Sarvan Kumar 08/01/2019

कपिलदेव भारत के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी हैं. कपिल देव को हरियाणा हरिकेन के नाम से भी जाना जाता है. वे भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और 10 महीनों तक भारतीय क्रिकेट टीम के कोच भी रह चुके हैं. इनकी गिनती क्रिकेट के महानतम खिलाड़ियों में होती है. इनकी कप्तानी में भारत ने 1983 में वेस्ट इंडीज जैसी मज़बूत टीम को हराकर वर्ल्ड कप जीतकर दुनिया को चौंका दिया था.आइए जानते हैं कपिल देव का संक्षिप्त जीवन परिचय.

ऑलराउंडर कपिल देव

कपिल देव अपने समय में भारतीय टीम के सबसे एनर्जेटिक और अनुशासित खिलाड़ी माने जाते थे. वो एक दमदार फास्ट बॉलर के साथ -साथ निचले क्रम के आक्रमक बल्लेबाज और शानदार फील्डर भी थे. दाएं हाथ के बैट्समैन और दाएं हाथ के फास्ट बॉलर कपिल की गिनती क्रिकेट इतिहास के महानतम ऑल राउंडरों में की जाती है.

व्यक्तिगत जीवन

कपिल देव का पूरा नाम कपिल देव निखंज है. इनका जन्म 6 जनवरी 1959 को चंडीगढ़ में हुआ. इनके पिता का नाम रामलाल निखंज है . उनकी माता का नाम राजकुमारी निखंज है .कपिल के माता पिता मूलतः पाकिस्तान के रहने वाले थे. माता का जन्म सूफी संत बाबा फरीद की नगरी पाकपट्टन (पाकिस्तान) में हुआ था, जबकि पिता देपालपुर (पाकिस्तान) के रहने वाले थे.

पाकिस्तान से चंडीगढ़ तक का सफर

शादी के बाद कपिल देव के माता पिता कुछ वर्षों तक पाकिस्तान के शाह यक्का शहर में रहे जो कि वर्तमान में पाकिस्तान का ओकाड़ा जिला है. यही पर विभाजन से पहले कपिल देव की चार बहनों का जन्म हुआ था. विभाजन के बाद कपिल देव के पिता फाजिल्का (भारत) चले आए. यहां पर उनके दो भाइयों का जन्म हुआ.कुछ वर्षों बाद कपिल देव के पिता चंडीगढ़ चले आए जहां कपिल देव का जन्म हुआ. कपिल देव की स्कूली शिक्षा चंडीगढ़ के डीएवी स्कूल में हुई. चंडीगढ़ में उन्होंने प्रसिद्ध क्रिकेट कोच देश प्रेम आजाद से क्रिकेट खेलना सीखा.

रोमी भाटिया से किया शादी

कपिल देव की शादी 1980 में रोमी भाटिया से हुई. इनकी एक बेटी है जिनका नाम है अमिया देव. अमिया का जन्म 16 जनवरी 1996 को हुआ.

क्रिकेट करियर

कपिलदेव 1983 में विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान थे.भारत के लिए 16 साल (1978 से लेकर 1994) तक क्रिकेट खेले.16 अक्टूबर 1978 को पहला टेस्ट मैच पाकिस्तान के खिलाफ खेला.19 मार्च 1994 को न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना आखिरी टेस्ट मैच खेला.1 अक्टूबर 1978 को अपना पहला 5 एकदिवसीय मैच पाकिस्तान के खिलाफ खेला.अपना आखिरी वनडे मैच 17 अक्टूबर 1994 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला.

कपिल देव का बॉलिंग करियर

1.भारत के लिए 131 टेस्ट मैच खेले जिसमें उन्होंने 434 विकेट लिया.

2. 225 वनडे मैच खेले जिसमें उन्होंने 253 विकेट लिया.

3. रिटायर होने के समय कपिल देव भारत के लिए टेस्ट मैच और वनडे मैच में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे.

4. एकदिवसीय मैचों में 200 विकेट लेने वाले विश्व के पहले गेंदबाज थे कपिल देव.

5. 1994 में उन्होंने रिचर्ड हेडली के रिकॉर्ड को तोड़ कर टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बॉलर बने.

कपिल देव का बैटिंग करियर

1. भारत के लिए 131 टेस्ट मैचों में 31.05 की औसत से 5248 रन बनाएं.

2 टेस्ट क्रिकेट में कपिल के नाम 8 शतक और 27 अर्धशतक है.

3. भारत के लिए 225 वनडे मैच खेले जिसमें उन्होंने 23.79 की औसत से 3783 रन बनाए.

4 वनडे क्रिकेट में कपिल के नाम 1 शतक और 14 अर्धशतक है.

कपिल देव के नाम रिकॉर्ड

1. कपिलदेव क्रिकेट की दुनिया के महानतम ऑलराउंडर हैं. वे दुनिया के इकलौते खिलाड़ी हैं, जिसने टेस्ट मैच में 400 से ज्यादा विकेट और 5000 से ज्यादा रन बनाया है.

2. रिटायर होने के समय भारत के लिए टेस्ट मैच और वनडे मैच में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे.

3. एकदिवसीय मैचों में 200 विकेट लेने वाले विश्व के पहले गेंदबाज थे.

5. 1994 में रिचर्ड हेडली के रिकॉर्ड को तोड़ कर टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बॉलर बने.

6. कपिल देव के नाम टेस्ट क्रिकेट में बिना रन आउट हुए (184) ईनिंग खेलने का रिकॉर्ड है.

7. विश्व कप के इतिहास में 6 या 6 से नीचे नंबर पर बैटिंग कर के सर्वाधिक स्कोर करने का रिकॉर्ड भी कपिल के नाम है. उन्होंने विश्व कप में छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए जिंबाब्वे के खिलाफ नॉट आउट 175 रन बनाए थे.

8.1994 में जब कपिल देव क्रिकेट से रिटायर हुए तो उनके नाम टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड था. हालांकि यह रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज कोर्टनी वाल्श ने तोड़ दिया.

9.1994 में कपिल देव रिचर्ड हेडली के रिकॉर्ड को तोड़ कर टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बॉलर बने

10. टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम उम्र में 100 ( 21 साल 25 दिन), 200 (24 साल) और 300 (27 साल 2 दिन) विकेट लेने का रिकॉर्ड है.

11. टेस्ट मैचों में इकलौते ऐसे कैप्टन हैं जिन्होंने एक इनिंग में 9 विकेट (9/83) लिया हो.

12. 1978 से 1994 के दौरान कपिल देव वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी थे. उन्होंने वनडे क्रिकेट में 253 विकेट लिया था.

अवॉर्ड्स और सम्मान

1. 1979–80 मैं कपिल देव को अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया गया.

2. 1982 में पदम श्री से सम्मानित किया गया.

3. 1983 मेंविजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया.

4. 1991 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया.

5. 2002 में विजडन क्रिकेटर ऑफ द सेंचुरी चुना गया.

6. 11 मार्च 2010 को आईसीसी क्रिकेट हॉल ऑफ फेम में सम्मिलित किया गया.

अगर आपको कपिल देव का संक्षिप्त जीवन परिचय पढकर प्रेरणा मिली हो तो पोस्ट को जरूर शेयर करें!

Leave a Reply