Ranjeet Bhartiya 26/01/2023

भारत पर विदेशी आक्रमणों का इतिहास पुराना है. सदियों तक विदेशी आक्रांताओं ने भारत पर आक्रमण किया और न केवल इसे लूटने का प्रयास किया बल्कि भारत की सांस्कृतिक विरासत, अस्मिता और गौरव को पूरी तरह नष्ट करने का भरसक प्रयास किया. ऐसे अनेक प्रयासों के बावजूद भारत का अस्तित्व अक्षुण्ण बना रहा और भारतीय […]

Sarvan Kumar 23/01/2023

ऋग्वेद (Rigveda) संसार में सबसे प्राचीन पुस्तक है। इसके रचनाकाल के विषय में इतिहासकार पूर्णत: असहमत हैं। कुछ लोग इसका रचना-काल 1000 ई०पू० के लगभग बताते हैं। कुछ विद्वान इसकी तिथि 3000 और 2500 ई०पू० के लगभग बताते हैं। कुछ विद्वान इसकी तिथि 3000 और 2500 ई०पू० के मध्य निश्चित करते हैं। आइए जानते हैं, […]

Sarvan Kumar 22/01/2023

हमें मुख्य रूप से तीन स्रोतों – जनगणना, सर्वेक्षण और प्रशासनिक रिकॉर्ड- से जनसांख्यिकीय और सामाजिक आंकड़ो के बारे में पता चलता है. ये आंकड़े नीति निर्माण, विकास योजनाएं बनाने, अनुसंधान सहित कई प्रशासनिक उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं. गजेटियर भी सूचनाओं का एक महत्वपूर्ण स्रोत है जिससे हमें कई प्रकार की सूचनाएं प्राप्त होती […]

Ranjeet Bhartiya 21/01/2023

पुस्तकें हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं. यह हमें जीवन के छोटे-बड़े विभिन्न पहलुओं से परिचित कराती हैं और हमें बेहतर जीवन के लिए तैयार करती हैं. किताबें हमें खुद को और दुनिया को समझने का एक अलग नजरिया देती हैं, साथ हीं हमारे सोच के दायरे को बढ़ाती हैं. महापुरुषों के जीवन […]

Ranjeet Bhartiya 20/01/2023

भारत की पवित्र भूमि पर अनेक ऐसे महापुरुष जन्म लेते रहे हैं, जिन्होंने अपने प्राणों की आहुति देकर समाज, देश और धर्म की रक्षा की है. भारत में महापुरुषों की जयंती मनाने की पुरानी परंपरा रही है. इस अवसर पर हम महापुरुषों के व्यक्तित्व, व्यवहार, चरित्र और संघर्ष को याद करते हैं और उन्हें नमन […]