत कुल 5 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: रुदौली, मिल्कीपुर, बीकापुर, अयोध्या और गोसाईगंज. इनमें से रुदौली, मिल्कीपुर, बीकापुर और अयोध्या फैजाबाद लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं, जबकि गोसाईगंज अंबेडकर नगर लोकसभा, निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा है.

अयोध्या जिले की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार इस जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या: 24.71 लाख
पुरुष: 12.59 लाख
महिला: 12.11 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 18.29%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 1056
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 1.24%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष): 962

औसत साक्षरता: 68.73%
पुरुष साक्षरता: 78.12%
महिला साक्षरता: 59.03%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या: 13.77%
ग्रामीण जनसंख्या: 86.23%

धार्मिक जनसंख्या

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, अयोध्या एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 84.75% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 14.80% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.13%, सिख 0.08%, बौद्ध 0.03%, जैन 0.01% और अन्य 0.01% हैं.

भाषाएं
जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी, अवधी और उर्दू.

अयोध्या दर्शनीय स्थल

इस जिले में, पौराणिक, धार्मिक, पुरातात्विक और ऐतिहासिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थल हैं. जिले में स्थित प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

श्री नागेश्वरनाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह प्राचीन मंदिर सरयू नदी के तट पर राम की पैड़ी में स्थित है. ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर का निर्माण भगवान राम के पुत्र कुश ने करवाया था.

देवकाली

यह मंदिर अयोध्या के प्रमुख शक्तिपीठों में से एक है. इस प्राचीन मंदिर का उल्लेख महाकाव्य रामायण में मिलता है.ऐसी मान्यता है कि मां बड़ी देवकाली रघुवंशियों की कुलदेवी हैं. मां छोटी देवकाली के बारे में मान्यता है कि विवाह के उपरांत जब माता सीता अयोध्या आई तो अपने साथ देवी गिरजा की मूर्ति लाई थी. भगवान राम के पिता राजा दशरथ ने देवी गिरिजा की इस मूर्ति को एक मंदिर बनाकर उसमें स्थापित किया था, जिसे छोटी देवकाली के रूप में जाना जाता है.

राम की पैड़ी

राम की पैड़ी अयोध्या में सरयू नदी के तट पर घाटों की एक श्रृंखला है. ऐसी मान्यता है कि यहां सरयू नदी में स्नान करने से पापों से मुक्ति मिलती है.

जैन श्वेतांबर मंदिर

पवित्र धार्मिक नगरी अयोध्या को 5 जैन तीर्थंकरों की जन्म स्थली होने का गौरव प्राप्त है. जिले में स्थित जैन श्वेतांबर मंदिर जैन धर्मावलंबियों के लिए पवित्र तीर्थ स्थल है.

गुलाब बाड़ी

अयोध्या शहर से लगभग 7 किलोमीटर दूरी पर स्थित यह ऐतिहासिक स्थल अवध के नवाब शुजाउद्दौला और उनके परिवार का मकबरा और स्मारक है. गुलाब बाड़ी का अर्थ है- “गुलाबों का बाग”. कहा जाता है कि नवाब शुजाउद्दौला को गुलाब के फूल अत्यंत प्रिय थे, इसीलिए उनके मृत्यु के पश्चात उनके मकबरे के चारों तरफ विभिन्न प्रकार के गुलाबों का बगीचा लगाया गया था.

कनक भवन मंदिर

भगवान राम और माता सीता को समर्पित यह प्राचीन मंदिर राम जन्म भूमि के उत्तर पूर्व में स्थित है. यह मंदिर अपनी कलाकृति, भव्यता और पवित्रता के लिए प्रसिद्ध है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, यह महल भगवान श्री राम और माता सीता के विवाह के उपरांत भगवान राम की सौतेली माता रानी कैकई ने माता सीता को मुंह दिखाई में उपहार के रूप में दिया था.

हनुमानगढ़ी

भगवान हनुमान को समर्पित यह प्रसिद्ध मंदिर अयोध्या रेलवे स्टेशन से लगभग 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. ऐसी मान्यता है कि यहां हनुमान जी के दर्शन-पूजन से ग्रह दोष नष्ट होते हैं, सफलता-समृद्धि मिलती है तथा सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.

बहू बेगम का मकबरा

इस ऐतिहासिक मकबरे का निर्माण अवध के नवाब शुजाउद्दौला ने अपनी बेगम उन्मातुज जोहरा बानो (बहू बेगम) की याद में करवाया था.

अयोध्या कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
अयोध्या जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है. निकटतम हवाई अड्डा: लखनऊ एयरपोर्ट (Code: LKO). यह हवाई अड्डा फैजाबाद शहर से से लगभग 143 किलोमीटर की दूरी पर बमरौली में स्थित है.दूसरा नज़दीकी हवाई अड्डा: महायोगी गोरखनाथ एयरपोर्ट, गोरखपुर.
यह हवाई अड्डा फैजाबाद से लगभग 147 किलोमीटर की दूरी पर गोरखपुर में स्थित है.

रेल मार्ग

अयोध्या, रेल मार्ग से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ तथा देश के विभिन्न भागों से अच्छे से जुड़ा हुआ है.
निकटतम रेलवे स्टेशन: फैजाबाद जंक्शन रेलवे स्टेशन (Code: FD).

सड़क मार्ग
अयोध्या, सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित सरकारी और प्राइवेट बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

अयोध्या जिले की कुछ रोचक बातें:

2011 के जनगणना के अनुसार,
1. जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में 40वां स्थान है.
2. लिंगानुपात के मामले में उत्तर प्रदेश में 11वां स्थान है.
3. साक्षरता के मामले में उत्तर प्रदेश में 38वां स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील: बीकापुर (339).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील: सोहावल (148)
6. जिले में कुल निर्जन गांवों की संख्या: 29.

Leave a Reply