उत्तर प्रदेश बोर्ड का रिजल्ट आ चुका है। बाराबंकी के आकाश मौर्य ने 93.20 अंक हासिल करके पहला स्‍थान पाया है. U.P साईंस टाॅपर आकाश मौर्य के मुताबिक वह इंजीनियर बनना चाहते हैं. आकाश के अनुसार उनकी सफलता के पीछे उनके शिक्षकों और अभिभावकों की कड़ी मेहनत है. आकाश का कहना है कि उनके अभिभावकों ने उनके लिए हर सुविधा की व्‍यवस्‍थाएं की. इसके कारण उन्‍हें परीक्षा की  तैयारी करने में परेशानी नहीं हुई. उनका कहना है कि मेहनत करके पढ़ाई की जाए तो सफलता जरूर मिलती है.

ऑटो ड्राइवर हैं आकाश मौर्य के पिताजी: आकाश ने बताया कि उनके पिता बाराबंकी में ऑटो ड्राइवर हैं. आकाश की पढ़ाई को लेकर वह सजग रहे और उसे हर संभव सुविधाएं दी. आकाश ने बताया कि उसके अभिभावकों ने उसकी पढ़ाई के लिए हर संभव मदद की. इसी के बदौलत उसे यह सफलता प्राप्‍त करने में मदद मिली. आकाश मौर्य ने राज्य मे प्रथम स्थान लाकर अपने समाज का स्वभिमान भी बढ़ाया है.वह क्षत्रिय कुशवाहा हिन्दू समाज से आते हैं. उन्होने समाज के लोगों को भी संदेश दिया है कि समाज के विकास के लिए शिक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है।

आकाश मौर्य से हर लोगो को सिखने की जरूरत: आकाश का परिवार गरीब है मगर उनके परिवार के लोग समझदारी से काम लेते हुए शिक्षा पर ध्यान दिया और अपने घर के बेटे आकाश के अच्छी पढाई के लिए हर संभव प्रयास किया. परिवार वालो ने चाहा और नतीजा सामने आया. राज्य का टाॅपर बनना एक उपल्बधि होता है, जिस उपल्बधि को आकाश मौर्य ने हासिल किया.

 

Leave a Reply