Sarvan Kumar 10/03/2020
आसमान पर सितारे हैं जितने, उतनी जिंदगी हो तेरी। किसी को नजर न लगे, दुनिया की हर खुशी हो तेरी। रक्षाबंधन के दिन भगवान से बस यह दुआ है मेरी। jankaritoday.com की टीम के तरफ से रक्षाबंधन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं! Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 20/03/2020 by Sarvan Kumar

आप जब किसी के घर जाते हैं तो वहां आप एक मूर्ति देखते होंगे। यह मूर्ति आपको हंसते हुए दिखाई देते होंगे। सामान्यतः गोल्डन रंग की यह मूर्ति अलग-अलग रूप में होते हैं, कभी बैठे हुए मुद्रा में, कभी दोनों हाथ उठाकर हाथ में टोकरी लिए हुए, कभी हाथों में पोटली, माला इत्यादि लिए हुए। इन सब रूपों में जो एक बात समान है वह यह है कि यह मूर्ति आपको हंसते हुए दिखाई देते होंगे इस मूर्ति को लाफिंग बुद्धा कहा जाता है।

लोगों में ऐसी मान्यता है कि यह मूर्ति सुख- समृद्धि और खुशहाली का प्रतीक है। आइए जानते हैं लाफिंग बुद्धा कौन थे और ऊनका यह नाम क्यों पड़ा। चीन में एक शब्द है फेंगशुई इसका मतलब वही होता है जो भारत में वास्तु शास्त्र का  होता है। घर में लाफिंग बुद्धा रखना फेंगशुई के हिसाब से शुभ माना जाता है। चीनी लोग लाफिंग बुद्धा को धन का देवता मानते हैं जैसे हम यहां कुबेर को मांगते हैं।

कौन थे लाफिंग बुद्धा ?

लाफिंग बुद्धा ( Jakha Vastu/Feng Shui Religious Laughing Buddha with Money Bag ) का असली नाम होतोई है। होतोई जापान के रहने वाले थे, कहते हैं जब उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई तो वह जोर-जोर से हंसने लगे। एक बौद्ध भिक्षु के रूप में वह दूसरों को भी हंसाने और खुश रखने का मकसद बना लिया। होतोई जहां भी जाते खुद भी हंसते और दूसरों को भी हंसाते। पूरे विश्व में उनके करोड़ों प्रशंसक है लाफिंग बुद्धा के कई रूप हैं हर एक रुप का एक अपना महत्व है।

लाफिंग बुद्धा को वहां पर रखना चाहिए जहां वह घर में किसी व्यक्ति के प्रवेश करने पर दिखाई दे। घर के मुख्य द्वार पर कोने में थोड़ी ऊंचाई पर (लगभग ढाई से 3 फुट) ऊंचे स्टूल पर रखना चाहिए। थैला लिए लाफिंग बुद्धा को आप ऑफिस में रख सकते हैं इससे धन प्राप्ति का फल मिलेगा। बच्चों के साथ बैठे लाफिंग बुद्धा को घर में रखें इसे संतान प्राप्ति का फल मिलेगा।

Advertisement
Shopping With us and Get Heavy Discount
 
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद
 

Leave a Reply