Ranjeet Bhartiya 06/05/2019

पूर्वी सिंहभूम भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक जिला है. झारखंड के दक्षिण-पूर्वी कोने में  स्थित यह जिला कोल्हान प्रमंडल के अंतर्गत आता है. इस जिले का प्रशासनिक मुख्यालय जमशेदपुर है. जमशेदपुर टाटा ग्रुप ऑफ़ कंपनीज के लिए प्रसिद्ध है. जमशेदपुर को कई नामों से जाना जाता है जैसे स्टील सिटी, टाटानगर, इंडस्ट्रियल कैपिटल औफ झारखंड  इत्यादि. इसका  नामकरण उद्योगपति जमशेदजी टाटा के नाम पर हुआ है. यहां XLRI , NIT Jamshedpur  जैसे सर्वोत्तम शैक्षिक संस्थाएं भी हैं. जुबली पार्क, टाटा स्टील जूलॉजिकल पार्क जैसे कई  आकर्षक स्थल भी है. पूर्वी सिंहभूम जिले में कितने ब्लॉक हैं? कितनी जनसंख्या है? आइए जानते हैं पूर्वी सिंहभूम जिले की पूरी जानकारी

नामकरण
कहा जाता है कि पहले इस क्षेत्र में भारी संख्या में सिंह पाए जाते थे. सिंहभूम जिले के नाम की उत्पत्ति “सिंथह+ भूम” से हुई है, जिसका अर्थ होता है “शेरों की भूमि”.

पूर्वी सिंहभूम जिला कब बना

एक स्वतंत्र जिला के रूप में अस्तित्व में आने से पहले पूर्वी सिंहभूम पुराने सिंहभूम जिले का हिस्सा हुआ करता था. 12 जनवरी 1990 को इसे पुराने सिंहभूम जिले से अलग करके एक स्वतंत्र जिला बनाया गया.

पूर्वी सिंहभूम जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
उत्तर में – पश्चिम बंगाल का पुरुलिया जिला
दक्षिण में – उड़ीसा का मयूरभंज जिला
पूरब में- पश्चिम बंगाल का पश्चिमी मेदिनीपुर जिला
पश्चिम में – सरायकेला खरसावां जिला और उड़ीसा का मयूरभंज जिला

समुद्र तल से ऊंचाई : पूर्वी सिंहभूम जिले का मुख्यालय जमशेदपुर समुद्र तल से लगभग 159 मीटर (522 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3562 वर्ग किलोमीटर है.

पूर्वी सिंहभूम जिले की प्रमुख नदियां : स्वर्णरेखा

अर्थव्यवस्था- कृषि उद्योग और उत्पाद

इस जिले की अर्थव्यवस्था कृषि वन ,खनिज, उद्योग और व्यवसाय परपर आधारित है.

कृषि
इस  जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, गेहूं, तिलहन, और सब्जियां ( फूलगोभी, पत्तागोभी, टमाटर , मूली ,गाजर , इत्यादि).

वन
पूर्वी सिंहभूम का जिले का एक बड़ा हिस्सा वनों से आच्छादित है. पश्चिमी सिंहभूम जिले के प्रमुख वन उत्पाद हैं : साल, जामुन, गामर, पलाश, सीमल, केंदू, अर्जुन, बांस, महुआ और कुसुम, इत्यादि.

खनिज
ये जिला खनिजों से समृद्ध है. पूर्वी सिंहभूम जिला में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं:  यूरेनियम, क्रोनाइट, कॉपर, क्ले, सोना, मैग्नेटाइट, मैगनीज, लाइमस्टोन , सिलिका और एस्बेस्टस.

उद्योग
खनिजों के खनन और औद्योगिक गतिविधियों की बात करें तो पूर्वी सिंहभूम जिले का झारखंड में अग्रणी स्थान है. जिले में कई भारी उद्योग स्थित है. पूर्वी सिंहभूम जिले में स्थित प्रमुख उद्योग हैं: आयरन और स्टील उद्योग, लोकोमोटिव उद्योग, कॉपर उद्योग, तंबाकू उद्योग, राइस मिल और आटा मिल, इत्यादि.

व्यवसाय
जमशेदपुर, पूर्वी सिंहभूम जिले का मुख्य व्यवसाय केंद्र है. यहां से स्टील का निर्यात होता है.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: कोल्हान
प्रशासनिक सहूलियत के लिए पूर्वी सिंहभूम जिले को 2 अनुमंडलों और 11 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल:
इस  जिले को कुल 2 अनुमंडलों में बांटा गया है: धालभूम और घाटशिला.

प्रखंड:
धालभूम अनुमंडल के अंतर्गत कुल 4 प्रखंड आते हैं:
गोलमुरी -सह- जुगसलाई, पोटका, बोराम और पटमदा.

घाटशिला अनुमंडल के अंतर्गत कुल 7 प्रखंड आते हैं:
घाटशिला, मुसाबनी, धालभूमगढ़, चाकुलिया, डुमरिया, गुराबंदा और बहरागोड़ा.

पुलिस थानों की संख्या : 36
नगर पालिका की संख्या : 4, जुगसलाई, जमशेदपुर, मानगो और चाकुलिया.

ग्राम पंचायतों की संख्या: 231
कुल गांवों की संख्या: 1810

निर्वाचन क्षेत्र
लोक सभा : जमशेदपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

विधानसभा
जिले के अंतर्गत कुल 6 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: बहरागोड़ा, घाटशिला, पोटका, जुगसलाई, जमशेदपुर और जमशेदपुर पश्चिम.

पूर्वी सिंहभूम  जिले की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार पूर्वी सिंहभूम जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या : 22.94 लाख
पुरुष : 11.76 लाख
महिला: 11.17 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 15.68%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 644
झारखंड की जनसंख्या में अनुपात: 6.95%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 949

औसत साक्षरता: 75.49%
पुरुष साक्षरता : 83.75%
महिला साक्षरता: 66.81%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 44.44%
ग्रामीण जनसंख्या: 55.56%

धर्म

पूर्वी सिंहभूम जिले की रिलिजन

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, ये  एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 67.58% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 8.89% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 1.32%, सिख 1.68%, बौद्ध 0.04% हैं, जैन 0.07% जबकि अन्य 20.29 % हैं.

भाषाएं
पूर्वी सिंहभूम जिले में बोली जाने वाली मुख्य भाषाएं हैं हिंदी, उर्दू, बांग्ला, संथाली और मुंदारी.

पूर्वी  सिंहभूम किस लिए प्रसिद्ध है?

जुबली पार्क

लगभग 500 एकड़ में फैला जमशेदपुर में स्थित यह पार्क पूर्वी सिंहभूम जिले का एक लोकप्रिय पर्यटन आकर्षण और पिकनिक स्पॉट है. यहां आप जोगिंग, साइकिलिंग और खेलकूद, इत्यादि का आनंद उठा सकते हैं

टाटा स्टील जूलॉजिकल पार्क

लगभग 62 एकड़ में फैला यह जूलॉजिकल पार्क जमशेदपुर में स्थित है. इस जूलॉजिकल पार्क में जीव-जंतु स्वतंत्रता पूर्वक विचरण करते हैं. आप यहां सफारी और नौकायान आनंद उठा सकते हैं.

दालमा वन्य जीव अभयारण्य

लगभग 195 वर्ग किलोमीटर में फैला यह अभयारण्य जमशेदपुर शहर से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. यहां आप हाथी, बाघ, हिरण, जंगली सूअर, और विभिन्न प्रकार के पक्षियों को देख सकते हैं.

डिमना झील

यह सुंदर झील जमशेदपुर शहर से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. आप यहां नौकायन का आनंद उठा सकते हैं.

पूर्वी सिंहभूम कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
निकटतम हवाई अड्डा: सोनारी हवाई अड्डा, जमशेदपुर (Code: IXW).

दूसरा नजदीकी हवाई अड्डा : बिरसा मुंडा एयरपोर्ट, रांची (Code: IXR) .
यह हवाई अड्डा जमशेदपुर से लगभग 130 किलोमीटर की दूरी पर झारखंड की राजधानी रांची में स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से जमशेदपुर, झारखंड की राजधानी रांची तथा देश के विभिन्न भावों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है.
नजदीकी रेलवे स्टेशन : टाटानगर जंक्शन (TATA)

सड़क मार्ग
सड़कों के नेटवर्क के माध्यम से पूर्वी सिंहभूम, झारखंड राज्य और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है.नेशनल हाईवे 2, नेशनल हाईवे 6 और नेशनल हाईवे 33 जमशेदपुर होकर गुजरती है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

पूर्वी सिंहभूम जिले के बारे में कुछ रोचक बातें:

1. जनसंख्या की दृष्टि से झारखंड का चौथा बड़ा जिला है.

2. क्षेत्रफल की दृष्टि से झारखंड का 11वां बड़ा जिला है.

3. जनसंख्या घनत्व के मामले में झारखंड में चौथा स्थान है.

4. लैंगिक अनुपात के मामले में झारखंड में 14वां स्थान है.

5. जुगसलाई प्रखंड के अंतर्गत आने वाला कालीमाटी गांव पूर्वी सिंहभूम जिले का सबसे बड़ी आबादी वाला गांव है.

6. सबसे ज्यादा गांव वाला प्रखंड: बहरागोड़ा (451)

7. सबसे कम गांव वाला प्रखंड : मुसाबनी (43)

8. क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे बड़ा गांव:
मुसाबनी प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव फॉरेस्ट ब्लॉक (क्षेत्रफल -लगभग 5047 हेक्टेयर).

9. क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे छोटा गांव:
बहरागोड़ा प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव छोटा हटिदाहर (क्षेत्रफल- 0.72 हेक्टेयर).

Daily Recommended Product: ( Today) Mi Power Bank 3i 10000mAh (Metallic Blue) Dual Output and Input Port | 18W Fast Charging

Leave a Reply