Ranjeet Bhartiya 10/04/2019

Last Updated on 07/09/2020 by Sarvan Kumar

हजारीबाग भारत के झारखंड राज्य में स्थित एक जिला है. झारखंड के उत्तरी भाग में आने वाला यह जिला उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के अंतर्गत आता है. यह उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल का मुख्यालय भी है.उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के अंतर्गत कुल 7 जिले आते हैं: हजारीबाग, चतरा, कोडरमा, गिरिडीह, धनबाद बोकारो और रामगढ़ यहाँ आकर आप इसकी नैसर्गिक सौंदर्य का आनंद ले सकते हैं.हजारीबाग  जिले में कितने पंंचायत है? कितनी जनसंख्या है? यहाँ घूमने लायक जगह कौन – कौन है? आईये जानते हैं हजारीबाग जिले की पूरी जानकारी.

नामकरण

इस जिले के नामकरण फारसी भाषा के 2 शब्दों पर हुआ है: हजारी+बाग. हजारी का अर्थ होता है ‘एक हजार’ जबकि बाग का अर्थ होता है “बगीचा” या “वाटिका”. इस तरह से हजारीबाग का अर्थ है “हजार बगीचों वाला शहर”.

हजारीबाग जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)

उत्तर में – कोडरमा और बिहार का गया जिला
दक्षिण में – रामगढ़ और रांची जिला
पूरब में- गिरिडीह और बोकारो जिला
पश्चिम में – चतरा जिला

समुद्र तल से ऊंचाई :
हजारीबाग शहर समुद्र तल से लगभग 2000 फीट (लगभग 610 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 3555 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां : दामोदर, बराकर और कोनार.

अर्थव्यवस्था- कृषि ,उद्योग और उत्पाद

इस जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, वन ,खनिज, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.

कृषि
जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: गेहूं, धान, मक्का, दलहन ( चना और अरहर) और तिलहन (सरसों) ,इत्यादि

पशुपालन
पशुपालन जिले के लोगों के लिए आय का एक महत्वपूर्ण जरिया है. यहां स्थानीय नस्ल की गाय और बकरी को पाला जाता है.

खनिज
इस जिले में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं:
कोयला, ग्रेनाइट, बॉक्साइट , डोलोमाइट , लेटराइट और क्वार्ट्ज इत्यादि

उद्योग
इस जिले में बांस की टोकरी बनाने का काम और महुआ फूलों की बिक्री की जाती है. जिले में पशुपालन विशेषकर सूअर और मत्स्यपालन की असीम संभावनाएं हैं.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: उत्तरी छोटानागपुर
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 2 अनुमंडलों और 16 प्रखंडों में बांटा गया है.

अनुमंडल: इस जिले के अंतर्गत कुल 2 अनुमंडल हैं- हजारीबाग सदर और बरही

प्रखंड:
इस जिले को को 16 प्रखंडों में बांटा गया है.

हजारीबाग अनुमंडल के अंतर्गत कुल 11 प्रखंड है :
केरेडारी, टाटीझरिया, हजारीबाग सदर, चुरचू, इचाक, कटकमसांडी, बड़कागांव, कटकमदाग, विष्णुगढ़, दारू
और दाड़ी.

बरही अनुमंडल के अंतर्गत कुल 5 प्रखंड हैं: चलकुशा, पद्मा, चौपारण, बरकट्ठा और बरही

शहरी निकायों की संख्या : 1, हजारीबाग

पुलिस थानों की संख्या :17

ग्राम पंचायतों की संख्या: 257
कुल गांवों की संख्या: 1336

निर्वाचन क्षेत्र
इस जिले के अंतर्गत 1 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र और 4 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं.

लोक सभा
इस जिले के अंतर्गत केवल एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है: हजारीबाग.

विधानसभा
हजारीबाग लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत कुल 4 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: हजारीबाग,बड़कागांव बरही और मांडू (पार्ट रामगढ़ जिला)

हजारीबाग जिले की डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार इस जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या : 17.34 लाख
पुरुष : 8.90 लाख
महिला: 8.43 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 20.65%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 488
झारखंड की जनसंख्या में अनुपात: 5.26%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष) : 947

औसत साक्षरता: 69.75%
पुरुष साक्षरता : 80.01%
महिला साक्षरता: 58.95%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या : 15.87%
ग्रामीण जनसंख्या: 84.13%

धर्म
2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, ये एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 80.56% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 16.21% है. दूसरे धर्मो की बात करें तो जिले में ईसाई 0.99%, सिख 0.08%, जैन 0.1% और अन्य 1.97% हैं.

हजारीबाग जिला टूरिस्ट प्लेस

इस जिले में ऐतिहासिक, पुरातात्विक और धार्मिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थान हैं. जिले में स्थित महत्वपूर्ण दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

नरसिंह मंदिर

भगवान विष्णु के चौथे अवतार नरसिंह को समर्पित यह प्रसिद्ध मंदिर हजारीबाग जिला मुख्यालय से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर बड़कागांव गांव रोड पर, खपरियांवा गांव में स्थित है.

सूर्य कुंड

सूर्य कुंड, हजारीबाग से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर बरकट्ठा ब्लॉक में स्थित है. यहां पानी का सामान्य तापमान 76 से 87 डिग्री सेंटीग्रेड रहता है. दो गरम पानी के कुंड के अलावा यहां पर ठंडे पानी के कुंड भी हैं. सल्फर की अधिक मात्रा होने के कारण पानी में औषधीय गुण पाए जाते हैं.
यहां कुल 5 कुंड हैं: सूर्य कुंड, राम कुंड, सीता कुंड , लक्ष्मण कुंड और ब्रह्मा कुंड.

हजारीबाग झील

हजारीबाग झील जिले में स्थित एक लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है जो वाटर स्पोर्ट के (जल क्रीड़ा) लिए विख्यात है.यहां पर सूर्योदय और सूर्यास्त देखना एक रोमांचक अनुभव होता है.

कैनरी पहाड़

कैनरी पहाड़ हजारीबाग शहर से लगभग 3 किलोमीटर दूर और हजारीबाग रेलवे स्टेशन से 8 किलोमीटर दूरी पर स्थित अत्यंत ही सुंदर पहाड़ है.यह स्थान चारों ओर से जंगलों से घिरा हुआ है. पहाड़ी के ऊपर 3 झीलें भी हैं जोकि इसकी सुंदरता को और बढ़ा देते हैं. यहां पर भारी संख्या में लोग पिकनिक मनाने आते हैं.

हजारीबाग वन्यजीव अभ्यारण्य

लगभग 184 वर्ग किलोमीटर में फैला हजारीबाग वन्यजीव अभ्यारण्य हजारीबाग शहर से लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. इस अभयारण्य में विभिन्न प्रजाति के पेड़ पौधों और जीव जंतुओं को संरक्षित किया गया है . यहां आप नीलगाय, चीतल, भालू सांभर इत्यादि को देख सकते हैं.

 हजारीबाग कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
हजारीबाग जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहाँ के लिए डायरेक्ट हवाई सुविधाएं उपलब्ध नहीं है.

निकटतम हवाई अड्डा:बिरसा मुंडा एयरपोर्ट ,रांची (Code: IXR) .
यह हवाई अड्डा हजारीबाग जिले से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर झारखंड की राजधानी रांची में स्थित है.

रेल मार्ग
रेल मार्ग से आप आसानी से हजारीबाग आ सकते हैं. हजारीबाग रेल मार्ग से झारखंड के शहरों के साथ-साथ देश के अन्य भागों से जुड़ा हुआ है. देश के अन्य प्रमुख शहरों से हजारीबाग के लिए नियमित ट्रेन चलती है. नजदीकी रेलवे स्टेशन: हजारीबाग रेलवे स्टेशन (Code: HZBN).

सड़क मार्ग
सड़कों के नेटवर्क के माध्यम से हजारीबाग राज्य और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. झारखंड की राजधानी रांची और बिहार की राजधानी पटना से हजारीबाग के लिए अनियमित बस सुविधाएं उपलब्ध हैं.आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं.

हजारीबाग जिले के कुछ रोचक बातें:

1.जनसंख्या की दृष्टि से झारखण्ड का 7वां बड़ा जिला है.

2 क्षेत्रफल की दृष्टि से हजारीबाग झारखंड का 12वां बड़ा जिला है.

3.जनसंख्या घनत्व के मामले में  झारखंड में 11वां स्थान है.

4.लैंगिक अनुपात के मामले में  झारखंड में 16वां स्थान है.

5.विष्णुगढ़ प्रखंड के अंतर्गत आने वाला अचलजामु  सबसे बड़ी आबादी वाला गांव है.

6. सबसे ज्यादा गांव वाला प्रखंड: चौपारण (268)

7.सबसे कम गांव वाला प्रखंड : दाड़ी (25)

8.क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे बड़ा गांव:
विष्णुगढ़ प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव खरकी ( क्षेत्रफल -लगभग 3516.96 हेक्टेयर).

9.क्षेत्रफल की दृष्टि से जिले का सबसे छोटा गांव:
हजारीबाग प्रखंड के अंतर्गत आने वाला गांव मराई (क्षेत्रफल- 1 हेक्टेयर)

"चाहे हम किसी देश, किसी क्षेत्र में रह रहे हो ऑनलाइन शॉपिंग ने  दुनिया भर के दुकानदारों को हमारे कंप्यूटर में ला दिया है। अगर हमें कोई चीज पसंद नहीं आती है तो उसे हम तुरंत ही लौटा भी सकते हैं। काफी मेहनत और Research करने के बाद  हम लाएं है आपके लिए Best Deal Online.

"

Leave a Reply