Ranjeet Bhartiya 17/09/2022
नहीं रहे सबके प्यारे ‘गजोधर भैया’। राजू श्रीवास्तव ने 58 की उम्र में ली अंतिम सांस। राजू श्रीवास्तव को दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद से वो 41 दिनों से दिल्ली के एम्स में भर्ती थे। उनकी आत्मा को शांति मिले, मुझे विश्वास है कि भगवान ने उसे इस धरती पर रहते हुए जो भी अच्छा काम किया है, उसके लिए खुले हाथों से स्वीकार करेंगे #RajuSrivastav #IndianComedian #Delhi #AIMS Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 17/09/2022 by Sarvan Kumar

भारत के उत्थान में और राष्ट्र निर्माण में वैश्य समाज का बड़ा योगदान है. दानवीर भामाशाह ने मातृभूमि के मान सम्मान के लिए अपनी सारी संपदा लुटा दी थी. ‘वैश्य’ शब्द बहुत व्यापक है और इसमें अग्रवाल, माहेश्वरी, खंडेलवाल, ओसवाल, जायसवाल और महाजन जैसे कई व्यापारिक समुदाय शामिल हैं. महावर वैश्य बनिया समुदाय की एक महत्वपूर्ण उपजाति है. इनकी उत्पत्ति राजस्थान के मारवाड़ क्षेत्र से मानी जाती है. कालांतर में इस समुदाय के लोग राजस्थान से निकलकर भारत के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर बस गए. वर्तमान में भारत के विभिन्न राज्यों में इनकी उपस्थिति है. प्राचीन भारतीय परंपरा के अनुसार हिंदू धर्म की सभी जातियों में गोत्र पाए जाते हैं. आइए जानते हैं महावर वैश्य गोत्र के बारे में-

महावर वैश्य गोत्र

“People of India: Bihar, including Jharkhand” नामक किताब में महावर को माहुरी वैश्य समुदाय के उपवर्ग या उपजाति के रूप बताया गया है. इस किताब के अनुसार, महुरी एक व्यापारिक समुदाय जो तीन उप-समूहों या उप जातियों में विभाजित हैं, अर्थात्, माहुरी, महावर और माहोर. यह ओबीसी की श्रेणी में आते हैं. कहा जाता है कि वे मथुरा से बिहार आए थे. गोत्र की बात करें तो सबसे पहले गोत्र सप्तर्षियों के नाम से प्रचलन में आए. बृहदारण्यक उपनिषद के अनुसार; गौतम, भारद्वाज, विश्वामित्र, जमदग्नि, वशिष्ठ, कश्यप और शांडिल्य नामक सात ऋषियों को सप्तर्षि ऋषि के नाम से जाना जाता है. बाद में दूसरे ऋषियों के नाम से गोत्र प्रचलित हुए. समय के साथ गोत्रों की संख्या बढ़ती गई. महावर वैश्य समुदाय में पाए जाने वाले प्रमुख गोत्रों की सूची नीचे दी गई है-

•बचलस मढैया (मांढावाले)

•बचलस रिवाड़ीवाले

•बच्चास मंढैया

•बचलस रेवाड़ी

•बनयती

•बनारसी

•बनवारी

•बललय्या

•बाल्दी

•बिंदलास

•बचलस

•बिन्दलस

•बीजवाडिया

•चुखाना

•ढिंगी

•धातरिया

•गिरगास

•गिरगास बसाई (बसैया)

•गिरगास मोहल्लेदार

•गिरगास रिवाड़ीवाले

•गिरगास गागल

•गिरगास गोयल

•गिरगास चूखना

•गिरगास कांतिवाल

•गिरगास मनेठीवाल

•गिरगास मोहल्लेदार

•गागाली

•गोयल

•गुडतक

•झिंझर

•जलबेरिया

•कुचलस

•कुचलिया

•कोतवालिया

•कुडदल

•कांटीवाल

•कोढ़ल

•कादल

•कोडली

•कुदादाली

•लांगा

•लोहिया

•मनेठीवाल

•मढैका (डाटा)

•मालसा

•मंडलस

•महावनी/महावानी

•मलैया

•महावनी कुचलस

•मुद्रुल

•मवाल

•मवाली

•मींढका

•मंडेका

•मलय्या

•मीर का सोनी

•पैंटपुरिया

•सांमरा

•सोनी

•सर्राफ/सराफ

•सिंधरा / सोंधरा

•सिंगलस

•समरस

•सिलपतवाल

•वनावरी

•वालदी

•वर्खेडिया

•वींदावाला

•उठमिल/उत्तमिला


References;

•People of India: Bihar, including Jharkhand (2 pts)· 2008

Publisher:Anthropological Survey of India

Author:Kumar Suresh Singh

•https://www.bbc.com/hindi/india-46389804

Advertisement
Shopping With us and Get Heavy Discount
 
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद Read Legal Disclaimer 
 

Leave a Reply