Ranjeet Bhartiya 16/03/2019

पटना भारत के बिहार राज्य में स्थित एक जिला है. यह बिहार राज्य की राजधानी है. ये वो जिला है जहां से प्राचीन काल में लगभग पूरे भारत में शासन हुआ करता था. प्राचीन पाटलिपुत्र नगरी  विश्वप्रसिद्ध  नगर था. बिहार का ये जिला पूरे बिहार को जोड़ता है.आप बिहार में कहीं भी जाना चाहते हैं तो पहले यहाँ आ सकते हैं. यहाँ से आपको बिहार में  कहीं भी जाने के लिए कोई ना कोई साधन मिल ही जाएगा. पटना जिला शिक्षा का एक बहुत बड़ा केन्द्र है. इंजीनियरिंग, मेडिकल और साइंस के पढाई के लिए पूरे बिहार से छात्र यहाँ आते हैं. पटना जिले में कितने ब्लाक हैं? कितनी जनसंख्या है? आईये जानते हैं पटना जिले की पूरी जानकारी.

बिहार के दक्षिणी भाग में आने वाला यह जिला पटना प्रमंडल के अंतर्गत आता है. यह पटना प्रमंडल का मुख्यालय भी है. पटना प्रमंडल के अंतर्गत कुल 6 जिले आते हैं- पटना , नालंदा, भोजपुर, बक्सर , रोहतास और कैमूर.

पटना जिला का इतिहास

नामकरण

पटना का इतिहास अति प्राचीन है. इसका पुराना और वास्तविक नाम पाटलिपुत्र या पाटलीपट्टन था.समय के साथ इसके नाम में कई बदलाव आए. इसे पाटलीग्राम, कुसुमपुर और अजीमाबाद के नाम से भी जाना गया. वर्तमान में इसे पटना के नाम से जाना जाता है. जिले के नामकरण के पीछे मान्यता है कि देवी पटन देवी के नाम पर इस स्थान का नाम पहले पाटलिपुत्र और बाद में पटना पड़ा.

पटना जिला की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)

ये जिला , गंगा नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है.
उत्तर में – गंगा नदी , सारण और वैशाली जिला
पश्चिम में – भोजपुर जिला
दक्षिण में – अरवल, जहानाबाद और नालंदा जिला
पूरब में – इस जिले का पूर्वी भाग समस्तीपुर,बेगूसराय,लखीसराय और नालंदा जिलों से घिरा हुआ है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3202 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : गंगा, सोन, गंडक और पुनपुन.

अर्थव्यवस्था- कृषि ,उद्योग और उत्पाद

कृषि
इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले का मुख्य फसल चावल है जो कि एक तिहाई से अधिक क्षेत्रफल में बोया जाता है.यहां उगाए जाने वाले मुख्य फसल हैं: धान, गेहूं, मक्का, दलहन , तिलहन ,आलू ,सब्जियां और खरबूजे.

उद्योग
ये जिला प्राचीन काल से कृषि और व्यापार का प्रमुख केंद्र रहा है. यहां से मुख्यतः अनाज, चावल और ईख निर्यात होता रहा है. जिले के प्रमुख उद्योग हैैं : चीनी मिल, बिस्किट फैक्ट्री, आटा मिल, पटाखे की फैक्ट्री, इत्यादि.

पटना जिले का शासनिक सेटअप

पटना जिले के DM कौन है?

प्रमंडल: पटना
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 6 अनुमंडलों और 23 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल: इस जिले के अंतर्गत कुल 6 अनुमंडल हैं:
पटना सदर, पटना साहिब ( पटना सिटी), बाढ़ , मसौढ़ी, दानापुर और पालीगंज.

प्रखंड: इस जिले के अंतर्गत कुल 23 प्रखंड हैं.

पटना सदर अनुमंडल में कुल 3 प्रखंड हैं: पटना सदर, संपतचक और फुलवारी शरीफ.

पटना साहिब अनुमंडल के अंतर्गत कुल 3 प्रखंड हैं: फतुहा, दनियावा और खुसरूपुर.

बाढ़ अनुमंडल के अंतर्गत कुल 7 प्रखंड आते हैं: अथमलगोला, मोकामा, बेलछी , घोसवरी, पंडारक बख्तियारपुर और बाढ़.

मसौढ़ी अनुमंडल के अंतर्गत कुल 3 प्रखंड हैं: मसौढ़ी, पुनपुन और धनरूआ.

दानापुर अनुमंडल के अंतर्गत कुल 4 प्रखंड आते हैं: दानापुर, मनेर, बिहटा और नौबतपुर.

पालीगंज अनुमंडल के अंतर्गत कुल 3 प्रखंड आते हैं: पालीगंज, दुल्हन बाजार और बिक्रम.

पुलिस थानों की संख्या : 67

ग्राम पंचायतों की संख्या: 321
कुल गांवों की संख्या: 1398

निर्वाचन क्षेत्र
इस जिले के अंतर्गत 3 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र और  14 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं.

लोक सभा
इस जिले के अंतर्गत 3 संसदीय निर्वाचन क्षेत्र आता हैं- पटना साहिब, पाटलिपुत्र और मुंगेर (पार्ट)

नोट : बाढ़ और मोकामा मुंगेर संसदीय निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं.

विधानसभा
इस जिले के अंतर्गत कुल 14 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: मोकामा , बाढ़, बख्तियारपुर, दीघा, बांकीपुर, कुम्हरार , पटना सिटी , फतुहा, दानापुर, मनेर, फुलवारी शरीफ, मसौढ़ी , पालीगंज और बिक्रम.

पटना जिले की डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी)

2011 की आधिकारिक जनगणना के अनुसार,
कुल जनसंख्या : 58.38 लाख
पुरुष : 30.78 लाख
महिला: 27.59 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 23.73%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 1823
बिहार की जनसंख्या में अनुपात: 5.61%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 897

औसत साक्षरता: 70.68%
पुरुष साक्षरता : 78.48%
महिला साक्षरता: 61.96%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 43.07%
ग्रामीण जनसंख्या: 56.93%

पटना जिले में अलग -अलग धर्म मानने वाले लोगों की संख्या

अधिकारिक जनगणना 2011 के अनुसार, ये एक  हिन्दू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 91.74% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 7.54% है.अन्य धर्मो की बात करें तो जिले में ईसाई 0.21%, सिख 0.08%, बौद्ध 0.02% और जैन 0.04% हैं.

पटना जिले में दर्शनीय स्थल

पटन देवी मंदिर

पटन देवी मंदिर शक्ति उपासना का केंद्र माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि यहां पर देवी सती की दाहिनी जांघ गिरी थी. पटन देवी दो हैं- छोटी पटन देवी और बड़ी पटन देवी; दोनों के अलग अलग मंदिर हैं. यहां प्रतिदिन भारी संख्या में श्रद्धालु आते हैं. नवरात्र के अवसर अवसर पर यहां भक्तों का तांता लगा रहता है. ऐसी मान्यता है कि यहां सच्चे मन से माता की आराधना करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

अगम कुआं

अशोक कालीन भग्नावषेश का हिस्सा रहे इस कुएं का पानी कभी खत्म नहीं होता. ये कुआं बहुत गहरा है. इसका पानी ना कभी सूखता है, ना ही कभी इसका पानी बाहर आता है. कहा जाता है कि सम्राट अशोक ने अपने सभी भाइयों को मारकर उनकी लाशों को इसी कुएं में फिकवा दिया था.

कुम्रहार

कुम्रहार पटना जंक्शन से लगभग 5 किलोमीटर दूर पूर्व में स्थित है. यहां आप चन्द्रगुप्त मौर्य, बिन्दुसार तथा अशोक कालीन पाटलिपुत्र के भग्नावशेष देखे सकते हैं.

तख्त श्री पटना साहिब

पटना साहिब स्थित तख्त श्री पटना साहिब सिखों का एक पवित्र धर्म स्थल है. यह सिखों के पांच तख्तों में से एक है. यहां 26 दिसम्बर 1666 में सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह जी का जन्म हुआ था. इस गुरुद्वारे का निर्माण महाराजा रणजीत सिंह ने करवाया था.

गांधी मैदान

गांधी मैदान एक ऐतिहासिक स्थल है जहां स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान रैलियां हुई थी. यहां पर महात्मा गांधी की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा लगाई गई है जिसकी ऊंचाई 70 फीट है.

गोलघर

गोलघर, गांधी मैदान के पश्चिम में स्थित है. 1770 में आए सूखे के कारण लगभग एक करोड़ लोग भुखमरी के शिकार हो गए थे. अंग्रेजों ने अनाज भंडारण के लिए इसका निर्माण करवाया था. इसमें एक साथ 140000 टन अनाज़ रखा जा सकता है.

संजय गाँधी जैविक उद्यान:

यह प्रसिद्ध जैविक उद्यान पटना के बेली रोड पर स्थित है. यह एक लोकप्रिय  पिकनिक स्पॉट भी है. यहां आप बाघ, तेंदुआ, दरियाई घोड़े, मगरमच्छ, हाथी, , काले भालू, सियार, काले हिरन, चित्तीदार हिरण, मोर, पहाड़ी मैना, घड़ियाल, अजगर, गैंडा, चिंपांज़ी, जिराफ़, ज़ेबरा, एमु और सफ़ेद मोर , इत्यादि देख सकते हैं.

पटना तारामंडल (इंदिरा गांधी तारामंडल)

यहाँ  स्थित  तारामंडल की गिनती एशिया के सबसे बड़े तारा मंडलों में की जाती है. यह अधुनिक खगौल विज्ञान और आकाशीय पिंडो कि जानकारी देता है.

अन्य दर्शनीय स्थल: पदरी की हवेली, उच्च न्यायालय, गोलघर, सचिवालय भवन, बुद्ध स्मृति पार्क, सभ्यता द्वार, महावीर मंदिर, खुदाबख्श लाइब्रेरी, सदाकत आश्रम और दरभंगा हाउस, इत्यादि

पटना कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
इसका अपना हवाई अड्डा है जो इसे भारत के सभी प्रमुख शहरों से जोड़ता है.नजदीकी हवाई अड्डा: जयप्रकाश नारायण एयरपोर्ट (Code: PAT) पटना शहर से लगभग 7 किलोमीटर दुरी पर स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से आप आसानी से यहाँ  आ सकते हैं . देश के अन्य प्रमुख शहरों से यहाँ  के लिए नियमित ट्रेन चलती है.नजदीकी रेलवे स्टेशन: पटना जंक्शन (Station code: PNBE) और राजेंद्र नगर टर्मिनल रेलवे स्टेशन (Station code: RJPB).

सड़क मार्ग
पटना,  राज्य और देश के प्रमुख नगरों से शहरों से सड़क मार्ग से अच्छे से जुड़ा हुआ है. आप चाहे तो अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी यहां आ सकते हैं.

Leave a Reply