Sarvan Kumar 18/09/2018

आरएसएस के दिल्ली लेक्चर सीरीज का विपक्षी दलों ने बहिष्कार किया है. RSS दिल्ली में तीन दिवसीय लेक्चर सीरीज को आयोजित कर रहा है. आरएसएस के दिल्ली लेक्चर सीरीज में 60 देशों, राजनीतिक दलों, उद्योग, मीडिया और अन्य क्षेत्रों के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है.
इस लेक्चर सीरीज में राहुल गांधी, ममता बनर्जी, मायावती और अखिलेश यादव सहित 3 हजार लोगों को RSS ने न्योता भेजा है. संघ के ‘भारत संवाद’ को विपक्ष ने हिंदूवादी प्रोग्राम बताया है.’जानकारी ‘के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव इसमें भाग नहीं लेंगे.
आरएसएस के दिल्ली लेक्चर सीरीज में मुस्लिमों को भी निमंत्रण भेजा गया है जिसपर ओवैसी की पार्टी के न्योते AIMPLB ने कहा कि इससे संघ की छवि नहीं बदलेगी.

RSS समाज में जहर घोल रहा है- लंदन में राहुल गाँधी

आपको याद होगा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में लंदन का दौरा किया था. राहुल गाँधी ने लंदन में RSS की तुलना कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड से किया था. राहुल गाँधी ने कहा था- “RSS समाज में जहर घोल रहा है. RSS फांसीवाद में विश्वास करने के साथ मुस्लिम ब्रदरहुड की तरह पेश आता है.”
इस पर RSS ने कहा कि जिन लोगों को संघ की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी नहीं उन्हें संवाद में शामिल होने के लिए संघ न्यौता भेजेगा.
राजनीतिक लाभ के लिए RRS को आतंकी संगठन कहने वाले राहुल गाँधी, सहिष्णुता का झूठा दावा करने वालों को संघ से प्रेम सीखना चाहिए- अशोक श्रीवास्तव, पत्रकार

प्यार की बात करने वाले राहुल को संघ से प्रेम सीखना चाहिए-

DD न्यूज़ के वरिष्ठ पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी और असहिष्णुता ब्रिगेड को आड़े हांथों लिया है. राहुल गाँधी और असहिष्णुता ब्रिगेड को खरी-खोटी सुनाते हुए श्रीवास्तव ने ट्वीट करके कहा है कि राहुल गाँधी केवल अपने राजनीतिक लाभ के लिए RRS को आतंकी संगठन कहते हैं, पर RRS ने स्वतंत्रता संग्राम में कांग्रेस की भूमिका को सराहा है और कहा है हम सर्वयुक्त भारत चाहते हैं , मुक्त नहीं. प्यार की बात करने वाले राहुल को संघ से प्रेम सीखना चाहिए.

“सेक्युलर सहिष्णुता ब्रिगेड” कि पोल खोल-

असहिष्णुता ब्रिगेड की पोल खोलते हुए अशोक श्रीवास्तव ने कहा सहिष्णुता का झूठा दावा करने वालों को संघ से सीखना चाहिए.
“सेक्युलर सहिष्णुता ब्रिगेड” कि असलियत बताते हुए श्रीवास्तव ने कहा कि “सेक्युलर सहिष्णुता ब्रिगेड” कहते हैं-
-आतंकी देश पाकिस्तान से बातचीत हो
-देश की रक्षा करने वाले सुरक्षाकर्मियों को मारने वाले नक्सलियों से चर्चा हो
-कश्मीर की आज़ादी और पाकिस्तान का समर्थन करने वाले अलगाववादी हुर्रियत से बातचीत हो
-सेना पर पत्थर मारने वाले कश्मीरी पत्थरबाजों से बात हो
-आतंकी भटके हुए युवा हैं उनसे बात हो
-ये वो लोग हैं जो सैनिकों के मौत पर जश्न मानते हैं. निरपराध लोगों को बेवजह मारने वाले आतंकियों से इतनी हमदर्दी क्यों?
और जब RRS कहता है आओ बात करें तो RSS का बहिष्कार करो! बॉयकाट RSS !

आरएसएस के दिल्ली लेक्चर सीरीज में क्या बोले मोहन भागवत?

इस लेक्चर सीरीज भविष्य का भारत’ में सोमवार (18 सितम्बर) को RSS के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि-
1. भारत का समाज विविधताओं से भरा है. हमें विविधताओं से डरने की बजाए उसे स्वीकार करना चाहिए और उसका उत्सव मनाना चाहिए.
2. भागवत ने स्वतंत्रता संग्राम में कांग्रेस की भूमिका को सराहते हुए कहा कि, ‘कांग्रेस के रूप में बड़ा आंदोलन सारे देश में खड़ा हुआ. अनेक सर्वस्वत्यागी महापुरूष इस धारा में पैदा हुए जिनकी प्रेरणा आज भी हमारे जीवन को प्रेरणा देने का काम करती है.इस धारा का स्वतंत्रता प्राप्ति में एक बड़ा योगदान रहा है.’
3. भागवत ने कहा कि संघ का काम पुरे समाज को जोड़ना है और इसलिए संघ के लिए कोई पराया नहीं.हमारा प्रयास सबको जोड़ने का रहता है, इसलिए सबको बुलाने का प्रयास करते हैं.
4. RSS शोषण और स्वार्थ रहित समाज चाहता है जिसमें सभी लोग समान हों. समाज में कोई भेदभाव न हो.

Leave a Reply