Ranjeet Bhartiya 16/05/2019

पाकुड़ भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक जिला है.झारखंड राज्य के उत्तर-पूर्वी छोड़ पर स्थित यह जिला संथाल परगना प्रमंडल के अंतर्गत आता है. पाकुड़ शहर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है. पाकुड़ जिले मेंं कितने पंचायत हैै? कितनी जनसंख्या है? आईये जानते हैं पाकुड़ जिले की पूरी जानकारी.

पाकुड़ जिला कब बना है

एक स्वतंत्र जिले के रूप में अस्तित्व में आने से पहले पाकुड़ साहिबगंज जिले का अनुमंडल हुआ करता था. 28 जनवरी 1994 को इसे साहिबगंज जिले से अलग करके स्वतंत्र जिला बनाया गया.

पाकुड़ जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
इस जिले की सीमा पश्चिम बंगाल से लगती है.

उत्तर में – साहिबगंज जिला
दक्षिण में – दुमका जिला और पश्चिम बंगाल का बीरभूम जिला
पूरब में- पश्चिम बंगाल का बीरभूम और मुर्शिदाबाद जिला
पश्चिम में – गोड्डा जिला और दुमका जिला

समुद्र तल से ऊंचाई :
ये जिला समुद्र तल से लगभग 377.3 फीट की ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 1811 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : तोरई, बंसलोई और ब्राह्मणी.

अर्थव्यवस्था- कृषि ,उद्योग और उत्पाद

जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, वन, पशुपालन, खनिज और उद्योग पर आधारित है.

कृषि
इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, मक्का, गेहूं, दलहन (मसूर, अरहर, काबुली चना) तिलहन (सरसों), जूट, गन्ना, प्याज ,आलू और सब्जियां.

जिले में  उगाए जाने वाले प्रमुख फल हैं: पपीता, आम, अमरूद और कटहल.

वन
इस जिले के प्रमुख वन उत्पाद हैं: कटहल, सीमल, अर्जुन और बांस

पशुपालन
पशुपालन जिले  के लोगों के लिए आय का एक अतिरिक्त जरिया है. लेकिन जिले के पशुधन की गुणवत्ता अच्छी नहीं है और उनकी उत्पादन क्षमता बहुत कम है.

खनिज
 जिले में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं:
ब्लैक स्टोन, फायर क्ले, ग्रेनाइट, कोयला, चीनी मिट्टी, सिलिका और पत्थर (भवन, सड़क और पूल इत्यादि में इस्तेमाल किए जाने वाले).

उद्योग
इस जिले में स्थित प्रमुख उद्योग हैं : कोयले का खनन, पत्थर क्रशर, स्टोन चिप्स और बांस की टोकरी बनाने का कार्य.

प्रशासनिक सेटअप

प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 1 अनुमंडल और 6 प्रखंडों में बांटा गया है.

प्रमंडल: संथाल परगना

अनुमंडल: इस जिले के अंतर्गत केवल 1अनुमंडल है- पाकुड़

प्रखंड:
पाकुड़ अनुमंडल को कुल 6 प्रखंडों में बांटा गया है: पाकुड़, हिरणपुर, लिट्टीपाड़ा, अमड़ापाड़ा, महेशपुर और पाकुड़िया.

पुलिस थानों की संख्या : 8
शहरी निकायों की संख्या : 1, पाकुड़

ग्राम पंचायतों की संख्या: 128
कुल गांवों की संख्या: 1250

निर्वाचन क्षेत्र
लोक सभा : राजमहल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र.
इस लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत पूरा साहिबगंज जिला तथा पाकुड़ जिला आता है.

विधानसभा
इस जिले के अंतर्गत कुल 3 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: लिट्टीपाड़ा, पाकुड़ और महेशपुर.

पाकुड़ जिला की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार पाकुड़ जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या : 9.00 लाख
पुरुष : 4.52 लाख
महिला: 4.47 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 28.33%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 497
झारखंड की जनसंख्या में अनुपात: 2.73%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 989

औसत साक्षरता: 48.82%
पुरुष साक्षरता : 57.06%
महिला साक्षरता: 40.52%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 7.50%
ग्रामीण जनसंख्या: 92.50%

प्रमुख भाषाएं : हिंदी और संथाली

पाकुड़ जिले की रिलिजन (धर्म)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, ये एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 45.55% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 35.87% है. दूसरे धर्मो की बात करें तो जिले में ईसाई 8.43%, सिख 0.04%, बौद्ध 0.03%, जैन 0.02% और अन्य 9.86% हैं.

पाकुड़ जिले में आकर्षक स्थल

सिदो-कान्हू मुर्मू पार्क

इस जिले में स्थित इस पार्क का ऐतिहासिक महत्व है.
सिदो मुर्मू और कान्हू मुर्मू संथाली स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने अंग्रेजों, जमींदारों और साहूकारों के अन्याय और अत्याचार के खिलाफ संघर्ष किया था. इस संघर्ष में  सिदो मुर्मू और कान्हू मुर्मू ने अपने जीवन की कुर्बानी दी थी.

मार्टेलो टावर

30 फीट ऊंचा और 20 फीट व्यास वाले इस ऐतिहासिक टावर का निर्माण अंग्रेजों ने 1856 में किया गया था. यह सिदो-कान्हू मुर्मू पार्क के दक्षिण पूर्वी भाग में स्थित है. इस टावर में फुल 52 छेद जिससे अंग्रेज सैनिक संथाल क्रांतिकारियों पर गोलीबारी किया करते थे.

पाकुड़ कैसे पहुंचें?

हवाई मार्ग
इस जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहाँ के लिए हवाई सुविधाएं उपलब्ध नहीं है.

निकटतम हवाई अड्डा: नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, कोलकाता (Code: CCU).

यह हवाई अड्डा पाकुड़ जिले से लगभग 285 किलोमीटर की दूरी पर पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में स्थित है.

रेल मार्ग
ये जिला  रेल मार्ग से देश के विभिन्न हिस्सों से अच्छे से जुड़ा हुआ है.
नजदीकी रेलवे स्टेशन: पाकुड़ रेलवे स्टेशन (Station Code: PKR).

सड़क मार्ग
सड़कों के नेटवर्क के माध्यम से ये जिला  राज्य और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. नेशनल हाईवे 34 और नेशनल हाईवे 133 जिले से होकर गुजरती है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

पाकुड़ जिले के  कुछ रोचक बातें

1. जनसंख्या की दृष्टि से  झारखंड का 18वां बड़ा जिला है.

2. क्षेत्रफल की दृष्टि से  झारखंड का 21वां बड़ा जिला है.

3. जनसंख्या घनत्व के मामले में  का झारखंड में 9वां स्थान है.

4. लैंगिक अनुपात के मामले में  झारखंड में 5वां स्थान है.

5. पाकुड़ प्रखंड के अंतर्गत आने वाला झीकरहाटी पाकुड़ जिले का सबसे बड़ी आबादी वाला गांव है.

6. सबसे ज्यादा गांव वाला प्रखंड: महेशपुर (345)

7. सबसे कम गांव वाला प्रखंड : अमड़ापाड़ा (123)

8. क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे बड़ा गांव:
अमड़ापाड़ा प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव पनछौरा (क्षेत्रफल -लगभग 1325.16 हेक्टेयर).

9. पाकुड़िया प्रखंड के अंतर्गत आने वाले गांव बिप्रांदीग्राम. (क्षेत्रफल-0.39 हेक्टेयर)

Leave a Reply