Ranjeet Bhartiya 04/07/2019

आजमगढ़, भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में आने वाला यह जिला आजमगढ़ प्रमंडल के अंतर्गत आता है. इस प्रमंडल के अंतर्गत कुल 3 जिले आते हैं: आजमगढ़ ,मऊ और बलिया. यह धरती ऋषि -मुनियों की तपोस्थली रही है।  त्रिदेवों ने इस जगह को कर्मभूमि तथा तपोस्थली बनाकर इसका मान बढाया.भगवान शिव के अंश महर्षि दुर्वासा तमसा नदी के किनारे अपनी तपोस्थली त्रेता युग में बनाया था, ये आज भी आस्था का प्रमुख केंद्र है. आजमगढ़ में कुल कितनी तहसील है? कितनी जनसंख्या है? आईये जानते हैं आजमगढ़ जिले की पूरी जानकारी

आजमगढ़ का इतिहास

जिले का नाम इसके मुख्यालय आजमगढ़ के नाम पर रखा गया है. राजा विक्रमजीत मेहनगर के गौतम राजपूत वंश के थे जिन्होंने बाद में इस्लाम अपना लिया था. उन्होंने एक मुस्लिम महिला से शादी किया था जिससे उन्हें 2 पुत्र प्राप्त हुए – आज़म और अज़मत. राजा विक्रमजीत के पुत्र आजम ने 1665 में आजमगढ़ को स्थापित किया था. उन्हीं के नाम पर इस स्थान का नाम आजमगढ़ पड़ा.

आजमगढ़ की स्थापना कब हुई?

एक स्वतंत्र जिले के रूप में ये जिला 1932 में अस्तित्व में आया.
बाउंड्री (चौहद्दी)

आजमगढ़ जिले की भौगोलिक स्थिति

उत्तर में – गोरखपुर जिला और अंबेडकर नगर जिला
दक्षिण में – गाजीपुर जिला और जौनपुर जिला
पूरब में- मऊ जिला
पश्चिम में – जौनपुर जिला, सुल्तानपुर जिला और अंबेडकर नगर जिला

समुद्र तल से ऊंचाई :

ये जिला समुद्र तल से लगभग 64 मीटर (209 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.
क्षेत्रफल
जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 4054 वर्ग किलोमीटर है.
प्रमुख नदियां : घाघरा और तमसा
ये जिला  तमसा नदी के किनारे पर स्थित है. घाघरा नदी जिले के दक्षिण में स्थित है.

अर्थव्यवस्था- कृषि, उद्योग और उत्पाद

जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, वन, और उद्योग पर आधारित है.

कृषि
आजमगढ़ जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, गेहूं, जौ, मक्का, दलहन (मसूर, उड़द, चना, मटर, मूंग और अरहर), तिलहन (सरसों), गन्ना, आलू और सब्जियां.

पशुपालन
पशुपालन जिले के लोगों के लिए अतिरिक्त आय का जरिया है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: गाय, भैंस, बकरी और सूअर.

वन
जिले में पाए जाने वाले प्रमुख वन उत्पाद हैं: आम, जामुन, नीम, सागौन (टीकवुड), कटहल और यूकेलिप्टस (नीलगिरी).

उद्योग
मुबारकपुर में बनारसी साड़ी का निर्माण होता है. निजामाबाद में ब्लैक पॉटरी बनाया जाता है.

जिले में स्थित अन्य उद्योग हैं: जिले में कृषि आधारित कई उद्योग हैं. बिस्किट, टॉफी, मैदा, सूजी और चीनी बनाने की फैक्ट्रियां कार्यरत हैं.

आजमगढ़ जिले का प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: आजमगढ़
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 8 तहसीलों (अनुमंडल) और 22 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.
तहसील (अनुमंडल):
आजमगढ़ जिले को कुल 8 तहसीलों में बांटा गया है:
आजमगढ़ (सदर), सगड़ी, बुरहानपुर, निजामाबाद, फूलपुर, लालगंज , मार्टिनगंज और मेहनगर.
विकासखंड (प्रखंड):
आजमगढ़ जिले को 22 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है.

रानी का सराय, सठियांव, पल्हनी, अजमतगढ़, हरैया, महाराजगंज, बिलरियागंज, कोइलसा, अतरौलिया, अहिरौला, तहरबपुर, मिर्जापुर, पवई, फूलपुर, मार्टिनगंज, मोहम्मदपुर, ठेकमा, लालगंज, पल्हना, तरवां, मेहनगर और जहानागंज.

कुल पुलिस थानों की संख्या : 26
पुलिस शहरी निकायों की संख्या : 13
नगर परिषदों की संख्या : 2
नगर पंचायतों की संख्या : 11
कुल ग्राम पंचायतों की संख्या: 1617
कुल गांवों की संख्या: 4101

निर्वाचन क्षेत्र

लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र : 2, आजमगढ़ और लालगंज
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र : 10, गोपालपुर, सगड़ी, मुबारकपुर , आजमगढ़, मेहनगर, अतरौलिया, निजामाबाद, फूलपुर पवई , दीदारगंज और लालगंज.

आजमगढ़ जिले का डेमोग्राफीक्स(  जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार इस जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या : 46.14 लाख
पुरुष : 22.85 लाख
महिला: 23.28 लाख
जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 17.11%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 1138
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 2.31%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 1019
औसत साक्षरता: 70.93%
पुरुष साक्षरता : 81.34%
महिला साक्षरता: 60.91%
शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 8.53%
ग्रामीण जनसंख्या: 91.47%

आजमगढ़ जिले का धार्मिक जनसंख्या

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, ये एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 84.06% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 15.58% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.08%, सिख 0.02%, बौद्ध 0.12%, और अन्य 0.13% हैं.

भाषाएं

इस जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी, उर्दू , अवधि और भोजपुरी.

आजमगढ़ जिले में आकर्षक स्थल

बाबा भंवरनाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह प्रसिद्द मंदिर  शहर के  पश्चिमी छोर पर लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. मंदिर के बारे में मान्यता है जो भक्त सच्चे मन से इस मंदिर में पूजा-अर्चना करते हैं उनकी मनोकामना जरुर पूरी होती है. हर वर्ष महाशिवरात्रि के अवसर पर एक बहुत बड़ा मेला लगता है जिसमें दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं.

मुबारकपुर

जिला मुख्यालय 13 किलोमीटर की दूरी सठियांव विकासखंड मुबारकपुर बनारसी साड़ियों के निर्माण के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है.

दुर्वासा आश्रम

दुर्वासा ऋषि

दुर्वासा ऋषि का आश्रम फूलपुर तहसील हेडक्वार्टर से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

दत्तात्रेय आश्रम

प्राचीन काल में ज्ञान और शांति प्राप्ति का केंद्र रहा यह आश्रम निजामाबाद तहसील के दक्षिण पश्चिम में 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

आजमगढ़  कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
इस जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है.

निकटतम हवाई अड्डा :
लाल बहादुर शास्त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट, वाराणसी (Code: VNS).
यह हवाई अड्डा आजमगढ़ से लगभग 102 किलोमीटर की दूरी पर वाराणसी में स्थित है.
दसरा नजदीकी हवाई अड्डा : महायोगी गोरखनाथ एयरपोर्ट, गोरखपुर (Code: GOP).
यह हवाई अड्डा आजमगढ़ से लगभग 111 किलोमीटर की दूरी पर गोरखपुर में स्थित है.

रेल मार्ग
आजमगढ़, रेल मार्ग से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ तथा देश के विभिन्न भागों से अच्छे से जुड़ा हुआ है.
निकटतम रेलवे स्टेशन : आजमगढ़ रेलवे स्टेशन (Station Code : AMH).
सड़क मार्ग
ये जिला  सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

आजमगढ़ जिले की कुछ रोचक बातें:

1. जनसंख्या की दृष्टि से  उत्तर प्रदेश में चौथा स्थान है.
2. लिंगानुपात के मामले में  उत्तर प्रदेश में दूसरा स्थान है.
3. साक्षरता के मामले में का उत्तर प्रदेश में 26वां स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील : सगड़ी (882).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील : मेहनगर (296).
6. कुल निर्जन गांव की संख्या : 301.

Leave a Reply