Ranjeet Bhartiya 11/05/2022
मां के बिना जिंदगी वीरान होती है, तन्हा सफर में हर राह सुनसान होती है, जिंदगी में मां का होना जरूरी है, मां की दुआ से ही हर मुश्किल आसान होती है. Happy Mothers Day 2022 Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 11/05/2022 by Sarvan Kumar

भारत की पहली लोकसभा का गठन 17 अप्रैल 1952 को हुआ था. स्वतंत्रता के बाद भारत की पहली संसद संविधान सभा (Constituent Assembly) थी जिसका गठन देश के लिए एक संविधान बनाने के उद्देश्य से किया गया था. संविधान सभा को भारत के लिए एक संविधान का मसौदा (Draft) तैयार करने में लगभग तीन साल लगे. 26 जनवरी 1950 को देश ने संविधान को अपनाया और इस दिन को हर साल ‘गणतंत्र दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

भारत में पहले आम चुनाव के बारे में कुछ प्रमुख तथ्य इस प्रकार हैं:

1. देश का पहला आम चुनाव 25 अक्टूबर 1951 से 21 फरवरी 1952 तक हुआ था. संविधान सभा के सदस्यों का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से, यानी प्रांतीय विधानसभाओं के सदस्यों द्वारा आनुपातिक प्रतिनिधित्व के एकल संक्रमणीय वोट की पद्धति (Single transferable vote, STV) से किया गया था. लेकिन 1951-52 के आम चुनावों में सर्वजनीन वयस्क मताधिकार (Universal Adult Suffrage / Universal Franchise) के आधार पर मतदान हुआ.

2. उस समय, 21 वर्ष से अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति, बिना किसी भेदभाव के, मतदान कर सकता था.

3.उस वक्त भारत की जनसंख्या 36 करोड़ थी, जिसमें से 17.32 करोड़ जनसंख्या मतदान के योग्य थी यानी कि 17.32 करोड़ मतदाता थे. इस चुनाव में 45.7% मतदान हुआ.

4. पहले आम चुनाव में 489 सीटों पर 53 राजनीतिक दलों ने चुनाव लड़ा था, जिसमें 14 राष्ट्रीय दल शामिल थे. इस चुनाव में 533 निर्दलीय उम्मीदवारों सहित कुल 1,874 उम्मीदवार थे. इस चुनाव में पंडित जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व वाली भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) की जीत हुई जो 364 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) को इस चुनाव में कुल मतों का 45% प्राप्त हुआ. पार्टी ने 479 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से उसे 76% पर जीत हासिल हुई थी.

5 INC को इस चुनाव में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी CPI से 4 गुना अधिक वोट प्राप्त हुआ. 16 सीटें जीतकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of India, CPI) दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी. Socialist Party (India) 12 सीटों पर विजय हुई थी. आज की भारतीय जनता पार्टी (BJP) की अग्रदूत भारतीय जनसंघ ने 3 सीटों पर जीत हासिल की थी.

6.चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवारों का शानदार प्रदर्शन रहा. सीट जीतने के मामले में निर्दलीय उम्मीदवार दूसरे नंबर पर थे, जिन्होंने कुल 37 सीटों पर जीत दर्ज करके अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज कराई थी. इस लोकसभा का पहला सत्र 13 मई 1952 को शुरू हुआ था.

7.जवाहरलाल नेहरू प्रधान मंत्री और ‘सदन के नेता’ चुने गए.

8. उस समय सदन में विपक्ष का कोई औपचारिक नेता नहीं था, इस पद को 1969 में ही मान्यता मिली.

9. लोकसभा के पहले अध्यक्ष (first Speaker of the Lok Sabha) गणेश वासुदेव मावलंकर (Ganesh Vasudev Mavalankar) थे. वे फरवरी 1956 तक अध्यक्ष थे.

10.पहले उपाध्यक्ष (Deputy Speaker) एम ए अय्यंगार (M A Ayyangar) थे और महासचिव (Secretary-General) एम एन कौल (M N Kaul) थे.

11.पहली लोकसभा ने अपने पूरे पांच साल के कार्यकाल के लिए कार्य किया. इसे 4 अप्रैल 1957 को भंग कर दिया गया था.

Advertisement
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद

Leave a Reply