Sarvan Kumar 09/04/2018

दुनिया में भारत की एक अलग पहचान हे. भारत शांति, संस्कृति, अतिथि सेवा इत्यादि के लिए जाना जाता हे.कई धर्मों जैसे
हिंदू ,सिख, जैन,बौद्ध का यहीं उदय हुआ है. सभी देशों ने मानव सभ्यता के विकास में कुछ ने कुछ दिया है. चीन ने चाय की खोज की थी अंग्रेजो ने रेलवे इंजन बनाया, अमेरिका ने पहली बार इंसान को चाँद पर पहुंचाया.आइये जानें पांच काम जिसे भारत ने खोजा और पूरी दुनिया ने अपनाया.

भारत का योगदान विश्व में क्या है?

1.भारत का गणित के क्षेत्र मे अहम योगदान है, आर्यभट्ट के शून्य के अविष्कार के बाद,गणित और विज्ञान के क्षेत्र मे क्रांति ही ला दिया।शून्य का अविष्कार ही पूरे ब्रह्माण्ड  को एक किताब मे समेट दिया.

2. साल के बारह महीने और सप्ताह के सात दिन रखने का परंपरा पूरे विश्व को भारत ने दिया.भारत का विक्रम संवत(हिन्दी कैलेंडर), अंग्रेजी कैलेंडर से बहुत साल पहले बना था। विक्रम संवत हिन्दी कैलेंडर में वर्ष के 12 महीने इस प्रकार हैं:-चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, सावन, भाद्र,  आश्विन,कार्तिक, अगहन, माघ, और फाल्गुण। इसी कैलेंडर में सप्ताह के सात दिन इस प्रकार हैं: Sunday(रविवार), Monday(सोमवार), Tuesday(मंगलवार), Wednesday(बुधवार), Thursday(गुरूवार), Friday (शुक्रवार) और Saturday(शनिवार)

3.पूरी दुनिया को व्यापार करना भी भारत ने सिखाया है। विश्व का सबसे बड़ा बाजार भारत में ही हुआ करता था। यहां के बाजार में विश्व के सारे देश सामान खरीदने तथा बेचने आते थे। व्यापार के कारण ही भारत सोने की चिड़ियां बना हुआ था। यहां पुर्तगाली ,डच, इस्लाम, फ्रेंच और अंग्रेज आए। कुछ यहां व्यापार पर कब्जा करने के लिए आए तो कुछ यहां के धन-दौलत लूटने के लिए आए।

4. भारत का हिन्दू संप्रदाय एक बड़ा जनसमूह है जो इंसानों को धर्म में बंधने की सीख नही देता है. हिन्दू कोई धर्म नही है, इसका कोई संस्थापक नही है, हिन्दू का धर्म ग्रंथ सिखलाता है कि कर्म ही इंसान का धर्म है। इंसान को इंसान समझना ही धर्म है।

5. भारत ही दुनिया का पहला देश है जिसने दुनिया को ज्ञान दिया, शिक्षित बनाया. दुनिया का सबसे बड़ा विश्वविद्यालय,नालंदा विश्वविद्यालय और तक्षशिला विश्वविद्यालय भारत मे ही था और इस तरह भारत विश्व गुरु बना था।

Daily Recommended Product: ( Today) Mi Power Bank 3i 10000mAh (Metallic Blue) Dual Output and Input Port | 18W Fast Charging

Leave a Reply