Sarvan Kumar 04/08/2021

बदायूं भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. उत्तर प्रदेश के पश्चिमी भाग में स्थित यह जिला रोहिलखंड क्षेत्र के केंद्र में स्थित है. बरेली मंडल के अंतर्गत आने वाले इस जिले का प्रशासनिक मुख्यालय बदायूं शहर है. यह जिला मुस्लिम धर्मावलंबियों के लिए एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है. कहा जाता है कि देश के पूर्वी हिस्से से आने वाले तीर्थ यात्रियों की दुआएं अजमेर शरीफ में तभी कबूल होती हैं जब वह बदायूं में नमाज अदा करते हैं. इसीलिए अजमेर जाने वाले तीर्थयात्री बदायूं में नमाज अदा करने के बाद ही अजमेर शरीफ जाते हैं. इस जिले को को प्रसिद्ध उर्दू शायर और हिंदी फिल्मों के गीतकार शकील बदायूं की जन्मस्थली होने का गौरव प्राप्त है. आइए जानते हैं बदायूं जिले की पूरी जानकारी।

बदायूं जिले का संक्षिप्त इतिहास

जिले का नामकरण इसके मुख्यालय शहर पर पड़ा है. कहा जाता है कि महाभारत काल में इसे “वेदमऊ” तथा बौद्ध काल में यह “बुद्धमऊ” के नाम से जाना जाता था. नगर के नजदीक मिले हुए एक शिलालेख से यह ज्ञात होता है कि 12वीं और 13वीं शताब्दी में इसे “वोदामयूता” के नाम से जाना जाता था जो कालांतर में अपभ्रंश के कारण “बदायूं” हो गया.

बदायूं  जिला कब बना

आजादी के बाद भी 11 दिसंबर 1949 तक बदायूं एक स्वतंत्र स्थानीय राज हुआ करता था. जुलाई 1949 में इसे भारतीय गणराज्य में विलय करके एक स्वतंत्र जिला बनाया गया.

बदायूं जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
यह जिला कुल 9 जिलों से घिरा हुआ है.
उत्तर में-अमरोहा जिला, मुरादाबाद जिला, रामपुर जिला और बरेली जिला
दक्षिण में-फर्रुखाबाद जिला और कासगंज जिला
पूरब में- शाहजहांपुर जिला
पश्चिम में-बुलंदशहर जिला और अलीगढ़ जिला
समुद्र तल से ऊंचाई
बदायूं समुद्र तल से लगभग 169 मीटर (554 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.
क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 4234 वर्ग किलोमीटर है.
प्रमुख नदियां:
जिले के प्रमुख नदियां हैं: गंगा, राम गंगा, सोत और अरिल.

अर्थव्यवस्था-कृषि, उद्योग और उत्पाद

जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, मछली पालन, वन, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.
कृषि
जिले की अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्वपूर्ण स्थान है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: गेहूं, बाजरा, धान, मक्का, गन्ना, दलहन (चना, अरहर, मसूर और मटर), तिलहन (सरसों और मूंगफली), गन्ना, आलू, हल्दी, तंबाकू और सब्जियां.
पशुपालन
जिले की ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पशुपालन का महत्वपूर्ण योगदान है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: भैंस भेड़, बकरी और पोल्ट्री.
मछली पालन
जिले के नदियों और जलाशयों से मछली का उत्पादन किया जाता है.
वन
जिले में पाए जाने वाले प्रमुख वन संपदा हैं: शीशम, बबूल, जामुन, आम और नीम.
खनिज
यह जिला खनिज संपदा से संपन्न नहीं है.

उद्योग

जिले में मेंथा तेल निकालने की औद्योगिक इकाइयां, कार्यरत हैं. जिले में जरी-जरदोजी का काम होता होता है. जिले में छोटे-मोटे कृषि आधारित उद्योग इकाइयां कार्यरत हैं. जिले में स्थित अन्य उद्योग हैं: फर्नीचर उद्योग, केमिकल उद्योग और रेडिमेड गारमेंट्स उद्योग.

व्यापार और वाणिज्य

यह जिला कृषि उत्पादों का व्यापार केंद्र हैं. जिले से निर्यात किए जाने वाले प्रमुख पदार्थ हैं: कृषि उत्पाद, अनाज मेंथा ऑयल और सब्जियां.
जिले में आयात किए जाने वाले प्रमुख पदार्थ हैं: पेट्रोलियम पदार्थ, कृषि उपकरण, दवाई, नमक और रोजमर्रा के सामान.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: बरेली
प्रशासनिक सहूलियत के लिए बदायूं जिले को 5 तहसीलों (अनुमंडल) और 15 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.
तहसील (अनुमंडल): इस जिले को कुल 5 तहसीलों में बांटा गया है: दातागंज, बदायूं सदर, सहसवान, बिल्सी और बिसौली.
विकासखंड (प्रखंड):
 जिले को कुल 15 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है: उसावां, म्याऊं, दातागंज, समरेर, सलारपुर, जगत, कादरचौक, उझानी, अंबियापुर, वजीरगंज, आसफपुर, बिसौली, इस्लामनगर, देहगावन और सहसवान.
पुलिस थानों की संख्या: 19
नगर पालिका परिषदों की संख्या: 7
नगर पंचायतों की संख्या: 13
ग्राम पंचायतों की संख्या: 1069
गांवों की संख्या: 1782
निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र: 1, बदायूं
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र: 6
जिले के अंतर्गत कुल 6 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: बिसौली, सहसवान, बिल्सी, बदायूं, शेखूपुर और दातागंज.

बदायूं जिले की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, इस जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-कुल जनसंख्या: 36.82 लाख
पुरुष: 19.67 लाख
महिला: 17.14 लाख
जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 19.95%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 712
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 1.84%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष): 871
औसत साक्षरता: 51.29%
पुरुष साक्षरता: 60.98%
महिला साक्षरता: 40.09%
शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या: 17.51%
ग्रामीण जनसंख्या: 82.49%

धार्मिक जनसंख्या

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, यह एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 77.89% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 21.47% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.17%, सिख 0.03%, बौद्ध 0.05% और जैन 0.02% हैं.
भाषाएं
जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी, उर्दू और पंजाबी.

बदायूं  जिले में  पर्यटन स्थल

इस बदायूं जिले में पौराणिक, धार्मिक, पुरातात्विक और ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थल हैं. जिले में स्थित प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

इख्लास खान का रोजा

पुरातात्विक दृष्टि से इस मुगलकालीन मकबरे का निर्माण नवाब इख्लास खान की बेगम ने अपने शौहर की स्मृति 1690 में करवाया था.

मुमताज महल की बहन का मकबरा

पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण खंडहर में तब्दील हो चुका मुमताज महल की छोटी बहन शाह परवर खानम का यह मकबरा बदायूं शहर से लगभग 3 किलोमीटर दूरी पर सोत नदी के तट पर स्थित है.

गौरीशंकर मंदिर

भगवान शिव को समर्पित इस प्रसिद्ध मंदिर की खास बात यह है कि यहां भगवान शिव रसलिंग के रूप में स्थापित हैं. पूरे भारत में केवल दो ही ऐसे मंदिर हैं जहां भगवान शिव रसलिंग के रूप में स्थापित हैं.
हजरत सुल्तान आफरीन रहमतुल्लाह अलेह (बड़े सरकार)
बदायूं में स्थित यह मजार मुस्लिमों के लिए एक पवित्र तथा महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है. आस्था के केंद्र इस मजार के बारे में मान्यता है कि यहां माथा टेके बिना अजमेर शरीफ में दुआएं कबूल नहीं होती और अजमेर शरीफ की यात्रा अधूरी मानी जाती है.

बदायूं  कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग

इस जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवाएं उपलब्ध नहीं है.
निकटतम हवाई अड्डा: पंतनगर एयरपोर्ट (Code: PGH).
यह हवाई अड्डा बदायूं से लगभग 132 किलोमीटर की दूरी पर उत्तराखंड के उधम सिंह नगर में जिले में स्थित है.
दूसरा नजदीकी हवाई अड्डा: पंडित दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट, आगरा (Code: AGR).
यह हवाई अड्डा बदायूं से लगभग 175 किलोमीटर की दूरी पर आगरा जिले में स्थित है.

रेल मार्ग

बदायूं रेलवे के नेटवर्क के माध्यम से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ, देश की राजधानी दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. निकटतम रेलवे स्टेशन: बदायूं रेलवे स्टेशन (Code: BEM)

सड़क मार्ग

यह जिला  सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.
नेशनल हाईवे 93 (NH 93) और स्टेट हाईवे 33 (SH 33) जिले से होकर गुजरती है.

बदायूं जिले की कुछ रोचक बातें

2011 के जनगणना के अनुसार,
1. जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में 17वां स्थान है.
2. लिंगानुपात के मामले में  उत्तर प्रदेश में 59वां स्थान है.
3. साक्षरता के मामले में बदायूं जिले का उत्तर प्रदेश में 68वां स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील: दातागंज (394).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील: बिल्सी (201)
6. जिले में कुल निर्जन गांवों की संख्या: 276.