Sarvan Kumar 28/12/2020

किसान आंदोलन के बीच एक वीडियो वायरल हो रहा है, इस वीडियो में एक नेता जी मंदिरों और पंडितों के खिलाफ नफरत वाला भाषण दे रहे हैं। समाज का एक वर्ग वीडियो देखने के बाद भड़क गऐ हैं। ट्विटर यूजर्स ने #राकेश_टिकैत_को_गिरफ्तार_करो ट्रेंड करवा दिया है
Twitter पर इस वीडियो को पोस्ट कर एक user ने लिखा  है-

वीडियो में जो नेताजी हैं उनका नाम है राकेश टिकैत। वह सरकार से किसानों के तरफ से बात कर रहे हैं,आइए जानते हैं कौन हैं ये नेताजी।

कौन है राकेश टिकैत?

भारतीय किसान यूनियन एक ऐसा किसान संगठन है जिसकी पहचान पूरे देश में है और इसके राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत हैं.
इस संगठन के अध्यक्ष राकेश के बड़े भाई नरेश टिकैत हैं. लेकिन, व्यवहारिक तौर पर यूनियन से जुड़े फैसले राकेश टिकैत ही लेते हैं. राकेश बड़े किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष रहे स्वर्गीय महेंद्र सिंह टिकैत के दूसरे बेटे हैं.

राकेश टिकैत ने दो बार राजनीति में भी आने की कोशिश की है. पहली बार 2007 मे उन्होंने मुजफ्फरनगर की खतौली विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था. उसके बाद राकेश टिकैत ने 2014 में अमरोहा जनपद से राष्ट्रीय लोक दल पार्टी से लोकसभा का चुनाव भी लड़ा था. लेकिन दोनों ही चुनाव में इनको हार का सामना करना पड़ा था.

क्या किसान आंदोलन में जातिगत टिप्पणी करना उचित है?

जब जिम्मेदार नेता मुद्दे की बात छोड़ कर इस तरह का उटपटांग बयान देने लगेंगे तो असली मुद्दे का क्या होगा?  इस तरह का बयान देकर समाज में क्या साबित करना चाहते हैं ऐसे नेता। किसान आंदोलन के नाम पर क्या ऐसे लोग समाज में सांप्रदायिक सौहार्द खराब करना चाहते है। ऐसे लोगोंं की एक ही मंशा है किसी तरह  समाज में दंगा भड़का कर  सरकार को  अस्थिर किया जाए। सरकार को तुरंत करवाई कर ऐसे लोगों को जेल में  डाल देना चाहिए।

 

 

 

Leave a Reply