Ranjeet Bhartiya 01/08/2023
Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 01/08/2023 by Sarvan Kumar

पूर्वोत्तर भारत का पहाड़ी राज्य मणिपुर हिंसा की लहर में घिरा हुआ है, जिसे कई लोग गृहयुद्ध की स्थिति के रूप में वर्णित कर रहे हैं। यह संघर्ष मुख्य रूप से दो सबसे बड़े जातीय समूहों – बहुसंख्यक मैतेई (Meitei) और अल्पसंख्यक कुकी (Kuki) – के बीच लंबे समय से चली आ रही प्रतिद्वंद्विता से उपजा है। यह लेख मणिपुर हिंसा के कारणों और जटिलताओं पर प्रकाश डालता है, उन अंतर्निहित कारकों को उजागर करता है जो इस क्षेत्र में दुखद घटनाओं का कारण बने।

मणिपुर हिंसा क्यों हुई?

जातीय विभाजन: भूमि और प्रभाव के लिए एक लड़ाई (Ethnic Divide: A Battle for Land and Influence)-

मणिपुर की जनसांख्यिकीय संरचना विभिन्न जातीयताओं को दर्शाती है। मैतेई आबादी आधी से अधिक है। कुकी और नागा प्रमुख अल्पसंख्यक जनजातियाँ हैं, जो आबादी का लगभग 43% हिस्सा हैं। ऐतिहासिक मतभेदों और संसाधनों के लिए प्रतिस्पर्धा के कारण इन समुदायों के बीच गहरे तनाव पैदा हो गए हैं, जो अंततः हिंसक झड़पों का कारण बने।

उत्तेजित करने वाली घटनाएँ (Triggering Events):

मई महीने में एक उल्लेखनीय घटनाक्रम हुआ जिसने मणिपुर में हिंसा की आग को और भड़का दिया। कुकियों ने आधिकारिक जनजातीय दर्जे की मैतेई समुदाय की मांगों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू किया। कुकियों ने तर्क दिया कि इस तरह की मान्यता से सरकार और समाज पर मैतेई का प्रभाव और मजबूत होगा, जिससे संभावित रूप से उन्हें जमीन खरीदने या मुख्य रूप से कुकी क्षेत्रों में बसने की अनुमति मिल जाएगी। इससे दोनों समुदाय के बीच शत्रुता भड़क उठी और स्थिति बिगड़ गई।

बहुआयामी अंतर्निहित कारण (Multi-faceted Underlying Causes):

क) नशीली दवाओं पर युद्ध – समुदायों को उखाड़ने का एक छद्म रूप:
कुकियों ने मैतेई के नेतृत्व वाली सरकार पर उनके समुदायों को विस्थापित करने की आड़ में कथित “ड्रग्स पर युद्ध” छेड़ने का आरोप लगाया। यह आरोप दोनों समूहों के बीच व्याप्त अविश्वास और संदेह को उजागर करता है, जिससे स्थिति और गंभीर हो गई है।

ख) अवैध प्रवासन: संसाधनों पर एक दबाव बिंदु: पड़ोसी देश म्यांमार से अवैध प्रवासियों की आमद (arrivals) ने संसाधनों पर दबाव डाला है और तनाव बढ़ा दिया है। सीमित भूमि और रोजगार के अवसरों के लिए प्रतिस्पर्धा तेज हो गई है, जिससे अस्थिर वातावरण में योगदान हो रहा है।

ग) अधिक जनसंख्या और बेरोजगारी: उग्रवाद के लिए उपजाऊ भूमि: बढ़ती जनसंख्या के साथ, मणिपुर को भूमि उपयोग, बुनियादी ढांचे और रोजगार से संबंधित चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। नौकरी के अवसरों की कमी के कारण कई युवा विभिन्न आतंकवादी समूहों द्वारा भर्ती किए जाने के प्रति असुरक्षित हैं, जिससे हिंसा का चक्र गहरा गया है।

निष्कर्ष: मणिपुर हिंसा क्यों हुई?

मणिपुर में फैली हिंसा ऐतिहासिक जातीय तनाव की परिणति है, जो भूमि अधिकारों, प्रभाव और सामाजिक-आर्थिक असमानताओं के समसामयिक मुद्दों के कारण और बढ़ गई है। मैतेई समुदाय द्वारा जनजातीय दर्जे की मांग और उसके परिणामस्वरूप कुकियों के विरोध ने संघर्ष की आग को और भड़का दिया। नशीली दवाओं पर कथित युद्ध, अवैध प्रवासन और बेरोजगारी जैसे अंतर्निहित मुद्दे स्थिति में जटिलता जोड़ते हैं। मणिपुर हिंसा के समाधान के लिए एक व्यापक और संवेदनशील दृष्टिकोण की आवश्यकता है, जिसमें संघर्ष के मूल कारणों को संबोधित किया जाए और स्थायी शांति और सद्भाव प्राप्त करने के लिए समुदायों के बीच बातचीत को बढ़ावा दिया जाए। केवल समझ और सहानुभूति के माध्यम से ही सुलह का मार्ग प्रशस्त किया जा सकता है, जो मणिपुर राज्य को एक उज्जवल और अधिक शांतिपूर्ण भविष्य की ओर ले जाएगा।

Disclosure: Some of the links below are affiliate links, meaning that at no additional cost to you, I will receive a commission if you click through and make a purchase. For more information, read our full affiliate disclosure here.

Leave a Reply