Pinki Bharti 07/03/2020

चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस संक्रमण ने तीव्र गति से अब तक 70 से ज्यादा देशों को अपने चपेट में ले लिया है. इस जानलेवा वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 94000 से ऊपर चली गई है. अब तक इस वायरस ने दुनिया भर में 3200 लोगों की जान ले ली है. भारत में अब तक कोरोना वायरस के 30 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. सबसे पहले केरल में 3 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए लेकिन इलाज के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई है. पूरे विश्व के लिए चुनौती बन चुके इस जानलेवा संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे एक इमरजेंसी करार दिया है.

क्या है कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस’ वायरस का एक बहुत बड़ा परिवार है जो जानवरों और इंसानों में बीमारी पैदा कर सकता है. इंसानों की बात करें तो कोरोना वायरस कॉमन कोल्ड से लेकर श्वसन तंत्र संबंधित गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है.

कैसे फैलता है कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस संक्रमित लोगों से दूसरे लोगों में छोटी बूंदों (ड्रॉपलेट्स) के माध्यम से फैलता है. संक्रमित व्यक्ति सांस बाहर छोड़ने के क्रम में या फिर छींकने और खासनें के दौरान छोटी तरल बूंदों को हवा में या फिर आसपास की वस्तुओं के सतह पर छोड़ते हैं. अन्य लोग जब इन वस्तुओं की सतह के संपर्क में आते हैं और अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूते हैं तो यह वायरस उनके अंदर प्रवेश कर जाता है. इसी कारण विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि संक्रमित व्यक्ति से कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी बनाये रखना जरूरी है.

कोरोना वायरस के लक्षण क्या है?

इस वायरस के संक्रमण के आने के बाद इसके आम लक्षण इस प्रकार हैं-
1. बुखार
2. थकान
3. सूखी खांसी
4. सर दर्द, बदन दर्द और मांसपेशियों में दर्द
5. नाक का जाम हो जाना
6. नाक का बहना
7. गले में खराश
8. दस्त
9. सांस लेने में तकलीफ

कोरोना वायरस के गंभीर संक्रमण के कारण निमोनिया, सांस लेने में बहुत ज्यादा तकलीफ, किडनी फेल और यहां तक की मौत भी हो सकती है.

नोट: अगर किसी व्यक्ति में यह सब लक्षण देखा जाता है तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित है, क्योंकि ऐसे लक्षण अन्य बीमारियों की भी हो सकते हैं.

कुछ ध्यान देने योग्य बातें

1. कुरौना संक्रमण के लक्षण धीरे-धीरे सामने आते हैं.
2. कुछ लोगों में संक्रमण के बाद भी लक्षण दिखाई नहीं देते और वह अस्वस्थ महसूस नहीं करते हैं.
3. लगभग 80% लोग बिना किसी उपचार के ठीक हो जाते हैं.
4. प्रत्येक 6 में से 1 लोग कोरोना वायरस के कारण गंभीर रूप से बीमार पड़ जाते हैं और उन्हें सांस लेने में कठिनाई होने लगती है.

कोरोना भारत से सबसे ज्यादा खतरा किसे है?

वृद्ध लोग और उच्च रक्तचाप, हृदय संबंधित बीमारियों तथा मधुमेह से पीड़ित लोगों में कोरोना वायरस को गंभीर रूप लेते हुए देखा गया है.

कोरोना वायरस से बचने के उपाय

1. व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान दें.

नियमित रूप से पर्सनल हाइजीन पर ध्यान दें.

2. मास्क का इस्तेमाल करें

संक्रमित व्यक्ति से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाये रखना जरूरी होता  है। हमें अपने जरूरतों को पूरा करने के लिए सार्वजनिक और भीड़-भाड़ इलाकों में जाना पड़ सकता है। ऐसे मे मास्क काफी  मददगार साबित हो सकता है। कोरोना वायरस से बचने वाले मास्क किस तरह का हो और इसे कैसे इस्तेमाल करेें ये भी जानना जरूरी है। कोरोना वायरस से बचने के लिए  Acu-Check N-95 Respirator Face Mask, NIOSH Certified Safety Protection Face Mask, Masks for Air Pollution, White color 1 Pc प्रयोग कर सकते हैं.

2. बार-बार अच्छे से हाथ धोएं

अपने हाथों को अल्कोहल आधारित हैंड रब (सैनिटाइजर) या फिर साबुन और स्वच्छ पानी से अच्छे से रगड़कर धोएं. साबुन और पानी या अल्कोहल आधारित हैंड रब वायरस को मारकर आपको संक्रमण से बचाते है.

कब-कब हाथ धोएं?

▪ छींकने-खासनें के बाद
▪किसी बीमार व्यक्ति के देखभाल के बाद
▪खाना बनाने के पहले, खाना बनाने के दौरान और खाना बन जाने के बाद
▪खाना खाने से पहले
▪टॉयलेट जाने के बाद
▪जब ऐसा लगे कि आपका हाथ गंदा है
▪जानवरों को छूने के बाद

3. लोगों से सामाजिक दूरी बनाए रखें

लोगों से बातचीत करते हुए दूरी बनाए रखें. विशेष रूप से ऐसे लोग जिन्हें सर्दी-जुकाम हो रहा हो उनसे कम से कम 1 मीटर (3 फुट) की दूरी बनाए रखें. ऐसा इसलिए कि जब कोई छींकता’खासता है तो उसके नाक और मुंह से छोटे तरल बूंदे (ड्रॉपलेट) निकलते हैं, जिनमें वायरस हो सकता है. सांस लेने के माध्यम से वह आपके अंदर चला जा सकता है और आप इस वायरस से संक्रमित हो सकते हैं.

4. आंख, नाक और मुंह छूने से बचें

हाथों से आप कई प्रकार के चीजों को छूते हैं. यह संभव है कि उन चीजों की सतहों पर वायरस रहे और आपका हाथ दूषित हो जाए. जब आप दूषित हाथों से अपने आंख, नाक और मुंह को छूते हैं तो वायरस वहां से  स्थानांतरित होकर आपके शरीर में प्रवेश करके आपको संक्रमित कर सकता है. इसीलिए यह बहुत जरूरी है कि आप अनावश्यक किसी चीज को ना छुएं. आंख, नाक और मुंह छूने से पहले अपने हाथों को स्वच्छ कर लें.

5. श्वसन तंत्र संबंधित स्वच्छता का ध्यान रखें

जैसा कि आप जानते हैं यह वायरस छोटे-छोटे तरल बूंदों (ड्रॉपलेट) के माध्यम से फैलता है. इसीलिए छींकने और ख़ासने के समय नाक और मुंह को रुमाल या टिशू पेपर से ढक लें. विशेषज्ञों का मानना है कि नाक और मुंह ढकने के लिए रुमाल से ज्यादा बेहतर टिशू पेपर है, क्योंकि आप इसे एक बार इस्तेमाल करने के पश्चात तुरंत डिस्पोज कर सकते हैं. श्वसन संबंधित स्वच्छता का पालन करके आप अपने आसपास के लोगों को सर्दी, फ्लू और कोरोना वायरस जैसे संक्रमण से बचा सकते हैं.

6. डॉक्टर से संपर्क करें

संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें
अगर आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई हो रही तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर को संपर्क करें. घरेलू नुक्से पर ज्यादा भरोसा ना करते हुए अपने डॉक्टर की सलाह को माने.

7.स्वास्थ्य मंत्रालय और स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए निर्देशों का पालन करें

कोरोना वायरस के बारे में गलत और भ्रामक जानकारी पर ध्यान ना दें. स्वास्थ्य मंत्रालय और स्वास्थ्य विभाग के पास कोरोना वायरस के बारे में सारे नवीनतम अपडेट मौजूद होते हैं. उनके बताए गए दिशा निर्देशों का पालन करके आप खुद की सुरक्षा करेंगे ही साथ ही कोरोना वायरस को फैलने से भी रोकेंगे. अगर कोई व्यक्ति पिछले 14 दिनों के भीतर उन क्षेत्रों में गया है जहां कोरोना वायरस फैल रहा तो वह ऊपर दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करें. अगर उसमें संक्रमण के लक्षण दिख रहे तो वह डॉक्टरी सलाह ले और जब तक ठीक नहीं हो जाए घर में ही रहे.

8.जीवित पशुओं से दूर रहें.

कोरोना वायरस के वाहक जानवर भी हो सकते हैं। ऐसे में जानवरों से दूर रहना ही बेहतर होगा।

9.कच्चे और बिना पके हुए मांस का सेवन ना करें.

बिना पके हुए मांस का सेवन का सेवन ना करें मांस को अच्छी तरह पका करके हीं भोजन में इस्तेमाल करें।

 

Leave a Reply