Ranjeet Bhartiya 16/11/2022
Jankaritoday.com अब Google News पर। अपनेे जाति के ताजा अपडेट के लिए Subscribe करेेेेेेेेेेेें।
 

Last Updated on 16/11/2022 by Sarvan Kumar

Thumbnail Image Credit Facebook : Left (आयुष त्यागी काकड़ा ) Right ( बॉबी त्यागी)

त्यागी (Tyagi), जिसे मूल रूप से ‘तगा’ (Taga) कहा जाता है, भारत में रहने वाली एक कृषक जाति है जो ब्राह्मण स्थिति का दावा करती है. यह एक ज़मींदार समुदाय रहा है और अक्सर इसे कृषक जातियों में सर्वोच्च माना जाता है. इनकी स्थिति भूमिहारों के समान है और भारत के कई राज्यों में इस समुदाय की उपस्थिति है. इसी क्रम में जानते हैं भारत में त्यागी जाति के पॉपुलेशन के बारे में.

त्यागी पापुलेशन इन इंडिया

त्यागी समुदाय की उत्पत्ति और इतिहास के बारे में आम सहमति है कि यह मूल रूप से याचक ब्राह्मण हीं थे. लेकिन जमींदार बन जाने के बाद उन्होंने दान लेना “त्याग” दिया और इसीलिए वे ‘त्यागी’ कहे जाने लगे. आमतौर पर इस समुदाय की पहचान जमींदार, मेहनती, जुझारू, लड़ाकू, योद्धा और शक्तिशाली जाति के रूप में रही है. त्यागी समाज के लोग मूल रूप से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पाए जाते हैं. इसके अलावा दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश और राजस्थान के कुछ हिस्सों में भी त्यागी समुदाय के लोग निवास करते हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में त्यागी समाज की बहुतायत आबादी है जैसे कि मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, बागपत, सहारनपुर, बागपत, गौतम बुद्ध नगर‌ (‌नोएडा), गाजियाबाद, अमरोहा, बिजनौर आदि. यहां इस समुदाय के लोग मुख्य रूप से त्यागी सरनेम लगाते हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यह समुदाय सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से काफी मजबूत है. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 4 लोकसभा और 15 विधानसभा क्षेत्रों में इस समुदाय का दबदबा है. यहां यह‌ चुनाव परिणामों को प्रभावित करने और हार-जीत का फैसला करने की क्षमता रखते हैं. इस समुदाय के लोगों का दावा है कि अकेले गौतम बौद्ध नगर में त्यागी समुदाय के 7-8 लाख सदस्य निवास करते हैं. वहीं पूरे उत्तर प्रदेश में त्यागी समाज की आबादी 50 लाख से ज्यादा है. चूंकि इस समुदाय के कुछ लोग दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश और राजस्थान राज्यों में भी रहते हैं. इसीलिए भारत में त्यागी समाज की अनुमानित जनसंख्या 50 लाख से 75 लाख के बीच हो सकती है.


References:

•Tribe, Caste, and Peasantry,1974

Publisher:Ethnographic & Folk Culture Society, U. P.

•BRAHMINS WHO REFUSED TO BEG

Author Name: Anurag Sharma

•Vasant se patjhar tak

By Ravīndranātha Tyāgī, Indu Tyāgī, Aśoka Tyāgī · 2005

•https://www.nationalheraldindia.com/india/ups-tyagi-community-set-to-turn-against-bjp-for-unfair-action-against-shrikant-tyagi

•https://indianexpress.com/article/cities/delhi/politician-shrikant-tyagi-released-from-noida-jail-8221569/

Advertisement
Shopping With us and Get Heavy Discount Click Here
 
Disclaimer: Is content में दी गई जानकारी Internet sources, Digital News papers, Books और विभिन्न धर्म ग्रंथो के आधार पर ली गई है. Content  को अपने बुद्धी विवेक से समझे। jankaritoday.com, content में लिखी सत्यता को प्रमाणित नही करता। अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमें लिखें , ताकि हम सुधार कर सके। हमारा Mail ID है jankaritoday@gmail.com. अगर आपको हमारा कंटेंट पसंद आता है तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें। धन्यवाद Read Legal Disclaimer 
 

Leave a Reply