Ranjeet Bhartiya 25/03/2023
Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 25/03/2023 by Sarvan Kumar

हिंदू धर्म में कुल देवी-देवताओं का विशेष महत्व है और कुल देवी-देवताओं की पूजा की परंपरा सदियों से चली आ रही है. मान्यता है कि कुलदेवी बाधाओं को दूर करती हैं और परिवार को सुरक्षित रखती हैं. अलग-अलग जाति के लोग अलग-अलग कुल देवी-देवताओं की पूजा करते हैं. उदाहरण के लिए हिंगलाज माता को चारण जाति की कुलदेवी माना जाता है. कैला देवी को यदुवंशी वंश की कुलदेवी माना जाता है. शकराय माता खंडेलवाल वैश्यों की कुलदेवी हैं. आइए इसी क्रम में जानते हैं नाई समाज की कुलदेवी के बारे में.

नाई समाज की कुलदेवी

इस लेख के मुख्य विषय पर आने से पहले यह बताना आवश्यक है कि जातियों की आंतरिक संरचना जटिल होती है. एक जाति आमतौर पर कई उप-समूहों और उप-जातियों में विभाजित होती है. इतना ही नहीं, एक जाति के भीतर उप-जातियों के अलावा बड़ी संख्या में गोत्र भी होते हैं जो अलग-अलग कुलदेवियों की पूजा करते हैं. नाई जाति की बात करें तो इन्हें देश के विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है, उदाहरण के लिए कई क्षेत्रों में ही इन्हें सैन/सेन के नाम से जाना जाता है. यह समुदाय कई उपसमूहों में विभाजित है और इनमें सैकड़ों गोत्र पाए जाते हैं. कुलदेवी की पूजा नाई जाति में भी प्रचलित है और इस जाति के लोग कई देवियों को अपनी कुलदेवी के रूप में पूजते हैं जैसे कि नारायणी माता, जमवाय माता, ज्वाला माता, जीण माता और श्री बाण माता आदि.

नारायणी माता

नारायणी माता या सती नारायणी नाई समाज की कुलदेवी हैं. एक प्रचलित कथा के अनुसार नारायणी माता पतिव्रता धर्म का पालन करते हुए अपने पति के साथ सती हो गई थीं. नाई समुदाय के अलावा मीणा जाति के लोग भी नारायणी माता की पूजा करते हैं.
माता नारायणी देवी का मुख्य मंदिर राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है, जिसका निर्माण 11वीं सदी में गुर्जर प्रतिहार शैली में करवाया गया था.

जमवाय माता

जामवाय माता कछवाहा की कुलदेवी हैं. माना जाता है कि कछवाहा वंश की उत्पत्ति भगवान श्री राम के पुत्र कुश से हुई है. सैण समुदाय में कुछ परिवार ऐसे भी हैं जो जामवाय माता को अपनी कुलदेवी के रूप में पूजते हैं.

ज्वाला माता

नाई जाति में बड़ी संख्या में गोत्र पाए जाते हैं. बणभैरू
की कुलदेवी ‘ज्वाला माता’ को माना जाता है.

जीण माता

जीण माता को दुर्गा माता का एक रूप माना जाता है. जलवानी एक गोत्र है जो सैण समाज में पाया जाता है. जलवानी गोत्र के कई परिवार जीण माता को अपनी कुलदेवी के रूप में पूजते हैं.

श्री बाण माता

श्री बाण माता सूर्यवंशी गहलोत और मेवाड़ के सिसोदिया वंश की कुलदेवी हैं. राजपूतों के अलावा माली, नाई और अन्य जातियों के कई गोत्रों में भी श्री बाण माता को अपनी कुलदेवी के रूप में पूजने की प्रथा है. श्री बाण माता का मुख्य मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित है.

Amazon deals of the day ( लूट लो )
क्या आप भी बिना ऑफर के शॉपिंग करते हैं और करा लेते हैं नुकसान- यहाँ क्लिक कर जानें Amazon का आज का ऑफर और पाएं 83 % तक की छूट!
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद Read Legal Disclaimer 

Leave a Reply