Ranjeet Bhartiya 17/03/2019

रोहतास भारत के बिहार राज्य में स्थित एक जिला है. बिहार के दक्षिण-पश्चिम भाग में आने वाला यह जिला पटना प्रमंडल के अंतर्गत आता है. सासाराम, रोहतास जिले का मुख्यालय है. रोहतास में  कई आकर्षक स्थल है जैसे शेरशाह सूरी का मकबरा, रोहतासगढ़ का किला,  इंद्रपुरी डैम, कैमूर की पहाड़ी,  मझार कुंड ,गुप्ता धाम, मां तारा चंडी का मंदिर इत्यादि. इन जगहों को देखकर लगता है कि रोहतास का अतीत काफी समृद्ध रहा है.ये जगहेें पर्यटको को काफी लुुुुभाता है. रोहतास जिले में कितने ब्लाक हैं? कितनी जनसंख्या है?आईये जानते हैं  रोहतास जिले की पूरी जानकारी.

रोहतास जिले का इतिहास

भगवान राम के पूर्वज राजा रोहताश्व के नाम पर इस जिले का नाम रोहतास पड़ा. रोहताश्व  महान राजा हरिश्चंद्र के पुत्र थे.

गठन

10 नवंबर 1972 में एक स्वतंत्र जिले के रूप में अस्तित्व में आने से पहले रोहतास भूतपूर्व शाहाबाद जिले का हिस्सा था. 1972 में शाहाबाद जिले को दो भागों में बांटा गया- भोजपुर और रोहतास.

रोहतास जिले का भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
उत्तर में – बक्सर, भोजपुर और अरवल जिला
दक्षिण में – झारखंड का गढ़वा और पलामू जिला
पूर्व में – औरंगाबाद जिला
पश्चिम में- कैमूर जिला

समुद्र तल से ऊंचाई : 107.78 मीटर

क्षेत्रफल :
बक्सर जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3848 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : सोन और काव

अर्थव्यवस्था- कृषि ,उद्योग और उत्पाद

कृषि
इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, गेहूं, मक्का और दाल. रोहतास जिले को बिहार का धान का कटोरा भी कहा जाता है.

उद्योग
जिले में बड़े उद्योगों का अभाव है. जिले में सीमेंट और पत्थर खनन उद्योग स्थित हैं.

रोहतास जिले का शासनिक सेटअप

रोहतास जिले के डीम कौन है?

प्रमंडल: पटना
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 3 अनुमंडलों और 19 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल: इस जिले के अंतर्गत कुल 3 अनुमंडल हैं: सासाराम, डेहरी ऑन सोन और बिक्रमगंज.

प्रखंड: रोहतास जिले के अंतर्गत कुल 19 प्रखंड हैं-
अखोरिगोला, बिक्रमगंज, चेनारी, दवाथ, डेहरी, दिनारा, काराकाट, करह्गर, कोचस, नासरीगंज, नौहट्टा, नोखा, राजपुर, रोहतास, संझौली, सासाराम, शिवसागर, सुर्यपुरा और तिलौथू

ग्राम पंचायतों की संख्या: 245
कुल गांवों की संख्या: 2072

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा
रोहतास 3 लोक सभा के निर्वाचन क्षेत्रों का हिस्सा है: सासाराम; काराकाट और बक्सर (पार्ट).

विधानसभा
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की संख्या: 7, चेनारी, सासाराम, करगहर, दिनारा, नोखा, डेहरी और काराकाट

रोहतास जिले की डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी)

2011 की आधिकारिक जनगणना के अनुसार,
कुल जनसंख्या : 29.60 लाख
पुरुष : 15.43 लाख
महिला: 14.16 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय) : 20.78%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर) : 763
बिहार की जनसंख्या में अनुपात : 2.84%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 918

औसत साक्षरता: 73.37%
पुरुष साक्षरता : 82.88%
महिला साक्षरता: 62.97%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 14.45%
ग्रामीण जनसंख्या: 85.55%

रोहतास जिले में किस धर्म के कितने लोग हैं?

अधिकारिक जनगणना 2011 के अनुसार, रोहतास एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 89.37% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 10.15% है. अन्य धर्मो की बात करें तो जिले में ईसाई 0.10%, सिख 0.09%, बौद्ध 0.05% और जैन 0.01% हैं.

रोहतास आकर्षक स्थल

मां तारा चंडी का मंदिर

मां तारा चंडी मंदिर इस जिले का एक प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर है. यह भारत के 52 शक्तिपीठों में से एक है. ऐसी मान्यता है कि यहां पर मां सती की दाहिनी आंख गिरी थी.

गुप्ता धाम

गुप्तेश्वर धाम स्थित शिवलिंग की गिनती बिहार के प्राचीनतम शिवलिंगों में की जाती है. पहाड़ी पर स्थित इस पवित्र गुफा का द्वार 18 फीट चौड़ा एवं 12 फीट ऊंचा है. गुफा में लगभग 363 फीट अंदर जाने पर एक बहुत बड़ा गड्ढा है जिसमें साल भर पानी रहता है.ऐसी मान्यता है कि इस गुफा में जलाभिषेक करने से सारे मान्यताएं पूरी होती है.

शेरशाह सूरी का मकबरा

शेरशाह सूरी का मकबरा जिले का प्रमुख पर्यटन आकर्षण है. यह मकबरा शेरशाह के जीवन काल के साथ-साथ उसके बेटे इस्लाम शाह के शासन काल में बनाया गया था. इसका निर्माण शेर शाह की मृत्यु के 3 महीने बाद 16 अगस्त 1545 में पूरा हुआ.सासाराम में स्थित यह मकबरा कृत्रिम झील के बीच बना हुआ है. यह मकबरा इस्लामी वास्तुकला का उत्कृष्ट नमूना है.

रोहतासगढ़ का किला

रोहतासगढ़ किला कैमूर पर्वत श्रेणी पर , डेहरी से लगभग 40 किलोमीटर दूरी पर दक्षिण में स्थित है. इस किले की गिनती भारत के प्राचीन किलों की जाती है. कहा जाता है कि रोहतास गढ़ शहर की स्थापना महान राजा हरिश्चंद्र के बेटे रोहताश्व ने किया था.

इंद्रपुरी डैम

1407 मीटर लंबा इंद्रपुरी बराज सोन नदी पर स्थित है. यह दुनिया का चौथा सबसे लंबा बांध है.

कैमूर की पहाड़ी

कैमूर की पहाड़ी प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर एक रोमांचक स्थल है. कैमूर की गुफाओं में हजारों वर्ष पुराने शैल चित्र मौजूद हैं.

मझार कुंड

मंझार कुंड झरना रोहतास जिले के मुख्यालय सासाराम के पास स्थित है. इसकी गिनती भारत के बेहतरीन वाटर फॉल्स में की जाती है.

धुआं कुंड

यह झरना मीलों की ऊंचाई से गिर कर नदी में मिल जाता है. यहां पर पानी का प्रभाव काफी तीव्र गति से होता है.

रोहतास से पहुंचे?

हवाई मार्ग
रोहतास जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है.
निकटतम हवाई अड्डा: गया एयरपोर्ट (GAY), वाराणसी एयरपोर्ट (VNS), और पटना एयरपोर्ट (PAT) है जो सासाराम से क्रमशः 120, 145 और 147 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से आप आसानी से रोहतास आ सकते हैं . देश के अन्य प्रमुख शहरों से रोहतास के लिए नियमित ट्रेन चलती है.
नजदीकी रेलवे स्टेशन: सासाराम (SSM).

सड़क मार्ग
सासाराम राज्य और देश के प्रमुख नगरों से शहरों से सड़क मार्ग से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए बस सुविधाएं भी उपलब्ध हैं .
आप चाहे तो अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी यहां आ सकते हैं.

Leave a Reply