Ranjeet Bhartiya 05/04/2020

वाशिंगटन: अमेरिका में कोरोना ने हाहाकार मचा दिया है. इस अदृश्य वायरस ने अमेरिका जैसी महाशक्ति को लाचार बना दिया है. यहां अब तक इस जानलेवा महामारी के 311,635 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं. इस जानलेवा वायरस ने 8,454 लोगों की जान ले ली है. 14,825 लोग रिकवर भी हो चुके हैं. पिछले 24 घंटे की बात करें तो अमेरिका में इस महामारी के कारण 1224 लोगों की मौत हुई है, जिसमें से 630 मौत तो केवल न्यूयॉर्क में हुई है.

अमेरिका में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य

अमेरिका का सबसे बड़ा शहर न्यूयॉर्क कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है. यहां अब तक 1, 14,775 लोग कोरोना संक्रमण के चपेट में आ चुके हैं. जिसमें से 3,565 लोगों की मौत हो चुकी है. केवल न्यूयॉर्क शहर में कोरोनावायरस के कारण हर 2:30 मिनट पर एक व्यक्ति की मृत्यु हो रही है. न्यूयॉर्क के बाद न्यूजर्सी कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है. जहां अब तक 34,124 मामले सामने आए हैं, जिसमें से 846 लोगों की मौत हुई है.

अमेरिका के अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तथा अब तक हुए मौतों की जानकारी इस प्रकार हैं-
मिशिगन (14,225, 540), कैलिफोर्निया 13,927, 321, लुसियाना (12,496, 409), मैसाचुसेट्स (11,736, 216)
फ्लोरिडा (11,545, 195), पेंसिलवेनिया (10,415, 136),
इलिनॉयस (10,357, 243), वाशिंगटन (7,591, 314),
जॉर्जिया (6,383, 208) और टेक्सास (6,359. 111).

अमेरिका में कोरोना महामारी के प्रकोप के चलते राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी परेशान हैं. ट्रंप पहले ही कह चुके हैं आने वाले 2 सप्ताह अमेरिका के लिए मुश्किलों भरे हैं. सेना और स्वास्थ्य कर्मियों को सचेत कर दिया गया है. कोरोनावायरस के रोकथाम के लिए व्हाइट हाउस ने एक टास्क फोर्स का गठन किया है. इस टास्क फोर्स के सदस्यों ने आशंका जताई है कि अगले 10 दिनों में कोरोना संकर्मन अमेरिका में चरम पर होगा.

कोरोना महामारी को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच शनिवार को टेलीफोन पर व्यापक चर्चा हुई है. प्रधानमंत्री मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप से कहा है कि कोरोनावायरस मारी के खिलाफ इस लड़ाई में भारत अमेरिका को पूरा सहयोग देगा. यहां यह उल्लेख करना जरूरी है कि भारत दुनिया में दवाओं का एक बहुत बड़ा एक्सपोर्टर है. अमेरिका रिसर्च तथा उच्च तकनीक वाले उपकरणों के निर्माण के लिए जाना जाता है. यही कारण है कि कोरोना महामारी के खिलाफ इस लड़ाई में दुनिया इन दोनों देशों के तरफ आशा भरी निगाहों से देख रही है.

Leave a Reply