Ranjeet Bhartiya 19/02/2019
माता रानी ये वरदान देना,बस थोड़ा सा प्यार देना,आपकी चरणों में बीते जीवन सारा ऐसा आशीर्वाद देना। आप सभी को नवरात्रि की शुभकामनाएं। नव दुर्गा का पहला रूप शैलपुत्री देवी का है। ये माता पार्वती का ही एक रूप हैं हिमालयराज की पुत्री होने के कारण इन्हें शैलपुत्री भी कहा जाता है। नवरात्रि के पहले दिन मां के शैलपुत्री रूप का पूजन होता है. Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 06/09/2020 by Sarvan Kumar

किशनगंज भारत के बिहार राज्य में स्थित एक जिला है. बिहार की पूर्वोत्तर छोर पर स्थित यह जिला पूर्णिया प्रमंडल के अंतर्गत आता है.किशनगंज जिला का पूराना नाम क्या है? कितने ब्लाक हैं? आईयेे जानते हैं इस जिले की पूरी जानकारी.

किशनगंज का इतिहास

खगदा नवाब मोहम्मद फखरुद्दीन के शासनकाल के दौरान एक हिंदू संत यहां पहुंचे. वह थके हुए थे और इस स्थान पर विश्राम करना चाहते थे. लेकिन जब उन्हें पता चला कि इस जगह का नाम आलमगंज है. नदी का नाम रमजान है. यहां के जमींदार का नाम फकरुद्दीन हैं तो उन्होंने आलमगंज में प्रवेश करने से इंकार कर दिया. जब इस बात का पता नवाब को चला तो उन्होंने एक फैसला किया . किशनगंज गुदरी से रमजान पूल गंधी घाट तक के हिस्से को कृष्णा-कुंज के नाम से जाना जाएगा. लोगों ने इस क्षेत्र को कृष्णा-कुंज कहना शुरू कर दिया जो समय के साथ किशनगंज हो गया.

गठन
ये जिला पहले पूर्णिया जिले का एक महत्वपूर्ण और पुराना अनुमंडल था. सामाजिक कार्यकर्ताओं, राजनेताओं, पत्रकारों, व्यवसायियों और किसानों के 17 वर्षों के लंबे संघर्ष के बाद बिहार सरकार ने 14 जनवरी 1990 को इसे एक पूर्ण स्वतंत्र जिला घोषित कर दिया.

किशनगंज जिले की भौगोलिक स्थिति

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 1884 वर्ग किलोमीटर है.

बाउंड्री (चौहद्दी)
उत्तर में-पश्चिम बंगाल का दार्जिलिंग जिला और नेपाल
दक्षिण-पश्चिम में -पूर्णिया जिला
पूर्व – बंगाल का उत्तर दिनाजपुर जिला
पश्चिम में-अररिया जिला

प्रमुख नदियां
महानंदा, कन्काई, मेची, डोंक, रतुआ, खोला और रमजान सुधानी.

अर्थव्यवस्था: कृषि और उत्पाद

कृषि
इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं -धान, गेहूं , मकई , ज्वार ,चना ,मसूर, मूंग, मटर, सरसों, तीसी, सूरजमुखी, जूट और चाय.

उद्योग
जिले के प्रमुख उद्योग हैं: प्लाईवुड उद्योग, चाय प्रोसेसिंग यूनिट, जूट उद्योग, पोल्ट्री फार्मिंग, रेशम (सिल्क) उद्योग और कुटीर उद्योग.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल : पूर्णिया
प्रशासनिक सुविधा के लिए किशनगंज जिले को 1 अनुमंडल और 7 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल: 1, किशनगंज

प्रखंड: इस  जिले को 7 प्रखंडों में बांटा गया है-बहादुरगंज, दिघलबैंक, किशनगंज, कोचाधामन, पोठिया, टेढ़ागाछ और ठाकुरगंज.

पुलिस थानों की संख्या : 20
नगर निगम : 1
नगर पालिका : 3

ग्राम पंचायतों की संख्या : 126
गांवों की संख्या : 802

निर्वाचन क्षेत्र
इस  जिले में  एक  लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र और 6 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र हैं.

लोकसभा
एक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र आता है-किशनगंज.

विधानसभा

कुल 6 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: बहादुरगंज, ठाकुरगंज, किशनगंज, कोचाधामन, अमौर (पार्ट पूर्णिया) और बाईसी ( पार्ट पूर्णिया).

किशनगंज जिले की डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी)

अधिकारीक  जनगणना 2011 के अनुसार,
कुल जनसंख्या : 16.90 लाख
पुरुष : 8.67 लाख
महिला : 8.23 लाख

जनसंख्या वृद्धि दर (दशकीय): 30.40%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 897
बिहार की जनसंख्या में अनुपात: 1.62%
लिंग अनुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष): 950

औसत साक्षरता : 55.46%
पुरुष साक्षरता : 63.66%
महिला साक्षरता : 46.76%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 9.53%
ग्रामीण जनसंख्या : 90.47%

धर्म

अधिकारीक जनगणना 2011 के अनुसार, ये एक मुस्लिम बहुसंख्यक जिला है. जिले में मुस्लिमों की आबादी 67.98% है, जबकि हिंदुओं की जनसंख्या 31.43% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.34%, सिख 0.02%, बौद्ध 0.01% और जैन 0.09% हैं.

किशनगंज जिले की पर्यटन स्थल

इस जिले का अतीत समृद्ध और गौरवशाली है. यहां पर कई ऐतिहासिक दर्शनीय स्थल हैं.

किशनगंज किला
खगदा नवाब मोहम्मद फखरुद्दीन के शासनकाल के दौरान बनाया गया किला है .ये तब बनाया गया था जब यह शहर नेपाल का हिस्सा हुआ करता था.

चूरली एस्टेट
यह एक प्रसिद्ध लोकप्रिय पर्यटन स्थल है. हालांकि अब यहां पर केवल खंडहर और पुरानी इमारतें ही शेष हैं जो कि जिले को ऐतिहासिक बताती है.

हरगौरी मंदिर
हर गौरी मंदिर भगवान शिव का एक प्राचीन मंदिर है. यहां पर शिवरात्रि के दौरान दूर-दूर से भारी संख्या में श्रद्धालु आते हैं.

रुईधासा खानकाह और कदम रसूल मजार
यह मुस्लिम आबादी के लिए प्रमुख धर्मस्थल हैं.

कछुदाह झील
प्राकृतिक सौंदर्य से पूर्ण यह झील पक्षी प्रेमियों को अपनी ओर आकर्षित करती है. यहां पर विभिन्न प्रकार के प्रवासी पक्षी आते हैं.

महानंदा नदी
यह नदी किशनगंज बस स्टैंड से 6 किलोमीटर दूरी पर रमजान पुल के पास स्थित है.

पानिसाल
यह जिला  मुख्यालय से 50 किलोमीटर दूरी पर ठाकुरगंज के रास्ते में स्थित है.

ओद्रा घाट
जिला  मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूरी पर स्थित है.

किशनगंज  कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
इस  जिले का कोई अपना हवाई अड्डा नहीं है. निकटतम हवाई अड्डा ,बागडोगरा हवाई अड्डा (IXB) किशनगंज से 78 किलोमीटर दूरी पर, पश्चिम बंगाल में स्थित है.दूसरा नजदीकी हवाई अड्डा, पटना एयरपोर्ट (PAT), किशनगंज से 283 किलोमीटर दूरी पर, पटना में स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से देश के विभिन्न जगहों से जुड़ा हुआ है.
नजदीकी रेलवे स्टेशन: किशनगंज (KNE).

सड़क मार्ग
सड़क मार्ग से बिहार और देश के विभिन्न जगहों से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित बस सुविधा उपलब्ध है.
प्रमुख बस स्टेशन: किशनगंज
आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

Advertisement
Shopping With us and Get Heavy Discount Click Here
 
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद Read Legal Disclaimer 
 

Leave a Reply