Ranjeet Bhartiya 05/08/2022
आसमान पर सितारे हैं जितने, उतनी जिंदगी हो तेरी। किसी को नजर न लगे, दुनिया की हर खुशी हो तेरी। रक्षाबंधन के दिन भगवान से बस यह दुआ है मेरी। jankaritoday.com की टीम के तरफ से रक्षाबंधन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं! Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 05/08/2022 by Sarvan Kumar

कुर्मी (Kurmi) भारत में निवास करने वाली एक प्रभावशाली कृषक-योद्धा जाति (farming-warrior caste) है. माना जाता है कि यह उन वैदिक क्षत्रियों की जाति है जिन्होंने अपने व्यवसाय के रूप में कृषि या खेती को चुना था. इस वृहद जाति में अनेक उपजातियां पाई जाती हैं. आइए जानते हैं चंद्राकर या चन्द्रनाहू उपजाति के बारे में-

चंद्राकर या चन्द्रनाहू  कुर्मी

चन्द्रनाहू (Chandranahu) कुर्मियों की एक महत्वपूर्ण उपजाति है. कुर्मियों की यह उपजाति अपने नाम के बाद चंद्राकर शब्द का प्रयोग करती है. यानी कि चन्द्रनाहू क्षत्रिय कुर्मी समाज के लोग अपने उपनाम के रूप में चंद्राकर (Chandrakar) शब्द का इस्तेमाल करते हैं. इसीलिए चन्द्रनाहू कुर्मियों को “चंद्राकर जाति” के नाम से भी जाना जाता है.यह मुख्य रूप से छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में पाए जाते हैं. यह छत्तीसगढ़ के विभिन्न क्षेत्रों में निवास करते हैं. लेकिन यह मुख्य रूप से छत्तीसगढ़ के रायपुर, दुर्ग, महासमुंद, धमतरी, राजनांदगांव और बिलासपुर जिलों में पाए जाते हैं. कुर्मी समुदाय के अन्य उपजातियों के तरह चंद्राकर कुर्मियों का मुख्य पारंपरिक व्यवसाय भी कृषि और पशुपालन रहा है. चंद्राकर समुदाय के लोग अपेक्षाकृत शिक्षित और समृद्ध माने जाते हैं. अतीत में, चंद्रकारों के पास भूमि के बड़े क्षेत्रों का अधिग्रहण था. कुछ ज़मींदार थे, कुछ कई गाँवों के के स्वामी थे. इन सब कारणों से समाज में इनका बहुत मान सम्मान रहा है. सम्मान से उनके नाम के आगे “दाऊ” लगाने की परंपरा रही, इस परंपरा का अभी भी पालन किया जाता है. आज भी इनमें से कुछ के पास जमीन के बड़े भूखंड हैं. लेकिन कृषि कार्य से जुड़े होने तथा विकास के कुछ मापदंडों पर पिछड़े होने के कारण इन्हें आरक्षण प्रणाली के अंतर्गत छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में ओबीसी वर्ग में शामिल किया गया है.

चंद्राकर कुर्मी-क्षत्रिय समुदाय के प्रसिद्ध व्यक्ति

स्वर्गीय श्री चंदू लाल चंद्राकर:  

पत्रकार, कांग्रेस के कद्दावर नेता, दुर्ग से पांच बार सांसद, पूर्व कैबिनेट मंत्री, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के राजनीतिक गुरु. छत्तीसगढ़ की सरकार उनकी याद में पत्रकारिता के क्षेत्र में चंदूलाल चंद्राकर फेलोशिप देती है.

अजय चंद्राकर:

कुरुद के विधायक, पूर्व कैबिनेट मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता.

ममता चंद्राकर:

पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित गायिका. इन्हें छत्तीसगढ़ की स्वर कोकिला कहा जाता है.

राम लाल चंद्राकर:

स्वतंत्रता सेनानी और मध्यप्रदेश में पूर्व विधायक/मंत्री.

वासुदेव चंद्राकर:

स्वतंत्रता सेनानी और पूर्व विधायक / एमपी में मंत्री, भूपेश बघेल के राजनीतिक गुरु.

मकसूदन लाल चंद्राकर:

पूर्व विधायक, महासमुंद.

विनोद चंद्राकर:

विधायक महासमुंद


References;

•Census of India, 1961, Volume 8, Issue 6, Part 9, Office of the Registrar General

https://navbharattimes.indiatimes.com/state/chhattisgarh/raipur/who-was-chandulal-chandrakar-whose-name-medical-college-is-acquiring-by-bhupesh-government-in-chhattisgarh/articleshow/84814377.cms

Advertisement
Shopping With us and Get Heavy Discount
 
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद
 

Leave a Reply