Ranjeet Bhartiya 20/03/2019
Maa_Mundeshwari_Devi
“Maa Mundeshwari Devi “by Lakshya2509 is licensed under CC BY-SA 3.0

कैमूर जिले में एक मंदिर है हरसू ब्रहा मंदिर.यहाँ लगता है भूतो का मेला. दरअसल यहाँ लोगों  पर से भूत भगाने का इलाज किया जाता है. कैमूर भारत के बिहार राज्य में स्थित एक जिला है.बिहार के दक्षिण-पश्चिम छोर पर आने वाला जिला पटना प्रमंडल के अंतर्गत आता है. भभुआ कैमूर जिले का मुख्यालय है.कैमूर जिले में कितने  पंचायत है? कितनी जनसंख्या है?आईये जानते हैं कैमूर जिले की पूरी जानकारी.

कैमूर जिला कब बना

एक स्वतंत्र जिले के रूप में अस्तित्व में आने से पहले कैमूर रोहतास जिले का एक अनुमंडल हुआ करता था जिसका नाम था भभुआ. 17 मार्च 1991 को इसे रोहतास जिले से अलग कर के  स्वतंत्र जिला बनाया गया और इसका नाम रखा गया भभुआ. 17 मार्च 1994 को भभुआ जिले का नाम बदलकर कैमूर कर दिया गया.

कैमूर जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)

उत्तर में – बिहार का बक्सर जिला और उत्तर प्रदेश का गाजीपुर जिला
दक्षिण में – झारखंड का गढ़वा जिला और उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला
पूर्व में – रोहतास जिला
पश्चिम में- उत्तर प्रदेश का चंदौली और मिर्जापुर जिला

क्षेत्रफल
कैमूर जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3232 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : दुर्गावती , कर्मनाशा और कुदरा. कैमूर जिले का पश्चिमी मैदानी भाग कर्मनाशा और दुर्गावती नदियों से घिरा है. कुदरा नदी जिले के पूर्वी भाग से बहती है.

अर्थव्यवस्था- कृषि ,उद्योग और उत्पाद

कैमूर जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि और कृषि संबंधित उद्योगों पर आधारित है.

कृषि
जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है.जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: चावल, गेहूं, गन्ना , तिलहन, दलहन और मक्का.कैमूर जिले को बिहार के चावल के कटोरे के रूप में जाना जाता है.

उद्योग
ये जिला  कृषि उत्पाद उपकरणों के लिए स्थानीय व्यापार केंद्र है.
कैमूर जिले में उगाए जाने वाले चावल को कोलकाता और दिल्ली के बाजारों में बेचा जाता है. दुर्गावती और कुदरा, कैमूर जिले के प्रमुख औद्योगिक केंद्र हैं. यहां 12 बड़े चावल मिल्स और 400 मिनी चावल मिल्स हैं. जिले में स्थित उद्योगों की बात करें तो यहां वनस्पति तेल लिमिटेड, एसीसी लिमिटेड और पुसौली में पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया है.

 प्रशासनिक सेटअप

कैमूर जिले के डीम कौन है?

प्रमंडल: पटना
प्रशासनिक सहूलियत के लिए कैमूर जिले को 2 अनुमंडलों और 11 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल: कैमूर जिले के अंतर्गत कुल 2 अनुमंडल हैं: भभुआ और मोहनिया

प्रखंड: कैमूर जिले के अंतर्गत कुल 11 प्रखंड हैं.

भभुआ अनुमंडल के अंतर्गत कुल 6 प्रखंड हैं: अधीरा, भभुआ , भगवानपुर, चैनपुर , चांद और रामपुर.

मोहनिया अनुमंडल के अंतर्गत कुल 5 प्रखंड आते हैं: मोहनिया कुदरा दुर्गावती रामगढ़ और नुआंव

पुलिस थानों की संख्या : 17
नगर पालिका : 2, मोहनिया और भभुआ

ग्राम पंचायतों की संख्या: 149
कुल गांवों की संख्या: 1700

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा
कैमूर 2 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों का हिस्सा है :सासाराम और बक्सर.

विधानसभा
कैमूर जिले के अंतर्गत कुल 4 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: रामगढ़, मोहनिया, भभुआ और चैनपुर.

कैमूर जिले की डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी)

2011 की आधिकारिक जनगणना के अनुसार
कुल जनसंख्या : 16.26 लाख
पुरुष : 8.47 लाख
महिला: 7.79 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय) : 26.17%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर) : 488
बिहार की जनसंख्या में अनुपात : 1.56%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 920

औसत साक्षरता: 69.34%
पुरुष साक्षरता : 79.37%
महिला साक्षरता: 58.40%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 4.03%
ग्रामीण जनसंख्या: 95.97%

कैमूर जिले  में कितने हिन्दू / मुस्लिम है

अधिकारिक जनगणना 2011 के अनुसार, कैमूर एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 89.54% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 9.55% है. अन्य धर्मो की बात करें तो जिले में ईसाई 0.09%, सिख 0.02%, बौद्ध 0.47% और जैन 0.01% हैं.

कैमूर जिले में दर्शनीय  स्थल

माता मुंडेश्वरी मंदिर, भगवानपुर

यह प्रसिद्ध मंदिर भभुआ से 14 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में 600 फीट ऊंचे पंवरा पहाड़ी के शिखर पर स्थित है. यहां से प्राप्त शिलालेख 389 ईसवी के बीच के बताए जाते हैं जो इसकी प्राचीनता को दर्शाता है. माता मुंडेश्वरी मंदिर नक्काशी और मूर्तियां उत्तर गुप्त कालीन हैं. पत्थर से निर्मित यह मंदिर अष्टकोण है. मंदिर के पूर्वी भाग में देवी मुंडेश्वरी की पत्थर की भव्य और प्राचीन प्रतिमा है जो मंदिर का मुख्य आकर्षण है.

हरसू ब्रहा मंदिर, चैनपुर

हरसू ब्रहा मंदिर जिला मुख्यालय से पश्चिम भभुआ चैनपुर रोड से लगभग 10 किलोमीटर दूरी पर स्थित है. ऐसी मान्यता है कि यह पूजा-अर्चना करने से भूत-प्रेत संबंधी बाधाओं से मुक्ति मिलती है.

बैजनाथ मंदिर, रामगढ

भगवान शिव को समर्पित यह अति प्राचीन मंदिर भगवा मुख्यालय से लगभग 26 किलोमीटर की दूरी पर रामगढ़ में स्थित है. लगभग 1000 साल पुराने इस प्रसिद्ध मंदिर का निर्माण चंदेल शासकों ने करवाया था.

माँ छेरावरी धाम ,रामगढ

मां दुर्गा को समर्पित यह मंदिर रामगढ़ प्रखंड में स्थित है. इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण 15वीं शताब्दी में राठौर वंश के क्षत्रियों ने कराया था जो चित्तौड़ और मेवाड़ से यहां आए थे. नवरात्र के अवसर भारी संख्या में श्रद्धालु यहां पूजा-अर्चना करने आते हैं .

पीर बाबा का मजार , चाँद

चांद प्रखंड में स्थित पीर बाबा का मजार अपने मनोरम दृश्य के लिए काफी प्रसिद्ध है. इस मजार के बारे में मान्यता है कि जो भक्त यहां श्रद्धा से चादर चढ़ाते हैं उनकी मनोकामना जरूर पूरी होती हैं.

चंडेश्वरी धाम, चैनपुर

यह विख्यात सिद्धपीठ चैनपुर प्रखंड मुख्यालय के 5 किलोमीटर दक्षिण में मदुरना पहाड़ी (मदुरना गांव) में स्थित है.

कुलेश्वरी धाम, दुर्गावती

यह मंदिर भभुआ मुख्यालय से लगभग 26 किलोमीटर की दूरी पर दुर्गावती प्रखंड के कुल्हड़िया में स्थित है. बिहार और उत्तर प्रदेश के लगभग 105 गांव में बसे नागवंशी राजपूतों की कुलदेवी होने के कारण यह मंदिर कुलेश्वरी धाम नाम से प्रसिद्ध है.

बख्तियार खां का रौजा (चैनपुर) :

चैनपुर प्रखंड में स्थित इस मकबरे का निर्माण 16वीं-17वीं शताब्दी में किया गया था. यह शेरशाह सूरी के दामाद बख्तियार खान का स्मारक है.

तेलहरकुण्ड/जलप्रपात ,अधौरा

यह प्रसिद्ध जलप्रपात भभुआ जिला मुख्यालय से 30 किलोमीटर की दूरी पर भभुआ-औधोरा मार्ग पर स्थित है.

करकटगढ़ जलप्रपात ,चैनपुर

चैनपुर प्रखंड में स्थित यह जलप्रपात अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है.

अधौरा

भभुआ से 58 किलोमीटर दूरी पर स्थित यह मनोरम स्थल पहाड़ियों और जंगलों से घिरा है.

कैमूर कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
कैमूर जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. निकटतम हवाई अड्डा : वाराणसी हवाई अड्डा (VNS) भभुआ से 98 किलोमीटर की दूरी पर वाराणसी में स्थित है. दूसरा नजदीकी हवाई अड्डा: गया एयरपोर्ट (GAY) भभुआ से 170 किलोमीटर की दूरी पर गया में स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से आप आसानी से कैमूर आ सकते हैं . देश के अन्य प्रमुख शहरों से भभुआ के लिए नियमित ट्रेन चलती है. नजदीकी रेलवे स्टेशन: भभुआ रोड रेलवे स्टेशन (BBU).

सड़क मार्ग
कैमूर राज्य और देश के प्रमुख नगरों से शहरों से सड़क मार्ग से अच्छे से जुड़ा हुआ है. आप चाहे तो अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी यहां आ सकते हैं.

Leave a Reply