Sarvan Kumar 19/04/2019

चतरा, भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक जिला है. पठार, पहाड़ियों, घाटियों और जंगलों से आच्छादित यह जिला उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के अंतर्गत आता है. हजारीबाग पठार पर स्थित इस जिले को झारखंड का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है. चतरा शहर ,इस जिले का मुख्यालय है.चतरा जिले में कितने प्रखंड है? कितनी जनसंख्या है? आईये जानते हैं चतरा जिले की पूरी जानकारी.

चतरा जिला कब बना

एक स्वतंत्र जिला के रूप में अस्तित्व में आने से पहले यह हजारीबाग जिले का एक अनुमंडल हुआ करता था. 1991 में इसे हजारीबाग जिले से अलग करके स्वतंत्र जिला बनाया गया.

चतरा जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
ये जिला बिहार सीमा पर स्थित है.
उत्तर में – बिहार का गया जिला
दक्षिण में – रांची, लातेहार और हजारीबाग जिला
पूरब में- हजारीबाग जिला
पश्चिम में – पलामू  और लातेहार जिला

समुद्र तल से ऊंचाई :
ये जिला  समुद्र तल से लगभग 2012 फीट (लगभग 613 मीटर) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3718 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : मोहना, फल्गु, अमानत, चाको और लिलाजन, इत्यादि.

अर्थव्यवस्था- कृषि ,उद्योग और उत्पाद

इस जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, वन ,खनिज, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.

कृषि
इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले की लगभग 90% आबादी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: गेहूं , मटर, चना, मक्का, बाजरा, तिलहन, सरसों, गन्ना और मूंगफली.

वन
इस जिले का एक बड़ा हिस्सा वनों से आच्छादित है.
चतरा जिला के प्रमुख वन उत्पाद हैं: औषधीय वनस्पति, बांस, सागवान, केंदू पत्ते, सलाई, महुआ, इमली, पलाश, पीपल, कटहल, नीम, आम, खैर और जामुन, इत्यादि.

पशुपालन
पशुपालन जिले के लोगों के लिए आय का एक अतिरिक्त स्रोत है. जिले में गाय, भैंस, भेड़, बकरी और सूअर पाले जाते हैं

खनिज
इस जिले में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं:कोयला, बालू, ग्रेफाइट और पत्थर.

उद्योग
जिले में कृषि और वन सम्पदा पर आधारित छोटे-मोटे उद्योग हैं.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: उत्तरी छोटानागपुर
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 2 अनुमंडलों और 12 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल: इस जिले के अंतर्गत कुल 2 अनुमंडल हैं- चतरा और सिमरिया

प्रखंड:
इस जिले को को 12 प्रखंडों में बांटा गया है.

चतरा अनुमंडल के अंतर्गत कुल 7 प्रखंड है : चतरा, हंटरगंज, इटखोरी, कन्हाचट्टी, कुंदा, मयूरहंड और प्रतापपुर.

सिमरिया अनुमंडल के अंतर्गत कुल 5 प्रखंड हैं: सिमरिया, गिद्धौर, टंडवा, पत्थलगडा और लावालोंग.

पुलिस थानों की संख्या :15

ग्राम पंचायतों की संख्या: 154
कुल गांवों की संख्या: 1474

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा : चतरा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र. इस लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत पूरा चतरा जिला और लातेहार तथा पलामू जिले के कुछ हिस्से आते हैं.

विधानसभा
चतरा जिले के अंतर्गत कुल 2 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं : चतरा और सिमरिया.

चतरा जिले की डेमोग्राफिक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार चतरा जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या : 11.43 लाख
पुरुष : 5.33 लाख
महिला: 5.08 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 31.77%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 280
झारखंड की जनसंख्या में अनुपात: 3.16%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 953

औसत साक्षरता: 60.18%
पुरुष साक्षरता : 69.92%
महिला साक्षरता: 49.92%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 6.04%
ग्रामीण जनसंख्या: 93.96%

 चतरा जिला रिलिजन (धर्म)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, ये एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 86.60% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 11.19% है. दूसरे धर्मो की बात करें तो जिले में ईसाई 0.63%, सिख 0.09%, जैन 0.01% और अन्य 1.24% हैं.

भाषाएं
इस जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं : हिंदी, मगही, नागपुरी और खोरठा.

चतरा टूरिस्ट प्लेसेस

इस जिले में ऐतिहासिक, पुरातात्विक, धार्मिक और प्राकृतिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थान हैं. जिले में स्थित महत्वपूर्ण दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

भद्रकाली मंदिर

भद्रकाली मंदिर  जिला मुख्यालय से लगभग 35 किलोमीटर दूरी पर इटखोरी ब्लॉक में स्थित है. महाने और बक्सा नदी के संगम पर स्थित यह मंदिर इटखोरी ब्लॉक मुख्यालय से लगभग आधा किलोमीटर दूरी पर स्थित है. यह स्थान पहाड़ियों, जंगलों और जलाशयों से घिरा हुआ है . हिंदू , बौद्ध और जैन धर्मावलंबियों के लिए यह पवित्र भूमि एक धर्म संगम है. हिंदुओं  के लिए यह, मां भद्रकाली और सहस्र शिवलिंग महादेव सिद्ध पीठ के रूप में एक धार्मिक पवित्र स्थल है.

ऐसी मान्यता है कि यह भूमि भगवान गौतम बुद्ध की तपोभूमि है. ज्ञान और शांति की खोज में निकले युवराज सिद्धार्थ ने यहीं पर तपस्या किया था.

ऐसी मान्यता है कि जैन धर्म के 10 तीर्थंकर भगवान शीतलनाथ का जन्म यहीं हुआ था.

कौलेश्वरी मंदिर

पहाड़ी की चोटी पर बना यह अत्यंत प्राचीन मंदिर हंटरगंज ब्लॉक के में स्थित है.

कुंदा किला

कुंदा किला इस जिले का एक ऐतिहासिक धरोहर है. ये  किला कुंडा गांव से लगभग तीन-चार मील की दूरी पर स्थित है. इस किले का निर्माण 17वीं शताब्दी के अंत में और 18 वीं शताब्दी के शुरुआत में किया गया था. हालांकि ये किला अब खंडहर और अवशेषों में तब्दील हो चुका है.

तमासीन जलप्रपात

यह खूबसूरत जलप्रपात चतरा जिले का एक लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है . यह चतरा जिला मुख्यालय से लगभग 26 किलोमीटर की दूरी पर उत्तर-पूर्व में कन्हाचट्टी प्रखंड में स्थित है.

मालुदाह जलप्रपात

यह  झरना  जिला मुख्यालय से 8 किलोमीटर दूरी पर पश्चिम में स्थित है. इसकी ऊंचाई 50 फीट है.

डुमेर-सुमेर जलप्रपात

जिला मुख्यालय से लगभग 12 किलोमीटर दूरी पर उत्तर पश्चिम में स्थित यह खूबसूरत जलप्रपात चतरा जिले का एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है.

गोवा जलप्रपात

चतरा जिला मुख्यालय से लगभग 6 किलोमीटर पश्चिम में स्थित इस खूबसूरत झरने की ऊंचाई लगभग 30 फीट है. यह जिले का एक लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है.

बिचकिलिया जलप्रपात

यह खूबसूरत जलप्रपात चतरा जिले से 11 किलोमीटर दूरी पर पश्चिम में लिलाजन नदी के तट पर स्थित है.

अन्य जल प्रपात

चतरा जिले में स्थित अन्य जलप्रपात हैं: दुवारी जलप्रपात, खैवा बंदारू जलप्रपात, केरिदाह जलप्रपात, इत्यादि

चतरा कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
चतरा जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहाँ के लिए डायरेक्ट हवाई सुविधाएं उपलब्ध नहीं है.

निकटतम हवाई अड्डा:बिरसा मुंडा एयरपोर्ट ,रांची (Code: IXR) .
यह हवाई अड्डा चतरा जिले से लगभग 146 किलोमीटर की दूरी पर झारखंड की राजधानी रांची में स्थित है.

दूसरा नजदीकी हवाई अड्डा: जयप्रकाश नारायण एयरपोर्ट (Code: PAT). यह हवाई अड्डा चतरा जिले से लगभग 205 किलोमीटर की दूरी पर बिहार की राजधानी पटना में स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से आप आसानी से चतरा आ सकते हैं. चतरा रेल मार्ग से झारखंड के शहरों के साथ-साथ देश के अन्य भागों से जुड़ा हुआ है.
नजदीकी रेलवे स्टेशन: चतरा रेलवे स्टेशन (Code:CTR).

सड़क मार्ग
चतरा जिला नेशनल हाईवे 99 और नेशनल हाईवे 100 के क्रॉसिंग पर स्थित है. आप सड़क मार्ग से आसानी से चतरा आ सकते हैं. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

चतरा जिले के बारे में कुछ रोचक बातें:

1. जनसंख्या की दृष्टि से  झारखंड का 15वां बड़ा जिला है.

2. क्षेत्रफल की दृष्टि से  झारखंड का 10वां बड़ा जिला है.

3. जनसंख्या घनत्व के मामले में  झारखंड में 19वां स्थान है.

4. लैंगिक अनुपात के मामले में झारखंड में 11वां स्थान है.

5. हंटरगंज प्रखंड के अंतर्गत आने वाला जोरी कलान चतरा जिले का सबसे बड़ी आबादी वाला गांव है.

6. सबसे ज्यादा गांव वाला प्रखंड: हंटरगंज (270)

7. सबसे कम गांव वाला प्रखंड : पत्थलगडा (30)

8. क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे बड़ा गांव:
प्रतापपुर प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव अंगारा (क्षेत्रफल -लगभग 2747 हेक्टेयर).

9. क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे छोटा गांव:
इटखोरी प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव इटखोरी चट्टी. (क्षेत्रफल- 0.98 हेक्टेयर)

Leave a Reply