Ranjeet Bhartiya 21/07/2019

गाजीपुर, भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में आने वाला यह जिला वाराणसी प्रमंडल के अंतर्गत आता है. गाजीपुर शहर, जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है. गाजीपुर में तहसीलों की संख्या कितनी है? कितनी जनसंख्या है?आईये जानते हैं  गाजीपुर जिले की पूरी जानकारी.

नामकरण

जिले का नाम इसके मुख्यालय गाजीपुर पर पड़ा है. कहा जाता है कि पहले इस स्थान का नाम गरजापुर था जो कालांतर में गाजीपुर हो गया. दूसरा मत यह है कि पहले इस स्थान का नाम “राजकुमार गदी” के नाम पर गादीपुरा था जो बाद में गाजीपुर हो गया.

गाजीपुर जिला कब बना

एक स्वतंत्र जिले के रूप में इसे 1818 में  गठन किया गया था.

गाजीपुर जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
गाजीपुर की पूर्वी सीमा बिहार से लगती है.
उत्तर में – मऊ जिला
दक्षिण में – चंदौली जिला और बिहार का कैमूर जिला
पूरब में- बलिया जिला और बिहार का बक्सर जिला
पश्चिम में – आजमगढ़ जिला, जौनपुर जिला और वाराणसी जिला

समुद्र तल से ऊंचाई :
ये शहर, समुद्र तल से लगभग 62 मीटर (203 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3377 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : गंगा, गोमती, गंगी, टोंस, मैगई, भाईसाई और कर्मनाशा.

अर्थव्यवस्था- कृषि, उद्योग और उत्पाद

इस जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, मछली पालन, वन, खनिज, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.

कृषि
जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: गेंहू, धान, बाजरा, मक्का, जुआर, , दलहन (अरहर, मसूर , उड़द, मूंग, चना और मटर), तिलहन (राई, तिल और सरसों), मसाले (हल्दी और मिर्च), गन्ना, आलू और सब्जियां.

जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फल हैं: आम, अमरूद और केला.

पशुपालन
पशुपालन जिले के लोगों के लिए अतिरिक्त आय का जरिया है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: गाय, भैंस, बैल, भेड़ और बकरी.

मछली पालन
यहां के नदियों और जलाशयों से मछली का उत्पादन होता है.

वन
गाजीपुर जिला में पाए जाने वाले प्रमुख वन उत्पाद हैं: शीशम, जामुन, महुआ और यूकेलिप्टस.

खनिज
ये जिला, खनिज संपदा से संपन्न नहीं है. यहां केवल बालू पाया जाता है जिसका उपयोग निर्माण कार्यों में होता है.

उद्योग
जिले में स्थित प्रमुख उद्योग हैं- गुलाब जल फैक्ट्री तथा अफीम फैक्ट्री. जिले में स्थित ‘ओपियम एंड अल्कलॉइड वर्क्स’ एशिया का सबसे बड़ा ओपियम फैक्ट्री है.
जिले में स्थित अन्य उद्योग हैं: स्पिनिंग मिल (कताई मिल) और कृषि आधारित औद्योगिक इकाइयां.

व्यवसाय
इस जिले से अफीम पाउडर तथा गुलाब जल का निर्यात किया जाता है.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल : वाराणसी
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 7 तहसीलों (अनुमंडल) और 16 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.

तहसील (अनुमंडल):
 जिले को 7 तहसीलों में बांटा गया है: मोहम्मदाबाद, कासिमाबाद, गाजीपुर, जखनियां, सैदपुर, जमानिया और सेवराई.

विकासखंड (प्रखंड):
इस जिले को 16 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है: गाजीपुर, मोहम्मदाबाद, बाराचवर, कासिमाबाद, मरदह, बिरनो, जखनियां, मनिहारी, सादात, सैदपुर, देवकली, करण्डा, जमानिया, भदौरा , रेवतीपुर और भांवरकोल.

पुलिस थानों की संख्या : 27
नगर पालिकाओं की संख्या : 3
नगर पंचायतों की संख्या : 5

ग्राम पंचायतों की संख्या: 1237
गांवों की संख्या: 3385

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र : 2
गाजीपुर जिला 2 लोकसभा सभा निर्वाचन क्षेत्रों का हिस्सा है – गाजीपुर और बलिया.

विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र :
 जिले के अंतर्गत कुल 7 क्षेत्र विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं- जखनियां, सैदपुर, गाजीपुर सदर, जंगीपुर, जामनिया, जहूराबाद और मोहम्मदाबाद.

गाजीपुर जिले की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार इस जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या : 36.20 लाख
पुरुष : 18.55 लाख
महिला: 17.65 लाख
जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 19.18%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 1072
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 1.81%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 952
औसत साक्षरता: 71.78%
पुरुष साक्षरता : 82.80%
महिला साक्षरता: 60.29%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 7.58%
ग्रामीण जनसंख्या: 92.42%

धर्म
2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार,  ये एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 89.32% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 10.17% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.12%, सिख 0.02%, बौद्ध 0.09%, जैन 0.01% और अन्य 0.01% हैं.

भाषाएं
जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी और भोजपुरी.

गाजीपुर जिले में आकर्षक स्थल

गाजीपुर जिले में पौराणिक, धार्मिक पुरातात्विक और ऐतिहासिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थल हैं. जिले में स्थित प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

मां कामाख्या धाम

माता भगवती को समर्पित यह प्रसिद्ध मंदिर  शहर से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर गमहर थाना क्षेत्र के गड़ाईपुर गांव में स्थित है. ऐसी मान्यता है कि मां कामाख्या सिकरवार क्षत्रिय वंश की कुलदेवी हैं. इसी वंश के राजाओं ने इसका निर्माण इस मंदिर का निर्माण 1526 ईस्वी में कराया था. मां कामाख्या इस क्षेत्र के निवासियों और अपने भक्तों को संकट और विपदाओं से रक्षा करती हैं तथा अपने भक्तों की हर मनोकामना को पूरी करती हैं.

महाहर धाम

भगवान शिव को समर्पित यह प्रसिद्ध मंदिर जिला मुख्यालय से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर मरदह में स्थित है. ऐसी मान्यता है कि इसी स्थान पर भगवान राम के पिता राजा दशरथ के बाण से श्रवण कुमार की मृत्यु हुई थी और श्रवण कुमार के अंधे माता पिता ने राजा दशरथ को श्राप दिया था. ब्रह्म हत्या के दोष से बचने के लिए राजा दशरथ ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था.

गंगा घाट

पवित्र गंगा नदी गाजीपुर होकर बहती है और सिधौना के पास गोमती से मिलती है. वाराणसी के तरह यहां भी गंगा के तट पर कई घाट बने हुए हैं.

भीतरी गांव

पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण यह स्थान गाजीपुर जिला मुख्यालय से लगभग 32 किलोमीटर की दूरी पर सैदपुर के नजदीक स्थित है. यहां आप गुप्तकालीन शिलालेख देख सकते हैं.

धामुपुर

धामुपुर गाजीपुर जिला मुख्यालय से लगभग 37 किलोमीटर दूरी पर स्थित एक छोटा सा गांव है. इसे परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के जन्म स्थान होने का गौरव प्राप्त है.

गाजीपुर कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
गाजीपुर जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है.
निकटतम हवाई अड्डा : लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट (Code: VNS).
यह हवाई अड्डा गाजीपुर से लगभग 70 किलोमीटर की दूरी पर वाराणसी के बाबतपुर में स्थित है.

दूसरा नदी की हवाई अड्डा: महायोगी गोरखनाथ एयरपोर्ट, गोरखपुर (Code:GOP).
यह हवाई अड्डा गाजीपुर से लगभग 170 किलोमीटर की दूरी पर गोरखपुर में स्थित है.

रेल मार्ग
गाजीपुर रेल मार्ग से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ तथा देश के विभिन्न भागों से अच्छे से जुड़ा हुआ है.
निकटतम रेलवे स्टेशन : गाजीपुर सिटी रेलवे स्टेशन
(Station Code : GCT) और यूसुफपुर रेलवे स्टेशन (YFP).

सड़क मार्ग
गाजीपुर सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित सरकारी और प्राइवेट बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

गाजीपुर जिले की कुछ रोचक बातें:

2011 की जनगणना के अनुसार,
1. जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में 20वां स्थान है.
2. लिंगानुपात के मामले में उत्तर प्रदेश में 14वां स्थान है.
3. साक्षरता के मामले में उत्तर प्रदेश में 19वां स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील : मोहम्मदाबाद (833).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील : जमानिया (281).
6. जिले में कुल निर्जन गांवों की संख्या : 627.

Leave a Reply