Advertisement
Religion

असली हिन्दू कौन है? जानिए हिन्दू के बारे में 11 बातें

Advertisement
जाट गायक सिद्धू मूसेवाला आज हमारे बीच नहीं है पर उनकी याद हमारे दिलों में हमेशा बनी रहेगी। अपने गानों के माध्यम से वह अमर हो गए हैं । सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को मानसा जिले में उनके घर से कुछ किलोमीटर दूर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हत्या किसने और किस वजह से की यह तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा लेकिन हमने जाट समाज का एक अनमोल रत्न खो दिया है। उनके फैंस पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है। jankaritoday.com की टीम के तरफ से उनको एक सच्ची श्रद्धांजलि! Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।

असली हिन्दू कौन है? सनातन धर्म सभा में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने कहा था- हिन्दू वो है जो यह माने की स्वत:स्पष्ट और स्वयंसिद्ध सत्य वेदों में है.हिन्दू पूरी दुनिया में फैले हुये है.हमारे मन में हमशा ये सवाल उठता है आखिर हिन्दू कहते किसको है?

असली हिन्दू कौन है?

1.जो वेदों में दिए गए निर्देशों का निष्ठापूर्वक पालन करते हैं.वो सब हिन्दू हैं.

2.जो अपने आप को हिन्दू माने और खुद को हिन्दू कहे वो हिन्दू है.

3.मरने के बाद जिसे जलाया जाये वो हिन्दू है.

4. जो गाय और ब्राह्मण की रक्षा करे वो हिन्दू है.

5. हिन्दू वो है जो भारत को मातृभूमि माने और इसे पृथ्वी का सबसे पवित्र स्थान माने.

6.हिन्दू महासभा, हिन्दू कौन है के जबाब  में कहा था: जो उस धर्म को माने जिसकी उत्पत्ति भारत में हुयी हो.

7. जो वेदों, स्मृतियों , पुराणों और तंत्रों को धर्म का आधार और आचरण का नियम के रूप में स्वीकार करे वो हिन्दू है.

8. जो सर्वव्यापी , सर्वशक्तिमान एक ईश्वर-ब्रह्म को माने -वो हिन्दू है.
हिन्दू दर्शन वेद परम्परा, वेदान्त और उपनिषद के अनुसार ब्रह्म सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का परम सत्य है.ब्रह्म जगत का सार है.ब्रह्म सृष्टि की आत्मा है.ब्रह्म स्वयं ही परमज्ञान है,प्रकाश-स्त्रोत है जो सृष्टि को प्रकाशित करता है.ब्रह्म निराकार, अनन्त, नित्य और शाश्वत है. . ब्रह्म सृष्टि का कारण है,जिससे ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति होती है,जिसमें ब्रह्माण्ड आधारित होता है और अन्त में जिसमें विलीन हो जाता है. ब्रह्म सर्वशक्तिमान और सर्वव्यापी है.

9.जो वैदिक या सनातन धर्म को माने वो हिन्दू है.

उपनिषद के अनुसार असली हिन्दू कौन है?

10.जो वेदांत का अनुयायी है वो हिन्दू है. हिन्दू दर्शन में वेदान्त ज्ञानयोग की एक शाखा है.ये व्यक्ति को ज्ञान प्राप्ति की दिशा में उत्प्रेरित करता है.इसका मुख्य स्रोत उपनिषद है जो वेद ग्रंथो और अरण्यक ग्रंथों का सार समझे जाते हैं.उपनिषद् वैदिक साहित्य का अंतिम भाग है,इसीलिए इसको वेदान्त कहते हैं.

हिंदू की परिभाषा

11.जो ईश्वर के अस्तित्व,कर्म के सिद्धांत, पुनर्जन्म,पूर्वजों की पूजा,वर्णाश्रम धर्म में पूर्ण विश्वास रखता है.जो संध्या,श्राद्ध,पितृ तर्पण और पंच-महा-यज्ञ करते हैं.वेदों का अध्ययन करते हैं.हिन्दू की यही सुसंस्कृत,पूर्ण और सही परिभाषा है.

Advertisement
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद

Last updated: 09/12/2021 10:16 am

View Comments

  • हिन्दू की परिभाषा: जो समुदाय यज्ञोपवित धारण करता हो, वेदों को मानता हो, हवन-यज्ञ करता हो, पित्तरों में श्र(ा रखता हो और धरती, गाय, जननी, बड़ी बहन और भाभी को माँ समान मानता हो हिन्दू कहलाता है। ‘¬’, ‘स्वास्तिक’, ‘तिलक’, ‘यज्ञोपवित’, ‘कलश’, ‘गरुड़ घंटी’ और ‘शंख’ आदि हिन्दू धर्म के प्रमुख प्रतीक चिन्ह हैं।

This website uses cookies.

Read More