Ranjeet Bhartiya 03/02/2020

एटा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. भारत की राजधानी नई दिल्ली से लगभग 250 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित यह जिला आगरा डिवीजन के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित है. एटा शहर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है. एटा का इतिहास अत्यंत गौरवपूर्ण है. कानपुर और दिल्ली के मध्य में स्थित यह जिला ऐतिहासिक रूप से 1857 के आजादी के पहले संग्राम का केंद्र रहा था. यह जिला पटना पक्षी विहार के लिए भी प्रसिद्ध है.आइए जानते हैं एटा जिले की पूरी जानकारी.

एटा जिले की  भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
एटा जिला कुल 6 जिलों से घिरा हुआ है.
उत्तर में-कांशीराम नगर जिला
दक्षिण में-फिरोजाबाद जिला और मैनपुरी जिला
पूरब में-फर्रुखाबाद जिला
पश्चिम में-महामाया नगर जिला और आगरा जिला
समुद्र तल से ऊंचाई
एटा शहर समुद्र तल से लगभग 170 मीटर (557.7 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.
क्षेत्रफल
एटा जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 2431 वर्ग किलोमीटर है.
प्रमुख नदियां:
जिले के प्रमुख नदियां हैं: काली, ईशन, सेंगर और रिंद.

अर्थव्यवस्था-कृषि, उद्योग और उत्पाद

एटा जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, वन, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.

कृषि

जिले की अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्वपूर्ण स्थान है. यहाँ उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: गेहूं, मक्का, धान, बाजरा, ज्वार, दलहन (मसूर, मटर, मूंग और उड़द) कॉटन, तिलहन (सरसों और तिल), गन्ना, तंबाकू, लहसुन, आलू, टमाटर और अन्य सब्जियां.
जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फल हैं: आम, अमरूद, बेर, केला, पपीता और आंवला.

पशुपालन

आय का अतिरिक्त जरिया होने के कारण जिले की ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पशुपालन का महत्वपूर्ण स्थान है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: गाय, भैंस, सूअर, भेड़, बकरी और पोल्ट्री.

वन

जिले में वन क्षेत्र बहुत कम हैं. जिले में पाए जाने वाले महत्वपूर्ण पेड़ हैं: ढाक, बबूल, शीशम, जामुन, आम, नीम, इमली, सेमल, गूलर, बेर, बेल, अशोक, गुलमोहर और कचनार.

खनिज

जिले में मूल्यवान खनिजों का अभाव है. जिले में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं: बालू, कंकर, रेह और क्ले.
उद्योग
जिले में बड़े उद्योगों का अभाव है. जिले में स्थित प्रमुख उद्योग हैं: कृषि आधारित उद्योग, रेडीमेड गारमेंट मनाने की इकाइयां और फर्नीचर उद्योग

व्यापार और वाणिज्य

जिले से निर्यात किए जाने वाले प्रमुख पदार्थ हैं: कृषि उत्पाद, खाद्य तेल, फल और अनाज. जिले में आयात किए जाने वाले प्रमुख पदार्थ हैं: रोजमर्रा के सामान, नमक, दवाई, बिल्डिंग मटेरियल और रसायन.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: अलीगढ़
प्रशासनिक सहूलियत के लिए एटा जिले को 3 तहसीलों (अनुमंडल) और 8 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.
जिले को कुल 3 तहसीलों में बांटा गया है: अलीगंज, एटा और जलेसर.
विकासखंड (प्रखंड):
एटा जिले को कुल 8 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है: अलीगंज, जैथरा, सकीट, शीतलपुर, मारहरा, निधौली कलां, अवागढ़ और जलेसर.
पुलिस थानों की संख्या: 18
नगर पालिका परिषदों की संख्या: 4
नगर पंचायतों की संख्या: 5
न्याय  पंचायतों की संख्या: 72
ग्राम पंचायतों की संख्या: 509
गांवों की संख्या: 882
निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र: 1; एटा
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र: 4
एटा जिले के अंतर्गत कुल 4 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: अलीगंज, एटा मारहरा और जलेसर.

एटा जिले की डेेेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, एटा जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या: 17.74 लाख
पुरुष: 9.47 लाख
महिला: 8.27 लाख
जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 13.62%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 730
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 0.89%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष): 873
औसत साक्षरता: 70.81%
पुरुष साक्षरता: 81.28%
महिला साक्षरता: 58.80%
शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या: 15.11%
ग्रामीण जनसंख्या: 84.89

धार्मिक जनसंख्या

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, एटा एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 90.79% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 8.25% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.14%, सिख 0.04%, बौद्ध 0.16% और जैन 0.32% हैं.
भाषाएं
 जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी और उर्दू.

एटा जिले में आकर्षक  स्थल

इस जिले में पौराणिक, धार्मिक, पुरातात्विक और ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थल हैं. जिले में स्थित प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

पटना पक्षी विहार

यह खूबसूरत पक्षी विहार जिले के जसलीन ब्लॉक में स्थित है. 108 हेक्टेयर क्षेत्र में फैले इस पक्षी विहार की स्थापना 1991 में की गई थी. यहां आप 300 से अधिक प्रकार के पक्षियों को देख सकते हैं.

अवागढ़ किला

पुरातत्व की दृष्टि से महत्वपूर्ण यह ऐतिहासिक किला एटा से लगभग 20 किलोमीटर दूरी पर स्थित है. 108 एकड़ क्षेत्र में में फैले इस किले का निर्माण 12वीं शताब्दी में जादोन वंश के क्षत्रिय शासकों ने करवाया था.

कैलाश मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह प्रसिद्ध प्रसिद्ध प्राचीन मंदिर जिले के बाबूगंज में स्थित है.

एटा कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग

एटा जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवाएं उपलब्ध नहीं है. निकटतम हवाई अड्डा: पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट/आगरा एयरपोर्ट (Code: AGR).
यह हवाई अड्डा एटा से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर आगरा में स्थित है.

रेल मार्ग

निकटतम रेलवे स्टेशन: एटा रेलवे स्टेशन (Code: ETAH) और कासगंज जंक्शन रेलवे स्टेशन (Code: KSJ).
सड़क मार्ग
एटा सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.
नेशनल हाईवे 91 (NH 91) और स्टेट हाईवे 33 (SH 33) जिले से होकर गुजरती है.

एटा जिले की कुछ रोचक बातें:

2011 के जनगणना के अनुसार,
1. जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में 55वां स्थान है.
2. लिंगानुपात के मामले में प्रदेश में 56वां स्थान है.
3. साक्षरता के मामले में उत्तर प्रदेश में 28वां स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील: एटा (471).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील: जलेसर(150)
6. जिले में कुल निर्जन गांवों की संख्या: 29.

Leave a Reply