‘भारत रत्न’ भारत सरकार के द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान पाने वालों को विशेष सुविधाएं दी जाती है आइये जानते हैं ऐसे चार तरह के पुरस्कारों को जिससे भारत सरकार विशेष नागरीकों को सम्मानित करती है।

भारत रत्न

भारत रत्न, भारत सरकार के द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल जैसे क्षेत्रों में अदभुत कार्य करने वाले , राष्ट्र सेवा करने वाले नागरीकों को यह सम्मान दिया जाता है।

भारत रत्न के बारे में कुछ रोचक जानकारी  

● इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 को भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी।
● इस सम्मान को नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता।
● प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान 1955 में जोड़ा गया।
● इस प्रावधान के लागू होने के बाद वैसे तो 13 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया, मगर सुभाष चन्द्र बोस के लिए घोषित यह सम्मान परिवार वालों ने लेने से मना कर दिया ।
वापस लिए जाने के बाद मरणोपरांत पाने वालों की संख्या 12 मानी जा सकती है।
● एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है।

● इस सम्मान में कोई नगदी राशि नहीं दी जाती है, सरकार की तरफ से एक प्रमाण पत्र और तमगा दिया जाता है।

पद्म विभूषण

भारत सरकार द्वारा दिया जानेवाला यह दूसरा सबसे बड़ा सम्मान है।

पद्म विभूषण के कुछ रोचक तथ्य 

● यह देश के लिए असैनिक क्षेत्रों मे बहुमूल्य योगदान के लिए दिया जाता है। इसमें सरकारी कर्मचारियों द्वारा दी गई सेवाएं भी शामिल है।
● यह सम्मान राष्ट्रपति के द्वारा दिया जाता है।
● इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 मे किया गया था।

पद्म भूषण

पद्म भूषण के कुछ रोचक तथ्य

● यह सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरा बड़ा सम्मान है।
● यह देश के लिए किए गये बहुमूल्य कार्य के लिए दिया जाता है।
● इसका स्थापना 1954 में हुआ था।

पद्म श्री

यह भारत सरकार द्वारा आम तौर पर सिर्फ भारतीय नागरिकों को दिया जाने वाला चौथा बड़ा सम्मान है।

पद्म श्री के कुछ रोचक तथ्य 

● कला, शिक्षा, उद्योग, साहित्य, विज्ञान, खेल, चिकित्सा, समाज सेवा और सार्वजनिक जीवन आदि में उनके विशिष्ट योगदान को मान्यता प्रदान करने के लिए दिया जाता है।
● इसका स्थापना 1954 मे हुआ था।

Leave a Reply