Sarvan Kumar 18/05/2022
जाट गायक सिद्धू मूसेवाला आज हमारे बीच नहीं है पर उनकी याद हमारे दिलों में हमेशा बनी रहेगी। अपने गानों के माध्यम से वह अमर हो गए हैं । सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को मानसा जिले में उनके घर से कुछ किलोमीटर दूर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हत्या किसने और किस वजह से की यह तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा लेकिन हमने जाट समाज का एक अनमोल रत्न खो दिया है। उनके फैंस पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है। jankaritoday.com की टीम के तरफ से उनको एक सच्ची श्रद्धांजलि! Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 18/05/2022 by Sarvan Kumar

भारत में केंद्र में अब तक कौन-कौन सी गठबंधन सरकार बनी है उनकी मुख्य उपलब्धियां और कमियां क्या हैं? भारत में गठबंधन सरकारों का इतिहास पुराना है. अगर केंद्र सरकार की बात करें तो भारत में गठबंधन सरकार की घटना सबसे पहले 1977 में सामने आई. 1977 से वर्तमान तक, केंद्र में कई गठबंधन सरकारें रहीं. आइए जानते हैं केंद्र में बनी गठबंधन सरकारों का पूरा लेखा-जोखा-

1977-1979  में गठबंधन सरकार

भारत में पहली गठबंधन सरकार 1977-1979 के दौरान जनता पार्टी की थी. यह गठबंधन सरकार मोरारजी देसाई के नेतृत्व में बनी थी. इसमें‌ कांग्रेस (ओ), भारतीय जनसंघ, ​​भारतीय लोक दल, सोशलिस्ट पार्टी, कांग्रेस फॉर डेमोक्रेसी, चरण शेखर समूह और अन्य शामिल थे.

1979-1980: में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: जनता पार्टी (सेकुलर) प्रधानमंत्री: चौधरी चरण सिंह घटक दल: जनता पार्टी (सेकुलर) और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (U). भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (I) इस गठबंधन सरकार को बाहर से समर्थन दिया था.

1989-1990:गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: राष्ट्रीय मोर्चा (National Front) प्रधानमंत्री: विश्वनाथ प्रताप सिंह (V.P Singh) घटक दल: जनता दल, तेलुगू देशम पार्टी (TDP), DMK, असम गण परिषद (AGP) और Congress (Socialist). भारतीय जनता पार्टी और वाम दलों ने इस गठबंधन सरकार को बाहर से समर्थन दिया था.

विश्वनाथ प्रताप सिंह सरकार की प्रमुख उपलब्धियां:

(1). मंडल आयोग की सिफारशें लागू करना

(2). सामाजिक न्याय

1990-1991: में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: समाजवादी जनता पार्टी+ प्रधानमंत्री: श्री चंद्रशेखर घटक दल: जनता दल (S), जनता पार्टी. कांग्रेस (I) ने सरकार को बाहर से समर्थन दिया था.

1996-1997:में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: संयुक्त मोर्चा (United Front) प्रधानमंत्री: एचडी देवे गौड़ा (H.D.Deve Gowda) घटक दल: संयुक्त मोर्चा 1996 के आम चुनावों के बाद भारत में गठित 13 राजनीतिक दलों की गठबंधन सरकार थी. इस गठबंधन सरकार में शामिल प्रमुख दल थे- जनता दल, समाजवादी पार्टी, CPI, CPI (M), DMK, तेलुगू देशम पार्टी (TDP), TMC, असम गण परिषद (AGP) और अन्य. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने इस गठबंधन सरकार को 1998 तक बाहर से समर्थन दिया था.

1997-1998 में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: संयुक्त मोर्चा (United Front) प्रधानमंत्री: इंद्र कुमार गुजराल (I.K Gujral) घटक दल: जनता दल, CPI, TMC, समाजवादी पार्टी (SP), DMK, असम गण परिषद (AGP), तेलुगू देशम पार्टी (TDP) और अन्य. कांग्रेस पार्टी ने इस गठबंधन सरकार को बाहर से समर्थन दिया था.

1998 – 1999 में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: भाजपा के नेतृत्व वाला गठबंधन प्रधानमंत्री: अटल बिहारी वाजपेई (A.B.Vajpayee) घटक दल: भारतीय जनता पार्टी, AIDMK, बीजू जनता दल (BJD), शिवसेना, लोक शक्ति, अरुणाचल कांग्रेस, समता पार्टी, अकाली दल, पाट्टाली मक्कल कच्ची (PMK), TRC और अन्य. तेलुगू देशम पार्टी  (TDP) और तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने इस गठबंधन सरकार को बाहर से समर्थन दिया था.

1999-2004 में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: राष्ट्रीय जनतान्त्रिक गठबन्धन (राजग)/ National Democratic Alliance (NDA) प्रधानमंत्री: अटल बिहारी वाजपेई घटक दल: बीजेपी, जनता दल (यूनाइटेड), तृणमूल कांग्रेस (TMC), शिवसेना, बीजू जनता दल (BJD), लोक जनशक्ति पार्टी (LJP), DMK, PMK, इंडियन नैशनल लोकदल (INLD), DMK, MDMK, शिरोमणि अकाली दल, नेशनल कॉन्फ्रेंस, RLD, असम गण परिषद (AGP) और अन्य.

अटल बिहारी वाजपेई के नेतृत्व में बनी गठबंधन सरकारों की प्रमुख उपलब्धियां इस प्रकार हैं-

(1). स्वर्णिम चतुर्भुज और ग्राम सड़क योजना

(2). निजीकरण को बढ़ावा-विनिवेश की शुरुआत

(3). संचार क्रांति का दूसरा चरण

(4). सर्व शिक्षा अभियान

(5). पोखरण में भारत का परमाणु परीक्षण

(6). पोटा क़ानून

(7). करगिल युद्ध में विजय

2004-2009 में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: संयुक्त प्रगतिशील गठबन्धन/United Progressive प्रधानमंत्री: मनमोहन सिंह घटक दल: कांग्रेस, NCP, DMK, राष्ट्रीय जनता दल (RJD), लोक जनशक्ति पार्टी (LJP), PMK, राष्ट्रीय लोक दल और अन्य. CPI और CPM ने इस गठबंधन सरकार को बाहर से समर्थन दिया था.

2009-2014: में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: United Progressive Alliance

(UPA-II) प्रधानमंत्री: मनमोहन सिंह घटक दल: कांग्रेस, एनसीपी, DMK, राष्ट्रीय जनता दल (RJD), लोक जनशक्ति पार्टी‌ ( LJP), PMK, Indian Union Muslim League और अन्य

UPA 1 और UPA 2 सरकार की उपलब्धियां:

(1). देश को स्थिर सरकार देना

(2). राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (नरेगा) अधिनियम 2005

(3). भारत-अमेरिका परमाणु समझौता

(4). जनकल्याण योजनाएं-डायरेक्ट बेनिफिट स्कीम की शुरुआत, नेशनल रूरल हेल्थ मिशन, नेशनल अर्बन हेल्थ मिशन

(5). वैश्विक मंदी की स्थिति में को कारोबार जगत को धराशायी होने से बचाये रखना

(6). सामाजिक-आर्थिक प्रगति

(7). खाद्य सुरक्षा विधेयक

(8). शिक्षा का अधिकार अधिनियम

(9). मल्टीब्रांड रिटेल में एफडीआई

(10). सूचना का अधिकार

UPA 1 और UPA 2 सरकार की विफलताएं-

(1). भ्रष्टाचार; 2G स्पेक्ट्रम घोटाला, कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला, आदर्श सोसाइटी घोटाला, कोयला खदानों की बंदरबांट और रेलवे में घूसखोरी

(2). बेलगाम महंगाई

(3). सीबाआई का दुरुपयोग

2014-2019: में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: NDA प्रधानमंत्री: नरेंद्र मोदी घटक दल: बीजेपी, लोक जनशक्ति पार्टी (LJP), तेलुगू देशम पार्टी (TDP), शिवसेना, शिरोमणि अकाली दल, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी, अपना दल (S) और अन्य. बता दें कि TDP ने 2018 में एनडीए से बाहर निकलने का फैसला किया था.

2019-वर्तमान में गठबंधन सरकार

गठबंधन का नाम: NDA प्रधानमंत्री: नरेंद्र मोदी घटक दल: बीजेपी, जनता दल यूनाइटेड, शिरोमणि अकाली दल, शिवसेना और अन्य. शिवसेना 2019 में एनडीए से बाहर निकल गई.

2014-वर्तमान तक

NDA सरकार की उपलब्धियां:

(1). कश्मीर के लिए बनी धारा 370 में संशोधन

(2). नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी

(3). पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक

(4). अल्पसंख्यकों की कुप्रथा तीन तलाक का खात्मा

(5). अंतरराष्ट्रीय संबंधों को मिली नई पहचान

(6). गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण का प्रावधान

(7). राम मंदिर निर्माण का ऐतिहासिक निर्णय

(8). सालों पुरानी शिक्षा नीति में बदलाव

(9). मेडिकल कोर्सेज में ओबीसी को 27%, ईडब्ल्यूएस को 10% आरक्षण

NDA सरकार की विफलताएं:

(1)..बेरोजगारी

(2). महंगाई

(3). अर्थव्यवस्था में ऐतिहासिक गिरावट

(4). सीबीआई और ईडी का दुरुपयोग

(5). विमुद्रीकरण

(6). जीएसटी कार्यान्वयन

(7). पेट्रोल और डीजल की ऊंची कीमतें

(8). सांसद आदर्श ग्राम योजना, मेक इन इंडिया, स्किल डेवलपमेंट, फसल बीमा योजना की असफलता

(9). शिक्षा और हेल्थकेयर के मोर्चे पर विफलता

Advertisement
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद

Leave a Reply