Ranjeet Bhartiya 11/09/2019

लखनऊ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. यह उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी है. उत्तर प्रदेश राज्य के मध्य भाग में स्थित यह शहर लखनऊ प्रमंडल का प्रशासनिक मुख्यालय है. “नवाबों के शहर” के रूप में विख्यात यह जिला अपने गौरवशाली ऐतिहासिक पृष्ठभूमि, बहुसांस्कृतिक वातावरण, कला और साहित्य के केंद्र, ऐतिहासिक इमारतों, दशहरी आम के बागों, सुंदर बगीचों और लजीज व्यंजनों के लिए प्रसिद्ध है.लखनऊ जिले में कितनी तहसील है? कितनी जनसंख्या है?  आईये जानते हैं लखनऊ जिले की पूरी जानकारी.

नामकरण

जिले के नामकरण के बारे में प्रमाणिक लिखित विवरण और ऐतिहासिक रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है. इसके नाम की उत्पत्ति के बारे में कई मान्यताएं हैं.पहली मान्यता यह है कि इस शहर का मूल नाम भगवान लक्ष्मण राम के छोटे भाई लक्ष्मण के नाम पर “लक्ष्मणपुरी” था जो कालांतर में लखनऊ हो गया. दूसरा मत यह है कि शहर का नाम लखन नाम के एक ग्वाले के नाम पर रखा गया था जो एक मुस्लिम संत के आशीर्वाद के कारण धनी हो गया था.

लखनऊ जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
यह जिला 5 जिलों से घिरा हुआ है.
उत्तर में-बाराबंकी जिला, सीतापुर जिला और हरदोई जिला
दक्षिण में-रायबरेली जिला
पूरब में-बाराबंकी जिला
पश्चिम में-उन्नाव जिला

समुद्र तल से ऊंचाई
लखनऊ शहर समुद्र तल से लगभग 123 मीटर (404 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
लखनऊ जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 2528 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां:
जिले की प्रमुख नदियां है: गोमती, सई और बेहटा.

अर्थव्यवस्था-कृषि, उद्योग और उत्पाद

इस जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, वन, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.

कृषि

जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, गेहूं, मक्का, ज्वार, बाजरा, बार्ली, दलहन (मसूर, चना, मूंग, उरद, अरहर और मटर), तिलहन (मूंगफली, सरसों और तिल), गन्ना, तंबाकू, मिर्ची, आलू, लहसुन, प्याज और सब्जियां. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फल हैं: आम, अमरूद, नींबू, पपीता, केला और कटहल.
लखनऊ जिला दशहरी आम के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है.

पशुपालन

ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन जिले के लोगों के लिए आय का एक महत्वपूर्ण जरिया है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: गाय, बैल, भैंस, सूअर, भेड़, बकरी और पोल्ट्री.

वन

जिले में पाए जाने वाले प्रमुख वन संपदा हैं: शीशम, ढाक महुआ, बबूल, नील, पीपल, अशोक, खजूर, आम और गूलर

उद्योग

जिले में स्थित प्रमुख उद्योग हैं: हिंदुस्तान एयरोनॉटिकल लिमिटेड, टाटा मोटर्स, स्कूटर इंडिया लिमिटेड, एवरेडी इंडस्ट्रीज, डेयरी इंडस्ट्रीज और चीनी मिल. जिले में भारी संख्या में लघु औद्योगिक इकाइयां कार्यरत हैं, जिनमें प्रमुख हैं-पतंग उद्योग, तंबाकू प्रोडक्ट्स, इत्र चांदी के बर्तन और सजावटी सामान बनाने की इकाइयां.

व्यवसाय

यह जिला आम, तरबूज, खरबूज, अनाज, चीनी, पतंग और हस्तशिल्प वस्तुओं का व्यापार केंद्र है.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: लखनऊ
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 5 तहसीलों (अनुमंडल) और 8 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.

तहसील (अनुमंडल):
लखनऊ जिले को कुल 5 तहसीलों में बांटा गया है: बख्शी का तालाब, मलिहाबाद, लखनऊ सदर, सरोजनी नगर और मोहनलालगंज

विकासखंड (प्रखंड):
इस जिले को कुल 8 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है-बख्शी का तालाब, मॉल, मलिहाबाद, काकोरी, चिनहट, गोसाईगंज, सरोजनी नगर और मोहनलालगंज.

पुलिस थानों की संख्या: 43
नगर निकायों की संख्या: 9
ग्राम पंचायतों की संख्या: 540
गांवों की संख्या: 961

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र: 2, लखनऊ और मोहनलालगंज

विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र: 9
इस जिले के अंतर्गत कुल 6 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: लखनऊ पश्चिम, लखनऊ उत्तर, लखनऊ पूर्व, लखनऊ सेंट्रल, लखनऊ कैंट, मलिहाबाद, बख्शी का तालाब, सरोजिनी नगर और मोहनलालगंज.

लखनऊ जिले की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, लखनऊ जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या: 45.90 लाख
पुरुष: 23.94 लाख
महिला: 21.95 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 25.82%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 1816
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 2.30%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष): 917

औसत साक्षरता: 77.29%
पुरुष साक्षरता: 82.56%
महिला साक्षरता: 71.54%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या: 66.21%
ग्रामीण जनसंख्या: 33.79%

धार्मिक जनसंख्या

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, यह एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 77.08% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 21.46% है.अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.45%, सिख 0.52%, बौद्ध 0.08%, जैन 0.11% और अन्य 0.01% हैं.

भाषाएं
इस जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी, उर्दू और अवधि.

लखनऊ के दर्शनीय स्थल

इस जिले में पौराणिक, धार्मिक, पुरातात्विक और ऐतिहासिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थल हैं. जिले में स्थित प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

बड़ा इमामबाड़ा

गोमती नदी के तट पर स्थित यह ऐतिहासिक इमारत अपने अद्भुत वास्तु कला के लिए प्रसिद्ध है. यह भूलभुलैया के नाम से भी जाना जाता है. हरे भरे बगीचों से घिरे इस इमारत का निर्माण 1784 में नवाब आसफ-उद-दौला ने करवाया था.

छोटा इमामबाड़ा

इस ऐतिहासिक इमारत को हुसैनाबाद इमामबाड़ा के नाम से भी जाना जाता है. इसका निर्माण मोहम्मद अली शाह ने 1837 इसमें करवाया था.

घंटाघर

221 फीट ऊंचा यह ऐतिहासिक घंटाघर इमामबाड़ा के सामने स्थित है. यह घंटाघर ब्रिटिश वास्तुकला का शानदार नमूना है. इसका निर्माण 1887 ईस्वी में करवाया गया था.

रेजीडेंसी

इस ऐतिहासिक इमारत का निर्माण सआदत अली खान के शासनकाल के दौरान (1780-1800) किया गया था.

रूमी दरवाजा

60 फीट ऊंचे इस ऐतिहासिक इमारत को लखनऊ का प्रवेश द्वार कहा जाता है. यह अपने खूबसूरत बनावट के लिए प्रसिद्ध है. इसका निर्माण 1786 में नवाब आसफ-उद-दौला ने करवाया था.

मनकामेश्वर मंदिर

भगवान शिव और माता पार्वती को ₹100 दिया प्रसिद्ध मंदिर डोलीगंज में गोमती नदी के किनारे स्थित है समीप स्थित है.

हनुमान मंदिर, अलीगंज

हनुमान जी को समर्पित यह प्राचीन मंदिर अलीगंज में स्थित है.

लखनऊ कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग

इस जिले का अपना हवाई अड्डा है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवा उपलब्ध हैं. निकटतम हवाई अड्डा: चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट, लखनऊ (Code: LKO). यह हवाई अड्डा लखनऊ शहर केंद्र से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर अमौसी में स्थित है.

रेल मार्ग

लखनऊ रेल मार्ग से  देश के विभिन्न हिस्सों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. निकटतम रेलवे स्टेशन: लखनऊ चारबाग रेलवे स्टेशन (Code: LKO), लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन (Code: LJN), उतरेटिया जंक्शन रेलवे स्टेशन (Code: UTR), और लखनऊ सिटी रेलवे स्टेशन (Code: LC).

सड़क मार्ग

यह जिला  सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.
नेशनल हाईवे 24, नेशनल हाईवे 25, नेशनल हाईवे 26 और नेशनल हाईवे 56 जिले से होकर गुजरती है.

लखनऊ जिले की कुछ रोचक बातें:

2011 के जनगणना के अनुसार,
1.जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में 5वां स्थान है.
2.लिंगानुपात के मामले में उत्तर प्रदेश में 24वां स्थान है.
3.साक्षरता के मामले में उत्तर प्रदेश में छठा स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील: मोहनलालगंज (229).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील: मलिहाबाद और बख्शी का तालाब (185)
6. जिले में कुल निर्जन गांवों की संख्या: 4.

Leave a Reply