Ranjeet Bhartiya 14/04/2020

कोरोना वायरस अब तक 200 से ज्यादा देशों को अपने चपेट में ले चुका है. अमेरिका समेत कई विकसित देश भी इसके इस महामारी के सामने घुटने टेक चुके हैं. लेकिन भारत ने अब तक इस जानलेवा वायरस का डटकर सामना किया है. सही समय पर देश में लॉक डाउन लागू कर देने का फैसला कोरोनावायरस के रोकथाम के लिए अत्यंत ही प्रभावशाली सिद्ध हो रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के नाम अपने संदेश में लॉक डाउन की अवधि को बढ़ाकर 3 मई कर दिया है. साथ ही उन्होंने अपने भाषण में 7 बातों का जिक्र किया है जिसका पालन करके भारत कोरोना को परास्त कर सकता है.

इन 7 बातों का पालन करें

पहली बात: अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें

अब तक के आंकड़ों के अनुसार, कोरोना संक्रमण सबसे ज्यादा बुजुर्गों को अपना शिकार बना रहा है. विशेषकर ऐसे बुजुर्ग जो पुरानी बीमारी से पीड़ित हों जैसे डायबिटीज, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप. इसीलिए जरूरी है कि बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखा जाए जिससे वह इस जानलेवा बीमारी के चपेट में ना आ पाएं.

दूसरी बात-Social Distancing का निष्ठा पूर्वक पालन

सोशल डिस्टेंस कोरोना वायरस से लड़ने का सबसे प्रभावशाली हथियार है. लॉक डाउन लागू करने का उद्देश्य भी यही था कि लोग कोरोना संक्रमितो के संपर्क में ना आएं. कोरोना को हराने के लिए लॉक डाउन तथा सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा का सम्मान करना अत्यंत ही आवश्यक है. अगर राशन लाना हो, सब्जी लाना हो या कुछ जरूरी सामान लाना हो तो बाहर जाते वक्त फेस कवर या मास्क का प्रयोग जरूर करें.

तीसरी बात- इम्यूनिटी बढ़ाएं

जैसा कि आप जानते हैं कोरोना वायरस का कोई टीका नहीं है, ऐसे में प्रकृति द्वारा दी गई और रोग प्रतिरोधक क्षमता आपको इस जानलेवा वायरस से बचा सकती है. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा जारी जारी किए गए दिशा निर्देशों का पालन करें. गर्म पानी, काढ़ा का सेवन करें तथा नियमित रूप से व्यायाम या योगाभ्यास करें.

चौथी बात-आरोग्य सेतु मोबाइल App जरूर डाउनलोड करें

जागरूकता और सही जानकारी कोरोना महामारी से बचने के लिए अत्यंत जरूरी है.भारत सरकार के द्वारा विकसित किया गया है यह App लोगों को कोरोनावायरस के खतरे तथा आसपास मौजूद कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के बारे में पता लगाने में मदद करता है. कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने में मदद करने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल App जरूर डाउनलोड करें. दूसरों को भी इस App को डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करें.

पांचवी बात-गरीब परिवार की देखरेख करें

यह बात हमें नहीं भूलना चाहिए की कोरोना से लड़ने का काम केवल सरकार, प्रशासन और मेडिकल टीम का ही है. लॉक डाउन के कारण बहुत लोगों के सामने रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है. ऐसे में जरूरी है कि हम अपने सामाजिक दायित्वों को समझे तथा जहां तक संभव हो सके गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद करें.

छठी बात:काम करने वाले को नौकरी से नहीं निकाले

डाउन के कारण उद्योग, व्यवसाय, दफ्तर और कारखाने बंद पड़े हैं. मुश्किल की इस घड़ी में जरूरी है कि अपने साथ काम करने वाले लोगों के प्रति हम संवेदना का भाव रखें तथा उन्हें नौकरी से नहीं निकाले.

सातवीं बात: कोरोना योद्धाओं सम्मान करें

देश के कोरोना योद्धाओं,हमारे डॉक्टर- नर्सेस, सफाई कर्मी-पुलिसकर्मी का पूरा सम्मान करें. पूरी निष्ठा के साथ 3 मई तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करें,जहां हैं,
वहां रहें, सुरक्षित रहें.

Leave a Reply